मगर तकसीम हिंदुस्तान होगा ...

06 अगस्त 2016   |  दिगम्बर नासवा   (129 बार पढ़ा जा चुका है)

जहाँ बिकता हुआ ईमान होगा

बगल में ही खड़ा इंसान होगा


हमें मतलब है अपने आप से ही

जो होगा गैर का नुक्सान होगा


दरिंदों की अगर सत्ता रहेगी

शहर होगा मगर शमशान होगा


दबी सी सुगबुगाहट हो रही है

दीवारों में किसी का कान होगा


बड़ों के पाँव छूता है अभी तक

मेरी तहजीब की पहचान होगा


लड़ाई नाम पे मजहब के होगी

मगर तकसीम हिंदुस्तान होगा

स्वप्न मेरे ...: मगर तकसीम हिंदुस्तान होगा ...

अगला लेख: वेश वाणी भेद तज कर हो तिरंगा सर्वदा ...



मगर तकसीम हिंदुस्तान होगा,.....वाह बहुत ही उम्दा सर|

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x