व्यथा ,'सूरज' होने की .

16 अगस्त 2016   |  स्पर्श   (138 बार पढ़ा जा चुका है)


बिजली की लुका छुपी के खेल और ..
चिलचिल गर्मी से हैरान परेशां हम ..
ताकते पीले लाल गोले को 
और झुंझला जाते , छतरी तानते, आगे बढ़ जाते !
पर सर्वव्यापी सूर्यदेव के आगे और कुछ न कर पाते ..!



पर शाम आज , सूरज के सिन्दूरी लाल गोले को देख 
एक दफे तो दिल 'पिघल' सा गया , 
सूरज दा के लिए , मन हो गया विकल 
रोज़ दोपहरी आग उगलने वाले इस लाल गोले ने 
माथे पर पसरी पसीने की बूंदों ने 
कर दिया यूँ व्याकुल ...

पर पूछो तो भला क्यूं ?
आओ सुनाती हूँ , किस्सा सूरज और आग के रिश्ते का !




तस्वीर खींचते वक़्त तो बड़ा लाड़ आया उसके गोल मटोल होने पे ,
बाल हनुमान का भी ख्याल हो आया , 
लगा भर लूँ , हथेली में और 
बस ,अहा ...पर बोलो भला ...
सूरज की तपिश को मैं एक अदनी सी लड़की कैसे कैद करूँ !

दिल मेरा पिघला क्यूँ , ये तो बता दूं ! 



हाँ, तो वो ऐसे कि ,
सूरज दादा ने सारे जहां की गर्मी समेटी है खुद में 
पर उन के जलने की तक़लीफ़ का क्या ! 
वो रिश्ता जो आग और उनके अटूट साथ का है , 
जलते पतंगे की तरह जलते सूरज और 
..उसकी संगिनी आग का क्या !



रिश्ते कुछ ऐसे भी तो होते हैं न ,
जिनकी किस्मत सागर और तरिणी की जैसी कहाँ..
उनके ,जिनके शीतल प्रेम के मिलन में ,

तमाम प्यार की कहानियों की मिसालें जा मिलें !



यहाँ सिर्फ सारी कुदरत की ज़िम्मेदारियों का बोझ है 
प्रकृति चक्र की फ़िक्र है , याद है वो कहानी  
जब सूरज दादा के विलुप्त होने से सब थम गया था ...

और इसीलिए सूरज दा और उनकी साथी जलते , तड़पते हैं ,
मगर साथ हैं .



प्रेम शीतल हो , ज़रूरी तो नही , 
मुक़म्मल हो ,शायद ये भी नही

पर तपिश हर प्रेम की नियति है , ज़रूर !

प्रेम की अंतहीन इसी नियति के साक्षी हैं
सूरज दादा और उनकी साथी.

अगला लेख: ' सशक्तिकरण,सत्ता,और औरत '



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2016
 अकसर अकेली सफ़र करतीलड़कियों की माँ को चिंताएं सताया करती हैं और खासकर ट्रेनों में . मेरी माँ केहिदयातानुसार दिल्ली से इटारसी की पूरे दिन की यात्रा वाली ट्रेन की टिकट कटवाईमैंने स्लीपर क्लास में . पर साथ में एक परिवार हैबताने पर निश्चिन्त सी हो गयीं थोड़ी .फिर भी इंस्ट्रक्शन मैन्युअल थमा ही दीउन्होंने
16 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
ता
अब वो नमी नहीं रही इन आँखों में शायद दिल की कराह अब,रिसती नही इनके ज़रिये या कि सूख गए छोड़पीछे अपने  नमक और खूनक्यूँ कि अब कलियों बेतहाशा रौंदी जा रही हैं क्यूंकि फूल हमारे जो कल दे इसी बगिया को खुशबू अपनी करते गुलज़ार ,वो हो रहे हैं तार तार क्यूंकि हम सिर्फ गन्दी? और बेहद नीच एक सोच के तले दफ़न हुए जा
16 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
  तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,बीरान सी भी .वो बावली बौराई सरफिरीलड़की कहाँ छुपी है रे ? जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों मेंधकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद कोजब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद . क्यों बिगड़ती हो यूँ ?जानती हो न ,तु
16 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
ढा
04 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x