"नागपंचमी की याद"

08 अगस्त 2016   |  महातम मिश्रा   (114 बार पढ़ा जा चुका है)

सादर सुप्रभात मित्रों कल नेट समस्या के वजह से मन की बात न कह पाया, अत, पावन नागपंचमी की बधाई आज स्वीकारें......

"नागपंचमी की याद"
कल की बात है गाँव फोन किया तो पता चला आज दिन में नागपंचमी है और शाम को नेवान। मैंने कहाँ मना लेना भाई, साल का त्यौहार है। हम तो ठहरे परदेशी कहाँ नागपंचमी और कहाँ नेवान। बासी जिंदगी और बासी पकवान यहाँ सुलभ है चाहों जितना खा लो और खेल लो। गांव छूटा चिक्का और कबड्डी सपना हो गया हैं। अब तो याद भी नहीं आती, उछल- कूद सब खयाली पुलाव है और नया अन्न, खा तो लेते हैं पर देख नहीं पाते फिर नेवान किसका करें। प्रणाम किसको करें, यहां दिन में ही कोई किसी के घर नहीं जाता तो रात में राम रामी कैसे होगी, हाँ झुल्ला सबके घर है और लोग 365 दिन झूलते रहते हैं और बनाते खाते रहते हैं। अपनी बताओ, अरे भइया, ना पूछो अब गाँव भी कम नहीं है न नाग न पंचमी, सब पुरानी बाते हैं अब कोई कही नहीं नहीं जाता, अपने अपने ओसारे में ही सब लोग, अपने तरह से कुश्ती कर लेते हैं और चिक्का कूद लेते हैं। हां नेवान जरूर करते हैं पर घूम कर सबसे आशीर्वाद लेना, अपने आप को छोटा मानने का काम है अतः लोग छोटा काम नहीं करते, रही बात झूले की तो न ढंग के पेड़ हैं न कोई अब झूलना ही पसंद करता है। बिना झूले के ही सबको घूमटा आ जाता है और लोग चकराने लगते हैं। अब तो फेसबुक, वाट्सएप पर ही सारे त्यौहार, रश्म- रिवाज मनाए जाते हैं। अच्छा भइया अब चलते हैं सब्जी लाना है कल नेवान के बाद नेट महाराज खुश रहे तो प्रणाम, आशीर्वाद होगा। जय राम जी की.........
आप सभी को नागपंचमी और नवान्न की हार्दिक बधाई सह मंगलमयी शुभकमना.......
महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: मत्तगयंद/मालती सवैया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 अगस्त 2016
देसज कजरी लोकगीत......  मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना ले गयो चीर कदम की डारी, हम सखी रहीउघारी नामोहन हम तो शरम की मारी, रखि लो लाजहमारी ना....मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना  अब ना कबहुँ उघर पग डारब, भूल भई जलभारी नामोहन हम तो विरह की मारी, रखि लो लाजहमारी ना.....मोहन बाँके
05 अगस्त 2016
27 जुलाई 2016
मत्तगयंद/मालती सवैया 211 211 211 211 211 211 211 22<!--[if !supportLineBreakNewLine]--><!--[endif]-->नाचत, गावत शोर मचावत, बाजत सावन में मुरली है भोर भयो चित चोरगयो भरि, चाहत मोहन ने हरली है॥  साध जिया मग का यहचातक, ढूंढ़त ढूरत घा करली है गौतम नेह बिना नहिभावत, काजल नैनन में भरली है॥ महातम मिश्र, गौत
27 जुलाई 2016
11 अगस्त 2016
चित्र अभिव्यक्ति आयोजन“कुंडलिया” सतरंज के विसात पर, मोहरे तो अनेकचलन लगी है चातुरी, निंदा नियत न नेक    निंदा नियत न नेक, वजीर घिर गया राजागफलत का है खेल , बजाए जनता बाजा गौतम घोड़ा साध, खेल में खेल न रंज राजा को दे मात, अढ़ैया पढ़ें सतरंज॥  महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी 
11 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x