शहर पुराना सा .

16 अगस्त 2016   |  स्पर्श   (146 बार पढ़ा जा चुका है)


 

अंग्रेज़ीदा लोगों का मौफुसिल टाउन ,
और यादों का शहर पुराना सा .
कुछ अधूरी नींद का जागा,
कुछ ऊंघता कुनमुनाता सा
शहर मेरा अपना कुछ पुराना सा .
हथेलियों के बीच से गुज़रते
फिसलते रेत के झरने सा .

 

कुछ लोग पुराने से ,
कुछ छींटे ताज़ी बूंदों के
कुछ मंज़र अजूबे से
और एक ठिठकती ताकती उत्सुक सी सुबह .

 

सरसरी सवालिया निगाहों की बातें
और कुछ अचकचाती सी ज़बान
कुछ उड़ते खामोश परिंदे
जो ग़ुमशुदा हो जाते यकायक ,
हो जाते तब्दील ,
बादलों के मखमली लिबास में लिपटे
सफ़ेद रुई के पुलिंदे में,

 

शहर जो मसरूफ़ है
अपनी ही बेकारियों के जश्न में .
शहर जो ठिठुरता है , ठन्डे रिश्तों से
और गर्म शॉल सा ओढ़ा लेता है
अपनी दरियादिली की मिसालों से
तो कहीं जलता है आग बनके
तेज़ी से गायब होते और
सरसर बढ़ते नए ज़माने के नए रंगों की ओर

 

खुशबू धनक की औ
सौंधी गीली मिटटी के जैसे गढ़ते
बनते बिगड़ते और
नित नए आकार में ढलते
मेरे शहर की गलियों की नुक्कड़ों पर
अब भी वही यादें पसरती हैं
क्यूंकि मॉफुसिल याने कस्बे की
खनक उसकी अनगिनत कहानियों में है
और कहानियाँ लिखती हैं सभ्यताएं और
शहर पुराने से
जो खड़े हैं नए सुरीले स्वप्निल संसार के दरवाज़े पर
बन एक चंचल उत्सुक बच्चे से .

 

अगला लेख: ' सशक्तिकरण,सत्ता,और औरत '



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 अगस्त 2016
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
05 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
व्
बिजली की लुका छुपी के खेल और ..चिलचिल गर्मी से हैरान परेशां हम ..ताकते पीले लाल गोले को और झुंझला जाते , छतरी तानते, आगे बढ़ जाते !पर सर्वव्यापी सूर्यदेव के आगे और कुछ न कर पाते ..!पर शाम आज ,सूरज के सिन्दूरी लाल गोले को देख एक दफे तो दिल 'पिघल' सा गया , सूरज दा के लिए , मन हो गया विकल रोज़ दोपहरी आग
16 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
लखनऊ की नवाबी गलियाँलखनऊ ,दिनांक...........,प्रिय ,छोटे भाई लखनऊ,मैं तुम्हारा बड़ा भाई उत्तर प्रदेश, आशा करता हूँ कि तुम अच्छे होगे । सब तुम्हारी तहज़ीब और शाही नवाबी अंदाज को देखने के लिए देश विदेश से आते है। और देखे भी क्यों न, तुम बचपन से  ही लोगों के मन को मोहित करते आ रहे हो ।और मुझे बहुत खुशी
08 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
ता
अब वो नमी नहीं रही इन आँखों में शायद दिल की कराह अब,रिसती नही इनके ज़रिये या कि सूख गए छोड़पीछे अपने  नमक और खूनक्यूँ कि अब कलियों बेतहाशा रौंदी जा रही हैं क्यूंकि फूल हमारे जो कल दे इसी बगिया को खुशबू अपनी करते गुलज़ार ,वो हो रहे हैं तार तार क्यूंकि हम सिर्फ गन्दी? और बेहद नीच एक सोच के तले दफ़न हुए जा
16 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
 (यह लेख सुप्रसिद्ध साइकेट्रिस्ट (मनोरोग-विशेषज्ञ) डॉक्टर सुशील सोमपुर के द्वारा लिखे लेख का हिंदी रूपांतरण है।) जो व्यक्ति अवसाद की स्थिति से गुजर रहा होता है, उसके लिए ये कोई पाप की सजा या किसी पिछले जन्म के अपराध की सजा के जैसी लगती है, और जिन लोगों का उपचार किया गया और वे बेहतर हो गए उन्हें ये क
07 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
  तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,बीरान सी भी .वो बावली बौराई सरफिरीलड़की कहाँ छुपी है रे ? जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों मेंधकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद कोजब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद . क्यों बिगड़ती हो यूँ ?जानती हो न ,तु
16 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x