म्हारे साब

12 अगस्त 2016   |  हर्ष वर्धन जोग   (150 बार पढ़ा जा चुका है)

म्हारे साब

साब जी क्या पूच्छो जी. पक्की नौकरी करी पूरे 36 साल अर पांच साल करी कच्ची. इब तो पेंसन के मजे ले रे जी. नौकरी में हर तरह के दिन देख लिए साब जी उजले भी अर घनेरे भी. बड़े बड़े अफसरान देखे जी दबंग देखे, निकम्मे देखे अर भगवान आपका भला करे जी दो रीजनल मैनजर जो हैं सो देखीं जी लेडीज. मैं आज बता रा जी सबकी सेवा करी जी इस नफे सिंह ने. कोई आरएम यो न कै सके अक नफे सिंह की डूटी में कमी रै गी. टैम से आणा अर टैम से जाणा, वर्दी म्हारी फिटफाट अर रायफल म्हारी चकाचक. आज भी कोई बैठा हो आरएम की कुर्सी पे जाते-ई पैले जयहिंद करूँ जी. फेर वो-ई नूं कहे अक नफे सिंह सब ठीक ठाक है ना? बालक राजी खुसी हैं ना? यो-ई कमाई है जी म्हारी तो और बाकी सुसरा क्या धरा दुनिया में साब जी.

इब कमाई की बात सुण लो. जब मैडम नरूला आरएम आई जभी म्हारे लग गया था की आरएम ऑफिस में कुछ घटना होगी. मैडम बड़ी सजधज के आवे थी. बढ़िया सी साड़ी, खुसबू अर भारी जेवर. इस्टाफ की सारी लेडिज जब जेवर देखें जी तो नरूला मैडम भोत खुस हो जाए थी. लेट-ई तो आणा आफिस अर लेट-ई तो जाणा घर. चार बजे तो फाइलें अलमारी ते बाहर आवें थी जब दफतर हल्का हो ले था. अर लाणे वाले दो आदमी एक तो प्रापर्टी डीलर और दूसरा जी वो बर्तन की फक्ट्री वाला. कभी एक केबिन मैं बैठा कभी दूसरा अर कभी दोनों. कभी चाय आ-री जी कभी ठंडा. भगवान भला करे जी सबका काफी दिन मामला चला यो. फिर जाने शिकायत हो ली जाने क्या. पाछे पता पड्या की मैडम पे कारवाई हो ली और मैडम की तो नौकरी चली गई जी. आदमी भगवान से डरे ज्यादा न उछले जभी ठीक है जी.

ऐसे ई और एक आरएम आये थे जी गोयल साब. पुराणी बात है जी. सांवला रंग जी अर बाल कतई उड़-गे अर जी खा पी के गोल मटोल हो रए जी. महतो ड्राईवर बतावे था जी अक गाडी में सोडा, बर्फ, गिलास मौजूद रह वे था जी. थोड़े ई दिनां में सहर में मसहूर हो गया जी अक बोतल दो अर काम करा लो जी. एक आधी बेर लुगाई का नाम आया जी भगवान जाणे जी सांच बोलें थे या झूट. पर बुरा नतीजा होया जी. गोयल साब ने रात में सरकारी गाडी मार दी पेड़ में और राम नाम सत्त जी.

पर आप जाणो भले आदमी भी कम नां-ए दुनिया में अर दुनिया अब-लो निपट ना जाती? पर दो एक गलत मच्छली तलाब में कभी ना कभी टपक पड़ें जी. अर आप जाणों लालच तो गलत है ही. कबीर दास जी भी कै गए जी:

माया मरी ना मन मरा, मर मर गए सरीर,
आसा तृसना न मरी, कह गए दास कबीर !

 Sketches from Life: म्हारे साब

अगला लेख: गड्डी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अगस्त 2016
Sketches from Life: बिरयानी केबिन में एक महिला आई,- नमस्ते सर. मेरी बहन का खाता यहीं है जी. पिछले महीने बहन गुजर गई जी. तो उसका पैसा दिलवा दो जी. काउंटर पे तो मना कर रहे जी. यूँ कह रहे हैं की मैनेजर साब ही पास करेंगे.पास बुक देखी तो आफरीन के खाते में 5.70 लाख थे. शायद कहीं नौकरी कर रही होगी क्यूं
11 अगस्त 2016
19 अगस्त 2016
रीजनल मैनेजर गोयल साब की पत्नी की इच्छा थी कि झुमरी तल्लैया में एक किट्टी क्लब होना चाहिए.- कौन सा मुश्किल काम है साहब. बस समझिये कि किट्टी क्लब खुल गया. मेम्बर्स किसको बनाना चाहेंगी मैडम?गोयल साब तो हमारे बॉस हैं और उन के अंडर में चार अद
19 अगस्त 2016
31 जुलाई 2016
हमारे रीजनल मैनेजर गोयल साब आजकल बड़े खुश नज़र आ रहे हैं. मुस्कराहट एक कान से दूसरे कान तक पहुँच रही है .....रीजनल मैनेजर,ब्रांच,मैनेजर,डेंटिस्ट,दांतों का डॉक्टर, Sketches from Life: दांतों का डॉक्टर
31 जुलाई 2016
06 अगस्त 2016
Sketches from Life: गड्डी बैंक ों का राष्ट्रीयकरण होने के बाद बहुत तेज़ी से शाखाएँ खुलने लगीं और इसलिए नये स्टाफ़ की भरती भी शुरू हो गई थी. भरती के लिये एक बोर्ड बना दिया गया था जिसकी परीक्षा पास करके अलग अलग बैंकों में इंटरव्यू होता था और पास होने पर नौकरी मिल जाती थी. इसी प्रोसेस से पंजाब नैशनल
06 अगस्त 2016
06 अगस्त 2016
रीजनल ऑफिस के लिए रिसेप्शनिस्ट का इंटरव्यू चल रहा था. .....Sketches from Life: ये ना जाना रीजनल ऑफिस के लिए रिसेप्शनिस्ट का इंटरव्यू चल रहा था. हमारे झुमरी तल्लिय्या रीजन के सर्वे-सर्वा गोयल साब के अलावा एक मैनेजर hrd और एक चीफ मैनेजर भी इंटरव्यू बोर्ड में विराजमान थे. चौथी उम्मीदवार आई मिस प्रीति.
06 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
गाड़ी हरिद्वार स्टेशन पर रुकी तो मन्नू उतरा. सामान के नाम पे एक झोला था जिसमें दो जोड़ी कपड़े और टूथ ब्रश वगैरा था. जेब में टिकट तो था नहीं इसलिए प्लेटफार्म की तरफ ना उतर कर दूसरी ओर उतरा. गाड़ी के साथ साथ उलटी
22 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
बॉस तो बॉस होता है और हर एक का कोई बॉस होता है. और उस बॉस का भी कोई बॉस होता है और उस बॉस के ऊपर भी एक कमबखत होता है. खैर छोड़िये हमें तो अपने बॉस से मतलब है जो कि झुमरी तल्लिय्या के रीजनल मैनेजर है.आइये आप को मिलवा देते हैं गोयल साब स
22 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 जुलाई 2016
29 जुलाई 2016
S
23 अगस्त 2016
न्
18 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
14 अगस्त 2016
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x