बनैली बौराई तुम ?

16 अगस्त 2016   |  स्पर्श   (96 बार पढ़ा जा चुका है)


  

तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,
बीरान सी भी .
वो बावली बौराई सरफिरी
लड़की कहाँ छुपी है रे ?

 

जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों में
धकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद को
जब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद .

 

क्यों बिगड़ती हो यूँ ?
जानती हो न ,
तुम्हारा बिगड़ना और बौराना
बिखेर देता है कितनी साँसों को .
कितनी रुमानी रातों को .
कितनी बेमानी बातों को
कितनी सौंधी सौगातों को .

 

यूँ ठहरी हुई तुम
विचारों की तरंगें छेड़ जाती हो मन में .
भय की .
प्रलय की
भूत की स्मृतियों से रंजित भविष्य की आशंकाओं की .
या फिर एक अमूर्त अनिश्चितता की .

 

जानो कि बिगड़ती तुम जब हो
खुद भी खाली होती हो बूँद बूँद
रिसती हो जब फ़ैल जाती हो किसी महामारी की तरह
अपने तटों को तोड़
आशियाने उजाड़ती तुम तुम सी नही लगती .

 

वापस तुम्हारे रौद्र से इस स्थिर अवतार की
ख्वाहिशें लिए
लौट जाती हैं कुछ कश्तियाँ
कुछ राहगीर
और कुछ सपने .

  

( आंवलीघाट , नर्मदा नदी के तट पर भरी हुई पर शांत डबडबाती नदी  और बारिशों के बीच )

अगला लेख: ' सशक्तिकरण,सत्ता,और औरत '



रेणु
20 फरवरी 2017

बढ़िया भाव उकेर कर खुद अनाम रह जाना ठीक नही -- अपना परिचय भी प्रोफाइल पर डालिए आपकी सभही रचनाये बहुत बढ़िया है -- अनामिका जी







































बढ़िया भाव उकेर कर खुद अनाम मत रहिये-- अनामिका जी | अपने प्रोफाइल पर अपना परिचय डालिए आप बहुत अच्छा लिख रही हैं |


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2016
 अंग्रेज़ीदा लोगों का मौफुसिल टाउन ,और यादों का शहर पुराना सा .कुछ अधूरी नींद का जागा,कुछ ऊंघता कुनमुनाता साशहर मेरा अपना कुछ पुराना सा .हथेलियों के बीच से गुज़रतेफिसलते रेत के झरने सा . कुछ लोग पुराने से ,कुछ छींटे ताज़ी बूंदों केकुछ मंज़र अजूबे सेऔर एक ठिठकती ताकती उत्सुक सी सुबह . सरसरी सवालिया निगाह
16 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
मुसकुरा कर फूल को ,यार पागल कर दिया प्यार ने अपना जिगर ,नाम तेरे कर दिया आस से ना प्यास से ,दूर से ना पास से आँख तुमसे जब मिली ,बात पूरी कर दिया 
08 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 किसी भी घटना के कई पक्ष और पहलू होते हैं .हर घटना को अलग अलग चश्मों से गहरी या सतही पड़ताल के ज़रिये अलग अलग निष्कर्षों पर पहुंचा जा सकता है . निष्कर्ष वही होते हैं जो रायों में परिवर्तित हो जाते हैं और रायें पीढ़ी दर पीढ़ी , समाज की हर ईकाई के माध्यम से संस्थागत हो जाती हैं . और इस तरह वे अमूमन संस्कृ
16 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
व्
बिजली की लुका छुपी के खेल और ..चिलचिल गर्मी से हैरान परेशां हम ..ताकते पीले लाल गोले को और झुंझला जाते , छतरी तानते, आगे बढ़ जाते !पर सर्वव्यापी सूर्यदेव के आगे और कुछ न कर पाते ..!पर शाम आज ,सूरज के सिन्दूरी लाल गोले को देख एक दफे तो दिल 'पिघल' सा गया , सूरज दा के लिए , मन हो गया विकल रोज़ दोपहरी आग
16 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 अकसर अकेली सफ़र करतीलड़कियों की माँ को चिंताएं सताया करती हैं और खासकर ट्रेनों में . मेरी माँ केहिदयातानुसार दिल्ली से इटारसी की पूरे दिन की यात्रा वाली ट्रेन की टिकट कटवाईमैंने स्लीपर क्लास में . पर साथ में एक परिवार हैबताने पर निश्चिन्त सी हो गयीं थोड़ी .फिर भी इंस्ट्रक्शन मैन्युअल थमा ही दीउन्होंने
16 अगस्त 2016
14 अगस्त 2016
अपने गिरेबां में झांकऐ मेरे रहगुजरसाथ चलना है तो चलऐ मेरे हमसफरचाल चलता ही जा तूरात-ओ-दिन दोपहरजीत इंसां की होगीयाद रख ले मगरइल्म तुझको भी हैहै तुझे यह खबरएक झटके में होगाजहां से बदरशांति दूत हैं तोहैं हम जहरबचके रहना जरान रह बेखबर
14 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x