पिरामिड..........

08 अगस्त 2016   |  महातम मिश्रा   (63 बार पढ़ा जा चुका है)

1-

ये

खेत

उगाते

हरियाली

करो न रंगाई

बीज खूं न भरो

उगी है बेहयाई॥

2-  

है

यही  

सड़क

जो जाती

तुम्हारे घर

निहारती खेत

देखते हुए नेत॥

 

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी     

अगला लेख: मत्तगयंद/मालती सवैया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2016
गी
गीतिका- आधार छंद - आनंदवर्धक मापनी 2122 2122 212हाल ए गम में दिवाना आ गयाउफ़यहाँ तो मय खजाना आ गयासाफ़कर दूँ क्या हिला कर बोतलेंशामआई तो जमाना आ गया।।देखिये यह तो न पूछें जानकरदागदीवारें दिखाना आ गया।।उलझनों में बीत जाती जिंदगी आपकहते हैं बहाना आ गया।।दोपहर यह ताक पर है साहबासुबहकिसका अब सुहाना आ गया।
27 जुलाई 2016
05 अगस्त 2016
"
उगे दिनों में तारे धूप, रातों को दिखाए सपना इश्तहारीचौराहे पर, देख लटक चेहरा अपना इतनेनादां भी नहीं हम, छिछले राज न समझ पाएं गफलतमें भटके हुए हैं, उतार ले मोहरा अपना।।चिढ़ रही हैं लचरती सड़क, मौन बेहयाई देखकर उछलतेकीचड़ के छीटें, तक दामन दरवेश अपना।।कहीं ऐसा कुंहराम न तक, मचाएं फूदकती गलियां सलामतहाथों
05 अगस्त 2016
27 जुलाई 2016
“सेल्फ़ी, अच्छीया बुरी” अतिका भला न बोलना, अतिकी भली न चूप। अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप॥ यानिअति सर्वत्र वर्जयेत। जैसा कि अकसर देखा जाता है कि हर तसवीर के दो पहलू होते हैंऔर दोनों को गले लगाने वाले लोग भी प्रचूर मात्रा में मौजूद हैं। उन्हीं लोगों मेंसे अपना-अपना एक अलग ही रूप लेकर ईर और बीर,
27 जुलाई 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x