जीवनएक अमूल्य धरोहर हैं

12 अगस्त 2016   |  बबिता गुप्ता   (171 बार पढ़ा जा चुका है)

 जिंदगी तमाम अजब - अनूठे कारनामों से भरी हैं .ईन्सान अपनी तमाम भरपूर कोशिशों के बाबजूद भी उस पर सवार होकर अपनी मनमर्जी से जिन्दगीं नहीं जी पाता .वह अपनी ईच्छानुसार मोडकर उस पर सवारी नहीं कर सकता .क्योकि जिन्दगीं कुदरत का एक घोडा हैं अर्थात जिन्दगीं की लगाम कुदरत के हाथों में हैं जिस पर उसके सिवाय किसी की मनमर्जी नहीं चलती .क्योकि यह घोडा कुदरत के नियमों का उल्लंघन नहीं कर सकता .जीवन एक अमूल्य धरोहर हें .यह ईश्वर का दिया एक ऐसा नायाव तोहफा हैं ,जो पुनर्जन्म में किए गए पाप - पुण्यों का फल हैं .किसी भी रूप में हमारा जीवन हो उसकी हमें कद्र करनी चाहिए और ईश्वर चिंगारी जला दे .चिंगारी से उठनें वाला प्रकाश रास्ते मका हमें तहें दिल से धन्यवाद देना चाहिए की ईस संसार मेन्न्कुछ ऐसा नया करने के लिए पर्दापर्ण किया हैं जिसे लोग हमारे अपने कामों के लिए सदियों तक याद रखे .हमारा रूप - कुरूप हो उसके लिए हमें न तो भ्फ्वान को दोषी ठहराना चाहिए और न ही हमें अपने जन्म दात्री को .एक समय पश्चात हम अपना भला बुरा सोचनें लगते हैं .जिन्दगीं भर हमें अपनी जन्म जात कमियों के लिए हमें अपने आप को कोश्ते हुए जीवन की निरुद्धेश्य नहीं बनाना चाहिए और न ही माता - पिता को हर पल दोष देकर दुखी करना चाहिए .हमें अपनी कमजोरियों को चाहे वो शारीरिक हो या मानसिक या फिर सामाजिक ,सभी को दर किनार करते हुए एक ऐसी मिशाल काय्म्क्रना चाहिए जिसकी ज्वाला सोए हुए जीवन से हताश हुए लोगों में आशावादी नजरिया देखनें मे आने वाले रूकावटो को, नाकाम करने वाले ईरादों को, अपनी कोशिशों सेजला कर राख कर दे .भगवान की दी हुई ईस अनमोल ,अमूल्य काया को निधि मानकर ईसकी पूजा करनी चाहिए ,न की टिल - टिल कर मरने के लिए छोड़ देना चाहिय .यह ईश्वर का दिया हुआ प्रसाद हैं जिसे हमें दिल से स्वीकार करना चाहिए न की हमें तिरस्कार करके धूल - धूसरित होने के लिए फ़ेंक देना चाहिए, जिससे चींटे - कीड़े रूपी हष्ट - पुष्ट काया वाले ,नोंच - नोंच कर जीवन को तार - तार करके पराश्रित बेल की तरह नरकीय बना दे .ईसलिए ईस अमानत को समाज की धरोहर समझकर सुरक्षा करनी चाहिए .

अगला लेख: जिन्दगी का गडित



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 अगस्त 2016
जि
जिन्दगी एक जुआ की तरह हैं ,जिसमे ताश के पत्तों की तरह जीवन की खुशियाँ बखर जाती हैं .जब तक जीवन में सुखों का अंबार लगा रहता हैं तब तक हमें उन लम्हों अ आभास ही नहीं होता हैं जो हमारी हंसती ,मुस्कराती ,रंग - बिरंगी दुनियां में घुसपैठ कर बैठती हैं और जीवन की खुशनुमा लम्हों की लड़ीबिखर कर ,छितर कर गम हो ज
15 अगस्त 2016
10 अगस्त 2016
जि
जिंदगी गडित के एक सवाल की तरह हैं जिसमें सम विषम संख्यायों की तरह सुलझें - अनसुलझें साल हैं .हमारी दुनियां वृत की तरह गोल हैं जिस पर हम परिधि की तरह गोल गोल घूमतें रहते हैं .आपसी अंतर भेद को व् जीवन में आपसी सामंजस्य बिठाने के लिए  कभी हम जोड़ - वाकी करते हैं तो कभी हम गुणा भाग करते हैं .लेकिन फिर भी
10 अगस्त 2016
14 अगस्त 2016
जी
ईन्सानी जिन्दगी को कुदरत ने अपने नियमों से उसके पूरे स्प्फ्र को मौसमों की तरह बाँट रखा हैं .क्योकि जिन्दगी एक मौसम की तरह होता हैं .कब उसके जीवन में बसंत भार कर दे की मनुष्य सब विपदाओं से मिले दुखित नासूर को भूलकर एक रंग - बिरंगी सपनों की दुनियां की मल्लिका बना दे .और कब यह हरा - भरा जीवन सुखी जीवन
14 अगस्त 2016
02 अगस्त 2016
1. जरा          क-थोड़ा          ख-क्षीणता          ग-बुढ़ापा            2. जलद      क-जल        ख-बादल        ग-छाता          3. जलधि       क-समुद्र        ख-जल सदृश           ग-बादल           4. जलवाह              क-तालाब         ख-पोखर           ग-मेघ          उत्तर1. ग  2. ख 3. क 4. ग
02 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
आप यह जान लें कि मन्त्र में विघ्‍न दूर करने की शक्ति होती है। भौतिक विज्ञान के जानकार कहते हैं कि ध्वनि कुछ नहीं है मात्र विद्युत के रूपान्तरण के। जबकि अध्यात्म शास्त्री कहते हैं कि
20 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x