दोहा मुक्तक........

05 अगस्त 2016   |  महातम मिश्रा   (394 बार पढ़ा जा चुका है)

दोहा मुक्तक........

 

पाप पाप होता सदा, कोई भी हो बाप

डंश जाता है आबरू, दूजे के सह आप

दुष्कर्म ही नींव रखे, उपजे अनीति धाम

पीड़ा दे जाते दुसह, पाल न बिच्छू सांप॥

 

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: मत्तगयंद/मालती सवैया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 अगस्त 2016
देसज कजरी लोकगीत......  मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना ले गयो चीर कदम की डारी, हम सखी रहीउघारी नामोहन हम तो शरम की मारी, रखि लो लाजहमारी ना....मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना  अब ना कबहुँ उघर पग डारब, भूल भई जलभारी नामोहन हम तो विरह की मारी, रखि लो लाजहमारी ना.....मोहन बाँके
05 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
गंगा यमुना कह रहीं, याद करों तहजीबहम कलकल बहते रहें, ढोते रहे तरकीबअवरुद्ध हुई है चाल, चलूँ मैं शिथिल धार   सागर संग लहराऊँ, चलूँ किसके नशीब।।  महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
16 अगस्त 2016
05 अगस्त 2016
कजरी गीत....चइताधुन  पुतरी खेल न हम जइबें, हो मैया ताल तलैया....... वहि ताल तलैया मैया, सारी सखियाँ सहेलिया बेर के बिरवा सजइबें, हो मैया ताल तलैया....... गोबर से गोठब मैया, तोरी सुनरी महलिया  नगवा के दूध चढ़इबें, हो मैया ताल तलैया...... कदमा की डाली मैया, डारब रेशमी डोरिया नेहिया के खूब झुलइबें, हो
05 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x