बिरयानी

11 अगस्त 2016   |  हर्ष वर्धन जोग   (145 बार पढ़ा जा चुका है)

बिरयानी

Sketches from Life: बिरयानी केबिन में एक महिला आई, - नमस्ते सर. मेरी बहन का खाता यहीं है जी. पिछले महीने बहन गुजर गई जी. तो उसका पैसा दिलवा दो जी. काउंटर पे तो मना कर रहे जी. यूँ कह रहे हैं की मैनेजर साब ही पास करेंगे.पास बुक देखी तो आफरीन के खाते में 5.70 लाख थे. शायद कहीं नौकरी कर रही होगी क्यूंकि हर महीने सैलरी आ रही थी. खाता चेक किया तो बहुत पुराना था. ना तो कोई फोटो लगी हुई ना ही कोई नामांकन. पुरानी पुरानी ब्रांच ों के दुखी करने वाले लफड़े. वैसे भी मृत मुस्लिम महिला का उत्तराधिकारी कौन होगा तय करने के लिए वकील से बात करनी पड़ेगी और मोहल्ले में भी पूछताछ करनी पड़ेगी. रीजनल मैनेजर को केस बना कर भेजना पड़ेगा. दो तीन महीने का काम हो गया ये.और जानकारी लेने के लिए पुछा तो पता लगा,- जी मेरी बहन आफरीन भी टीचर थी. उसकी भी शादी नहीं हुई थी जी. अठ्ठावन की थीं जी और हमारे पेरेंट्स तो बहुत पहले ही अल्लाह को प्यारे हो लिए जी. आफरीन के पैसे लेने के लिए क्या करना होगा सर?मोहल्ले में पूछताछ की तो पता लगा की दोनों बहनें आयशा और आफरीन अकेले ही रहती थीं. उनके पिता एक टेलर थे और दो मंजिले मकान के निचले कमरे में अच्छी खासी दुकान चलाते थे. किसी सड़क दुर्घटना में उनका इन्तेकाल हो गया. अम्मा ने किसी तरह दूकान जारी रक्खी. बेटियों की मदद से जनाना कपड़ों की सिलाई जारी रही. आयशा और आफरीन ने पढ़ाई जारी रखी. शादी अब होगी तब होगी करते करते समय निकलता रहा और दोनों ही इस दौरान एमए पास कर गयीं. प्राइमरी स्कूल में दोनों ही टीचर लग गयीं. एक दिन अम्मा भी गुज़र गई. अब कौन लड़का देखे और कौन बात चलाए शादी की. शादी का समय भी खिसकने लग गया और धीरे धीरे निकल ही गया. अब आफरीन 58 बरस की हो कर गुज़र गयीं और 54 बरस की आयशा अकेली रह गयी. मोहल्ले में दोनों की अच्छी साख थी. गरीब बच्चियों को दोनों मदद करती रहती थीं इसलिए उनकी इज्ज़त भी करते थे लोग. सारी पूछताछ करने के बाद कागज़ पत्तर समेत रिपोर्ट रीजनल मैनेजर को भेज दी. जवाब आने के बाद देखा जाएगा क्या कारवाई करनी है. पर आयशा बड़ी बैचैनी से पूछताछ करने आ जाती थी.एक दिन टीकरी कलाँ ब्रांच का केशियर अनवर मिलने आ गया और आफरीन के केस के बारे में पूछने लगा की पेमेंट मिलने में बहुत देर हो रही है. अगर वो कुछ लिख कर दे तो क्या जल्दी मामला सेटल हो जाएगा?- आपको तो पता होगा की केस रीजनल ऑफिस में पड़ा हुआ है. फिर भी आप मदद करना चाहते हो तो अपनी गारंटी दे दो तो काम आसान हो जाएगा. अभी तो दो तीन साल की नौकरी आपकी बकाया है. आपकी रिश्तेदारी है या जान पहचान है क्या?- ना सर कोई रिश्तेदारी नहीं है और जान पहचान भी नहीं है बस बिरादरी की हैं. पर गारंटी मैं दे दूंगा.दस दिन में ही पेमेंट हो गई. पेमेंट के अगले दिन ही आयशा मिठाई का डिब्बा लेकर केबिन में आई और पीछे पीछे खिसियाता और मुस्कुराता हुआ अनवर भी आ गया.- अनवर आप तो कहते थे रिश्तेदारी भी नहीं है और जान पहचान भी नहीं है पर अब तो बड़ी नजदीकी रिश्तेदारी दिख रही है.- साब आयशा कहने लगी कि अम्मा को भी अकेले जाते देखा और आफरीन को भी इसलिए मैं परिवार में रहना चाहती हूँ अकेले नहीं.- मुबारक हो. सन्डे शाम को बिरयानी तैयार रखना ! Sketches from Life: बिरयानी

अगला लेख: पहाड़ी गाँव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 अगस्त 2016
गाड़ी हरिद्वार स्टेशन पर रुकी तो मन्नू उतरा. सामान के नाम पे एक झोला था जिसमें दो जोड़ी कपड़े और टूथ ब्रश वगैरा था. जेब में टिकट तो था नहीं इसलिए प्लेटफार्म की तरफ ना उतर कर दूसरी ओर उतरा. गाड़ी के साथ साथ उलटी
22 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
चीफ साब ने ब्रांच के सभी अफसरों और मैनेजरों को केबिन में बुला लिया और मुखातिब हुए, .....Sketches from Life: ऑडिटर आया चीफ साब ने ब्रांच के सभी अफसरों और मैनेजरों को केबिन में बुला लिया और मुखातिब हुए, - भई 31 मार्च गई और अब ऑडिटर आया समझो. ये लैटर आ गया है और मैंने फ़ोन पर बात भी कर ली है. दिल्ली से
04 अगस्त 2016
28 जुलाई 2016
पिछले दिनों लैंसडाउन, जिला पौड़ी गढ़वाल के नजदीक गाँव जिबल्खाल में जाने का मौका मिला जो दिल्ली से लगभग 260 किमी दूर ..... एक फोटो-ब्लॉग Lainsdowne,लैन्सडौन,पहाड़,गांव, Sketches from Life: पहाड़ी गाँव
28 जुलाई 2016
14 अगस्त 2016
पहाड़ ी घुमावदार रास्ता हो और हरे भरे जंगल में से गाड़ी हिचकोले खाती जा रही हो तो बड़ा आनंद आता है. दिल चाहता है की गाड़ी चलती रहे और ऊपर और ऊपर. पर अगर इसी रास्ते से जाकर ऑफिस में हाजिरी लगानी हो तो? फिर तो ना हरियाली दिखती है और ना ही रास्ता पसंद आता है. फिर तो कमर दुखती है, सिर चकराता है और रीजनल मै
14 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
बॉस तो बॉस होता है और हर एक का कोई बॉस होता है. और उस बॉस का भी कोई बॉस होता है और उस बॉस के ऊपर भी एक कमबखत होता है. खैर छोड़िये हमें तो अपने बॉस से मतलब है जो कि झुमरी तल्लिय्या के रीजनल मैनेजर है.आइये आप को मिलवा देते हैं गोयल साब स
22 अगस्त 2016
14 अगस्त 2016
पहाड़ ी घुमावदार रास्ता हो और हरे भरे जंगल में से गाड़ी हिचकोले खाती जा रही हो तो बड़ा आनंद आता है. दिल चाहता है की गाड़ी चलती रहे और ऊपर और ऊपर. पर अगर इसी रास्ते से जाकर ऑफिस में हाजिरी लगानी हो तो? फिर तो ना हरियाली दिखती है और ना ही रास्ता पसंद आता है. फिर तो कमर दुखती है, सिर चकराता है और रीजनल मै
14 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
हस्तिनापुर एक छोटा सा शहर है जो मेरठ जिले में है और दिल्ली से लगभग 110 किमी की दूरी पर है .....Sketches from Life: हस्तिनापुर के जैन मंदिर हस्तिनापुर एक छोटा सा शहर है जो मेरठ जिले में है और दिल्ली से लगभग 110 किमी की दूरी पर है. मेरठ-मवाना रोड NH 119 पर स्थित हस्तिनापुर, मेरठ शहर से 35 किमी की दूर
07 अगस्त 2016
28 जुलाई 2016
कैसी कैसी ख़बरें मिलती हैं पढ़ने को. मसलन परसों ही इस खबर पर नज़र पड़ी की ग्यारह साल बाद कंज्यूमर कोर्ट ने फैसला सुनाया.कोर्ट केस,कोंज्युमर कोर्ट,बैंक,ब्रांच,मुकदमा, Sketches from Life: सब चलता है
28 जुलाई 2016
31 जुलाई 2016
हमारे रीजनल मैनेजर गोयल साब आजकल बड़े खुश नज़र आ रहे हैं. मुस्कराहट एक कान से दूसरे कान तक पहुँच रही है .....रीजनल मैनेजर,ब्रांच,मैनेजर,डेंटिस्ट,दांतों का डॉक्टर, Sketches from Life: दांतों का डॉक्टर
31 जुलाई 2016
07 अगस्त 2016
खादी के एक झोले में टूथब्रश डाला, कुछ कपड़े डाले आैर बस गाँव जाने की तैयारी हो गई......Sketches from Life: गाँव की ओर स्कूल की शिक्षा पूरी हो चुकी थी और कॉलेज जाने के बीच कुछ अन्तराल था. सो कुछ समय गाँव मे रहने का मन बना लिया. खादी के एक झोले में टूथब्रश डाला, कुछ कपड़े डाले आैर बस गाँव जाने की तैया
07 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
चीफ साब ने ब्रांच के सभी अफसरों और मैनेजरों को केबिन में बुला लिया और मुखातिब हुए, .....Sketches from Life: ऑडिटर आया चीफ साब ने ब्रांच के सभी अफसरों और मैनेजरों को केबिन में बुला लिया और मुखातिब हुए, - भई 31 मार्च गई और अब ऑडिटर आया समझो. ये लैटर आ गया है और मैंने फ़ोन पर बात भी कर ली है. दिल्ली से
04 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
नैनो का नाम लेते ही कार की याद आ जाती है. सबसे छोटी और सबसे सस्ती कार जो ना अब सस्ती रही और ना छोटी. आजकल बदलाव तो तेजी से आ रहा है चाहे जीवन का कोई भी क्षेत्र हो. पहले चलने वाले बड़े और भारी भरकम टीवी, मोबाइल फ़ोन और कंप्यूटर छोटे, हलके और
22 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
22 अगस्त 2016
29 जुलाई 2016
12 अगस्त 2016
06 अगस्त 2016
S
23 अगस्त 2016
03 अगस्त 2016
29 जुलाई 2016
06 अगस्त 2016
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x