मेन्टल हेल्थकेअर बिल 2013

11 अगस्त 2016   |  मांडवी   (103 बार पढ़ा जा चुका है)

parliament 

भारत अब धीरे धीरे स्वच्छ बन रहा है। कलंक और गलत भावनाओं से मुक्त होने के लिए भारत सरकार ने अहम कदम उठाया है, मेन्टल हेल्थ केयर बिल 2013 को राज्य सभा ने सोमवार को  पास किया है, और उसे जल्द ही लोक सभा में भी पढा जाएगा।

पिछले दिन quora में किसी ने मुझसे पूछा, कि वह  एसपर्जर सिंड्रोम (Asperger’s Syndrome) से जूझते व्यक्ति को पसन्द नहीं करता, तो ये सही है या नहीं; मैंने उसे समझाया की वे खुद अपने मानसिकता को गलत तरफ ले जा रही हैं  और उसे हम अपने देश को भविष्य में कैसा देखना चाहते हैं? पढ़ने के लिए दिया; उस पर एक और व्यक्ति ने मज़ाकिया  रूप  से  कमेंट किया, कि "भारत को स्वच्छ होने में अभी पीढ़ियों लग जाएंगे।"

मुझे बेहद बुरा लगा, लेकिन आज मैं गर्व के साथ कह सकती हूँ, की नहीं, भारत को पीढ़ियों नहीं लगेंगे खुद को कलंक मुक्त करने के लिए।

मानसिक रोग से जूझते लोगों को भारत सरकार से काफी मदद और भरोसा मिल रहा है, ताकि वे अपने अधिकार और चिकित्सा का सही लाभ उठा सकें।

2013 का ये बिल 1987 के बिल के परिवर्तन में लाया गया है, जिनमें कुछ अहम बदलाव किये गए हैं।विस्तार से पढ़ें...

अगला लेख: स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 अगस्त 2016
मोदी सरकार में लोगों ने भ्रष्टाचार की सबसे ज्यादा शिकायतें किस विभाग को लेकर की - नई दिल्ली : इंडिया संवाद ब्यूरोनई दिल्ली : भले केंद्र में नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार सिस्टम के तंदुरस्त होने की बात कर रही है लेकिन लोगों की परेशानियां अब भी ज्यों की त्यों बनी हुई हैं। लोकसभा में एक सवाल के ज
04 अगस्त 2016
17 अगस्त 2016
गमज़दा रात है बेवफा ए उल्फ़त भी है और तन्हाई है दीवानगी सी लगती है बस वीरानगी सी छाई है  - रविंदर विज 
17 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
मुसकुरा कर फूल को ,यार पागल कर दिया प्यार ने अपना जिगर ,नाम तेरे कर दिया आस से ना प्यास से ,दूर से ना पास से आँख तुमसे जब मिली ,बात पूरी कर दिया 
08 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
हम अपनी सोच और भावनाओं को पंख देने के लिए काल्पनिक कथा और कहानियां पढ़ते हैं। कल्पना की दुनिया अनोखी होती है; उसका वास्तविक घटना और लोगों से मेल होता भी है, और कभी कभी नहीं भी होता। पर काल्पनिक चरित्र और लोग हमें अकसर प्रभावित करते हैं।हम उनके साथ जुड़ते हैं, उनसे मेलजोल करते हैं, और देखते ही देखते
23 अगस्त 2016
19 अगस्त 2016
भा
दूसरों को समझने के लिए उनके जज़्बातों को नाम देना ज़रूरी है।"मैं तंग आ चुकी हूँ... अब और नहीं, मैंने सोच लिए है, की मैं उससे जल्द ही ब्रेक अप कर लूंगी", ऐसी बातें हमको रोज़ सुनने को मिलती हैं। हमारे दोस्त हमसे अपने दिल की बात करते हैं। ऐसी स्थिति में, हम कैसा जवाब देते हैं? ज़्यादा तर समय हम कहते हैं "त
19 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
क्
हैरानी की बात है, ऐसे युग में, जहां सेक्स के बारे में हर जगह से हमें पूरी जानकारी मिल रही है, ताकि इस विषय पर कोई भी अज्ञात ना रहे, हमारे रोज़ के जीवन में इस स्वाभाविक प्राकृतिक हरकत का घटाव नज़र आ रहा है।सांख्यिकीय रूप से जांच करने पर पता चलता है, की 16-44 वर्षीय लोगों में, महिलाएं महीने में ४.५ बा
22 अगस्त 2016
14 अगस्त 2016
स्
प्रिय दोस्तोंभारत आज स्वतंत्रता की ७० वां सालगिरह मना रहा हैं, इस अवसर पर आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें । और हमने खास तौर से यह एक एनीमेशन तैयार किया है, इसे देखिये और अच्छा लगे तो शेयर करिये ।जय हिन्द |एनीमेशन
14 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
 (यह लेख सुप्रसिद्ध साइकेट्रिस्ट (मनोरोग-विशेषज्ञ) डॉक्टर सुशील सोमपुर के द्वारा लिखे लेख का हिंदी रूपांतरण है।) जो व्यक्ति अवसाद की स्थिति से गुजर रहा होता है, उसके लिए ये कोई पाप की सजा या किसी पिछले जन्म के अपराध की सजा के जैसी लगती है, और जिन लोगों का उपचार किया गया और वे बेहतर हो गए उन्हें ये क
07 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
  तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,बीरान सी भी .वो बावली बौराई सरफिरीलड़की कहाँ छुपी है रे ? जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों मेंधकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद कोजब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद . क्यों बिगड़ती हो यूँ ?जानती हो न ,तु
16 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x