जीवनएक अमूल्य धरोहर हैं

12 अगस्त 2016   |  बबिता गुप्ता   (155 बार पढ़ा जा चुका है)

 जिंदगी तमाम अजब - अनूठे कारनामों से भरी हैं .ईन्सान अपनी तमाम भरपूर कोशिशों के बाबजूद भी उस पर सवार होकर अपनी मनमर्जी से जिन्दगीं नहीं जी पाता .वह अपनी ईच्छानुसार मोडकर उस पर सवारी नहीं कर सकता .क्योकि जिन्दगीं कुदरत का एक घोडा हैं अर्थात जिन्दगीं की लगाम कुदरत के हाथों में हैं जिस पर उसके सिवाय किसी की मनमर्जी नहीं चलती .क्योकि यह घोडा कुदरत के नियमों का उल्लंघन नहीं कर सकता .जीवन एक अमूल्य धरोहर हें .यह ईश्वर का दिया एक ऐसा नायाव तोहफा हैं ,जो पुनर्जन्म में किए गए पाप - पुण्यों का फल हैं .किसी भी रूप में हमारा जीवन हो उसकी हमें कद्र करनी चाहिए और ईश्वर चिंगारी जला दे .चिंगारी से उठनें वाला प्रकाश रास्ते मका हमें तहें दिल से धन्यवाद देना चाहिए की ईस संसार मेन्न्कुछ ऐसा नया करने के लिए पर्दापर्ण किया हैं जिसे लोग हमारे अपने कामों के लिए सदियों तक याद रखे .हमारा रूप - कुरूप हो उसके लिए हमें न तो भ्फ्वान को दोषी ठहराना चाहिए और न ही हमें अपने जन्म दात्री को .एक समय पश्चात हम अपना भला बुरा सोचनें लगते हैं .जिन्दगीं भर हमें अपनी जन्म जात कमियों के लिए हमें अपने आप को कोश्ते हुए जीवन की निरुद्धेश्य नहीं बनाना चाहिए और न ही माता - पिता को हर पल दोष देकर दुखी करना चाहिए .हमें अपनी कमजोरियों को चाहे वो शारीरिक हो या मानसिक या फिर सामाजिक ,सभी को दर किनार करते हुए एक ऐसी मिशाल काय्म्क्रना चाहिए जिसकी ज्वाला सोए हुए जीवन से हताश हुए लोगों में आशावादी नजरिया देखनें मे आने वाले रूकावटो को, नाकाम करने वाले ईरादों को, अपनी कोशिशों सेजला कर राख कर दे .भगवान की दी हुई ईस अनमोल ,अमूल्य काया को निधि मानकर ईसकी पूजा करनी चाहिए ,न की टिल - टिल कर मरने के लिए छोड़ देना चाहिय .यह ईश्वर का दिया हुआ प्रसाद हैं जिसे हमें दिल से स्वीकार करना चाहिए न की हमें तिरस्कार करके धूल - धूसरित होने के लिए फ़ेंक देना चाहिए, जिससे चींटे - कीड़े रूपी हष्ट - पुष्ट काया वाले ,नोंच - नोंच कर जीवन को तार - तार करके पराश्रित बेल की तरह नरकीय बना दे .ईसलिए ईस अमानत को समाज की धरोहर समझकर सुरक्षा करनी चाहिए .

अगला लेख: जिन्दगी का गडित



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अगस्त 2016
म्हारा जीवन तराजू समान हैं जिसमें सुख और दुःख रूपी दो पल्लें हैं और डंडी जीवन को बोझ उठाने वाली सीमा पट्टी हें .काँटा जीवन चक्र के घटने वाले समयों का हिजाफा देता हैं .सुख दुःख के किसी भी पल्ले का बोझ कम या अधिक होनें पर कांटा डगमगाने लगता हैं सुख दुःख रूपी पल्लों की जुडी लारियां उसके किय कर्मो की सू
11 अगस्त 2016
15 अगस्त 2016
जि
जिन्दगी एक जुआ की तरह हैं ,जिसमे ताश के पत्तों की तरह जीवन की खुशियाँ बखर जाती हैं .जब तक जीवन में सुखों का अंबार लगा रहता हैं तब तक हमें उन लम्हों अ आभास ही नहीं होता हैं जो हमारी हंसती ,मुस्कराती ,रंग - बिरंगी दुनियां में घुसपैठ कर बैठती हैं और जीवन की खुशनुमा लम्हों की लड़ीबिखर कर ,छितर कर गम हो ज
15 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
गु
पद्मभूषण  से सम्मानित राष्ट्र कवि श्री मैथिली शरण जी की जयंती को प्रति वर्ष ३ अगस्त को कवि दिवस के रूप में मनाते हैं .मूल्यों के प्रति आस्था के अग्रदूत गुप्तजी चंद रचनाओं से कुछ प्रेरित प्रसंग .भारतीय संस्क्रति का दस्तावेज भारत भारती काव्य में मिलता हैं .मानव जागरण शक्ति को वरदान देती हैं ' हम कौन थ
07 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
आज का सुवचन 
08 अगस्त 2016
13 अगस्त 2016
जी
मौसमों की तरह बदलते जीवन में आपदाओं विपदाओं का आवागमन होता रहता हैं .फिर भी हम जीवन को त्यौहारों ,उत्सवों,पर्वो की तरह जीते हैं .जीवन त्यौहारों जैसा हैं,जिसे हम हंसी ख़ुशी हर हाल में मनाते हैं .जीवन में होली के रंगों की तरह रंग - बिरंगी सुख दुःख के किस्से होते हैं -. कभी नीला रंग खुशियों की दवा देता
13 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x