बनैली बौराई तुम ?

16 अगस्त 2016   |  स्पर्श   (109 बार पढ़ा जा चुका है)


  

तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,
बीरान सी भी .
वो बावली बौराई सरफिरी
लड़की कहाँ छुपी है रे ?

 

जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों में
धकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद को
जब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद .

 

क्यों बिगड़ती हो यूँ ?
जानती हो न ,
तुम्हारा बिगड़ना और बौराना
बिखेर देता है कितनी साँसों को .
कितनी रुमानी रातों को .
कितनी बेमानी बातों को
कितनी सौंधी सौगातों को .

 

यूँ ठहरी हुई तुम
विचारों की तरंगें छेड़ जाती हो मन में .
भय की .
प्रलय की
भूत की स्मृतियों से रंजित भविष्य की आशंकाओं की .
या फिर एक अमूर्त अनिश्चितता की .

 

जानो कि बिगड़ती तुम जब हो
खुद भी खाली होती हो बूँद बूँद
रिसती हो जब फ़ैल जाती हो किसी महामारी की तरह
अपने तटों को तोड़
आशियाने उजाड़ती तुम तुम सी नही लगती .

 

वापस तुम्हारे रौद्र से इस स्थिर अवतार की
ख्वाहिशें लिए
लौट जाती हैं कुछ कश्तियाँ
कुछ राहगीर
और कुछ सपने .

  

( आंवलीघाट , नर्मदा नदी के तट पर भरी हुई पर शांत डबडबाती नदी  और बारिशों के बीच )

अगला लेख: ' सशक्तिकरण,सत्ता,और औरत '



रेणु
20 फरवरी 2017

बढ़िया भाव उकेर कर खुद अनाम रह जाना ठीक नही -- अपना परिचय भी प्रोफाइल पर डालिए आपकी सभही रचनाये बहुत बढ़िया है -- अनामिका जी







































बढ़िया भाव उकेर कर खुद अनाम मत रहिये-- अनामिका जी | अपने प्रोफाइल पर अपना परिचय डालिए आप बहुत अच्छा लिख रही हैं |


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2016
ता
अब वो नमी नहीं रही इन आँखों में शायद दिल की कराह अब,रिसती नही इनके ज़रिये या कि सूख गए छोड़पीछे अपने  नमक और खूनक्यूँ कि अब कलियों बेतहाशा रौंदी जा रही हैं क्यूंकि फूल हमारे जो कल दे इसी बगिया को खुशबू अपनी करते गुलज़ार ,वो हो रहे हैं तार तार क्यूंकि हम सिर्फ गन्दी? और बेहद नीच एक सोच के तले दफ़न हुए जा
16 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
मोदी सरकार में लोगों ने भ्रष्टाचार की सबसे ज्यादा शिकायतें किस विभाग को लेकर की - नई दिल्ली : इंडिया संवाद ब्यूरोनई दिल्ली : भले केंद्र में नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार सिस्टम के तंदुरस्त होने की बात कर रही है लेकिन लोगों की परेशानियां अब भी ज्यों की त्यों बनी हुई हैं। लोकसभा में एक सवाल के ज
04 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
मुसकुरा कर फूल को ,यार पागल कर दिया प्यार ने अपना जिगर ,नाम तेरे कर दिया आस से ना प्यास से ,दूर से ना पास से आँख तुमसे जब मिली ,बात पूरी कर दिया 
08 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 14 साल की और 21 साल की मेरी दो बहनें आई पीएस और आई ए एस बनना चाहती हैं . सुनकर ही अच्छा लगेगा .लडकियां जब सपने देखती हैं और उन्हें पूरा करने को खुद की और दुनिया की कमज़ोरियों से जीतती हैं तो लगता है अच्छा .बेहतर और सुखद. खासकर राजनीति ,सत्ता और प्रशासन के गलियारे और औरतें .वहां जहाँ औरतें फिलहाल ग्र
16 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
मध्यप्रदेशऔरछत्तीसगढ़मेंबाढसेतबाहीमुख्यमंत्री ने अफसरों के साथ समीक्षा की उत्तर प्रदेश में सभी नदियों का जलस्तर बढ़ा मुख्यमंत्री और उनके चाचा एक मंच पर दिखे प्रधानमंत्री पाक अधिकृत कश्मीर पर चिंतित उम्र ने अपना घर संभालने की नसीहत दीदिल्ली का मुख्यमंत्री जनमत संग्रह कराएगाप्रधानमन्त्री को भी काम करना
23 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 अंग्रेज़ीदा लोगों का मौफुसिल टाउन ,और यादों का शहर पुराना सा .कुछ अधूरी नींद का जागा,कुछ ऊंघता कुनमुनाता साशहर मेरा अपना कुछ पुराना सा .हथेलियों के बीच से गुज़रतेफिसलते रेत के झरने सा . कुछ लोग पुराने से ,कुछ छींटे ताज़ी बूंदों केकुछ मंज़र अजूबे सेऔर एक ठिठकती ताकती उत्सुक सी सुबह . सरसरी सवालिया निगाह
16 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x