रचनात्मकता

10 अगस्त 2016   |  डाॅ कंचन पुरी   (516 बार पढ़ा जा चुका है)

रचनात्मकता

व्यक्ति की रचनात्मक प्रवृत्ति तब अधिक निखर कर आती है जब वह मुक्त होकर सोचता है। 

मुक्त सोच के अनुसार कुछ नया करने का प्रयास करने पर भी रचनात्मकता आती है। 

अपनी मुक्त सोच को अपनी रचनात्मक रुचि के अनुसार विकसित करें। 

ऐसा करने से आपके कार्य में नवीनता होगी और लक्ष्य प्राप्ति का मार्ग प्रशस्त करने में भी सरलता रहेगी। 

रचनात्मकता संग किए गए कार्यों से जल्दी मन भी उचाट नहीं होता है और कार्य को करने में मन भी लगता है। 

प्रत्येक को अपने कार्यों में रचनात्मकता को अवश्य शामिल करना चाहिए जिससे जीवन सदैव उन्नत पथ पर अग्रसर हो। 

अगला लेख: शब्‍द सामर्थ्‍य बढ़ाईए - 21



रेणु
07 फरवरी 2017

बहुत बड़ा सन्देश

सारगर्भित

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अगस्त 2016
आज का सुवचन
18 अगस्त 2016
02 अगस्त 2016
1. जरा          क-थोड़ा          ख-क्षीणता          ग-बुढ़ापा            2. जलद      क-जल        ख-बादल        ग-छाता          3. जलधि       क-समुद्र        ख-जल सदृश           ग-बादल           4. जलवाह              क-तालाब         ख-पोखर           ग-मेघ          उत्तर1. ग  2. ख 3. क 4. ग
02 अगस्त 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
28 जुलाई 2016
1. जिमनार       क-व्यायामशाला      ख-कसरत      ग-भोज        2. जिष्णु   क-शारीरिक    ख-विजयी    ग-विषाणु      3. जील    क-हल्की, धीमी    ख-उत्साह       ग-जला हुआ       4. जीवेश          क-जीता हुआ     ख-जीवन       ग-ईश्वर      उत्तर 1. ग   2. ख 3.
28 जुलाई 2016
01 अगस्त 2016
1. चितेरा         क-चित्त         ख-चित्र         ग-चित्रकार           2. चिरायु     क-आयु       ख-दीर्घायु       ग-विनती         3. चिलका      क-नवजात शिशु       ख-टुकड़ा          ग-क्षणिक          4.
01 अगस्त 2016
12 अगस्त 2016
जी
 जिंदगी तमाम अजब - अनूठे कारनामों से भरी हैं .ईन्सान अपनी तमाम भरपूर कोशिशों के बाबजूद भी उस पर सवार होकर अपनी मनमर्जी से जिन्दगीं नहीं जी पाता .वह अपनी ईच्छानुसार मोडकर उस पर सवारी नहीं कर सकता .क्योकि जिन्दगीं कुदरत का एक घोडा हैं अर्थात जिन्दगीं की लगाम कुदरत के हाथों में हैं जिस पर उसके सिवाय कि
12 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
खु
              दुनियां में हमारे पर्दापर्ण होते ही हम कई रिश्तों से घिर जाते हैं .रिश्तों का बंधन हमारे होने का एहसास करता हैं .साथ ही अपने दायीत्यों व् कर्तब्यों का.जिन्हें हम चाह कर भी अनदेखा नहीं कर सकते और न ही उनसे बन्धनहीन .लेकिन सच्ची दोस्ती दुनियां का वह नायाब तोहफा हैं जिसे हम ही तय करते हैं
07 अगस्त 2016
27 जुलाई 2016
1. चलावा      क-विचलित     ख-छलना     ग-रीति       2. चला  क-चलना   ख-बिजली   ग-अस्थिर     3. चवाई   क-निंदक   ख-चपल      ग-चाल      4. चांइयां         क-चहक    ख-चहकना      ग-धूर्त     उत्तर 1. ग   2. ख 3. क 4. ग
27 जुलाई 2016
10 अगस्त 2016
जि
जिंदगी गडित के एक सवाल की तरह हैं जिसमें सम विषम संख्यायों की तरह सुलझें - अनसुलझें साल हैं .हमारी दुनियां वृत की तरह गोल हैं जिस पर हम परिधि की तरह गोल गोल घूमतें रहते हैं .आपसी अंतर भेद को व् जीवन में आपसी सामंजस्य बिठाने के लिए  कभी हम जोड़ - वाकी करते हैं तो कभी हम गुणा भाग करते हैं .लेकिन फिर भी
10 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
1. चौबारा            क-खिड़की             ख-दरवाजा             ग-चहुं ओर खिड़की दरवाजे वाला कमरा               2. चौरा        क-चार दिशाएं          ख-चबूतरा           ग-चोर             3. चौर्योन्‍माद         क-चोरी करने का चस्‍का          ख-चोर             ग-दस्‍यु              4. च्‍युति          
07 अगस्त 2016
11 अगस्त 2016
म्हारा जीवन तराजू समान हैं जिसमें सुख और दुःख रूपी दो पल्लें हैं और डंडी जीवन को बोझ उठाने वाली सीमा पट्टी हें .काँटा जीवन चक्र के घटने वाले समयों का हिजाफा देता हैं .सुख दुःख के किसी भी पल्ले का बोझ कम या अधिक होनें पर कांटा डगमगाने लगता हैं सुख दुःख रूपी पल्लों की जुडी लारियां उसके किय कर्मो की सू
11 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x