दोहा मुक्तक........

05 अगस्त 2016   |  महातम मिश्रा   (402 बार पढ़ा जा चुका है)

दोहा मुक्तक........

 

पाप पाप होता सदा, कोई भी हो बाप

डंश जाता है आबरू, दूजे के सह आप

दुष्कर्म ही नींव रखे, उपजे अनीति धाम

पीड़ा दे जाते दुसह, पाल न बिच्छू सांप॥

 

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: मत्तगयंद/मालती सवैया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अगस्त 2016
प्रदत शीर्षक- हौसला , उम्मीद , आशा , विश्वास , आदि समानार्थी दोहा मुक्तक........ हौसलों को संगलिए, उगाहुआ विश्वासचादर है उम्मीदकी, आशातृष्णा पास दो पैरों पर चलरहा, लादेबोझ अपार झुकती हुई कमरकहें, कंधाखासमखास॥  महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी    
10 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
“कुंडलिया”कल्पवृक्ष एक साधना, देवा ऋषि की राहपात पात से तप तपा, डाल डाल से छांह डाल डाल से छांह, मिली छाई हरियाली कहते वेद पुराण, अकल्पित नहि खुशियाली बैठो गौतम आय, सुनहरे पावन ये वृक्षमाया दें विसराय, अलौकिक शिवा कल्पवृक्ष॥ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी    
04 अगस्त 2016
05 अगस्त 2016
देसज कजरी लोकगीत......  मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना ले गयो चीर कदम की डारी, हम सखी रहीउघारी नामोहन हम तो शरम की मारी, रखि लो लाजहमारी ना....मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना  अब ना कबहुँ उघर पग डारब, भूल भई जलभारी नामोहन हम तो विरह की मारी, रखि लो लाजहमारी ना.....मोहन बाँके
05 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x