दो पत्ती का श्रमनाद !

16 अगस्त 2016   |  स्पर्श   (116 बार पढ़ा जा चुका है)


 

पसीने से अमोल मोती देखे हैं कहीं ?
कल देखा उन मोतियों को मैंने
बेज़ार ढुलकते लुढ़कते
मुन्नार की चाय की चुस्कियों का स्वाद
और इन नमकीन जज़्बातों का स्वाद
क्या कहा ....बकवास करती हूँ मैं !
कोई तुलना है इनकी !

 

सड़कों पर अपने इन मोतियों की कीमत
मेहनतकशी की इज़्ज़त ही तो मांगी है इन्होंने
सखियों की गोद में एक झपकी लेती
ये महिला साक्षी है कि
ज़िंदा कौमें ज़्यादा देर तक चुप नही बैठा करतीं
ये भी कि ..
औरत ,गरीबी और
बिलकुल निचले पायदान पर खड़ी इस कौम के
जिस रूप से तुम वाकिफ़ नही थे
आज वो मांग रही है जो उसका हक़ है
उसकी आजीविका की गाड़ी
चलती जिससे
उसे क्या मतलब डिजिटल इंडिया से
उसकी लड़ाई सोशल मीडिया पर थोड़ी न ट्रेंड करेगी
वो तो खुद को जोड़ रही है
अपनी ही सी भुक्तभोगी साथियों से

 

चाहे आसमान से कहर गिरे
सूरज की मार आ पड़े
जिसकी ज़िन्दगी में बारिशों का
पक्का अड्डा हो ,वो
क्या सड़कों पर इस संघर्ष की
और बादलों वाली बारिशों के बीच
भीगने से डरेंगी ?

 

क्या छातों तले हक़ के इरादों को छुपाया जा सकेगा
क्या चुप्पियों के विरोधी स्वर होंगे बुलंद
क्या हम कर पाएंगे
कल ही याद किये गए गांधी को
असली श्रद्धांजलि समर्पित
कि श्रम के हर रूप का सम्मान
और चुका पाएंगे उनके पसीने का मोल
जिसने महकाया है जीवन को
मेरे और तुम्हारे
अपने हाथ की खुशबुओं से
बोलो या कुचल दोगे इन औरतों को
इनके खामोश अरमानों को
कि संविधान की  सालगिरह
का जश्न आने को है ,साहब !

 

अगला लेख: बनैली बौराई तुम ?



स्पर्श
20 फरवरी 2017

धन्यवाद . :)

रेणु
20 फरवरी 2017

बहुत अच्छी कविता

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2016
  तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,बीरान सी भी .वो बावली बौराई सरफिरीलड़की कहाँ छुपी है रे ? जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों मेंधकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद कोजब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद . क्यों बिगड़ती हो यूँ ?जानती हो न ,तु
16 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो म
20 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 अंग्रेज़ीदा लोगों का मौफुसिल टाउन ,और यादों का शहर पुराना सा .कुछ अधूरी नींद का जागा,कुछ ऊंघता कुनमुनाता साशहर मेरा अपना कुछ पुराना सा .हथेलियों के बीच से गुज़रतेफिसलते रेत के झरने सा . कुछ लोग पुराने से ,कुछ छींटे ताज़ी बूंदों केकुछ मंज़र अजूबे सेऔर एक ठिठकती ताकती उत्सुक सी सुबह . सरसरी सवालिया निगाह
16 अगस्त 2016
18 अगस्त 2016
अपना 'कर्तव्य' देखें, 'अधिकार' नहीं! सदभावी मानव बन्धुओं ! आजकल सर्वत्र यही देखा जा रहा है कि सभी कर्मचारी, अधिकारी, सामाजिक संस्थायें, राजनीतिक नेता गण आदि आदि प्राय: सभी के सभी ही अपने अधिकारों के माँग में
18 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 14 साल की और 21 साल की मेरी दो बहनें आई पीएस और आई ए एस बनना चाहती हैं . सुनकर ही अच्छा लगेगा .लडकियां जब सपने देखती हैं और उन्हें पूरा करने को खुद की और दुनिया की कमज़ोरियों से जीतती हैं तो लगता है अच्छा .बेहतर और सुखद. खासकर राजनीति ,सत्ता और प्रशासन के गलियारे और औरतें .वहां जहाँ औरतें फिलहाल ग्र
16 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 अकसर अकेली सफ़र करतीलड़कियों की माँ को चिंताएं सताया करती हैं और खासकर ट्रेनों में . मेरी माँ केहिदयातानुसार दिल्ली से इटारसी की पूरे दिन की यात्रा वाली ट्रेन की टिकट कटवाईमैंने स्लीपर क्लास में . पर साथ में एक परिवार हैबताने पर निश्चिन्त सी हो गयीं थोड़ी .फिर भी इंस्ट्रक्शन मैन्युअल थमा ही दीउन्होंने
16 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x