बनैली बौराई तुम ?

16 अगस्त 2016   |  स्पर्श   (98 बार पढ़ा जा चुका है)


  

तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,
बीरान सी भी .
वो बावली बौराई सरफिरी
लड़की कहाँ छुपी है रे ?

 

जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों में
धकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद को
जब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद .

 

क्यों बिगड़ती हो यूँ ?
जानती हो न ,
तुम्हारा बिगड़ना और बौराना
बिखेर देता है कितनी साँसों को .
कितनी रुमानी रातों को .
कितनी बेमानी बातों को
कितनी सौंधी सौगातों को .

 

यूँ ठहरी हुई तुम
विचारों की तरंगें छेड़ जाती हो मन में .
भय की .
प्रलय की
भूत की स्मृतियों से रंजित भविष्य की आशंकाओं की .
या फिर एक अमूर्त अनिश्चितता की .

 

जानो कि बिगड़ती तुम जब हो
खुद भी खाली होती हो बूँद बूँद
रिसती हो जब फ़ैल जाती हो किसी महामारी की तरह
अपने तटों को तोड़
आशियाने उजाड़ती तुम तुम सी नही लगती .

 

वापस तुम्हारे रौद्र से इस स्थिर अवतार की
ख्वाहिशें लिए
लौट जाती हैं कुछ कश्तियाँ
कुछ राहगीर
और कुछ सपने .

  

( आंवलीघाट , नर्मदा नदी के तट पर भरी हुई पर शांत डबडबाती नदी  और बारिशों के बीच )

अगला लेख: ' सशक्तिकरण,सत्ता,और औरत '



रेणु
20 फरवरी 2017

बढ़िया भाव उकेर कर खुद अनाम रह जाना ठीक नही -- अपना परिचय भी प्रोफाइल पर डालिए आपकी सभही रचनाये बहुत बढ़िया है -- अनामिका जी







































बढ़िया भाव उकेर कर खुद अनाम मत रहिये-- अनामिका जी | अपने प्रोफाइल पर अपना परिचय डालिए आप बहुत अच्छा लिख रही हैं |


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2016
 किसी भी घटना के कई पक्ष और पहलू होते हैं .हर घटना को अलग अलग चश्मों से गहरी या सतही पड़ताल के ज़रिये अलग अलग निष्कर्षों पर पहुंचा जा सकता है . निष्कर्ष वही होते हैं जो रायों में परिवर्तित हो जाते हैं और रायें पीढ़ी दर पीढ़ी , समाज की हर ईकाई के माध्यम से संस्थागत हो जाती हैं . और इस तरह वे अमूमन संस्कृ
16 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
बो
@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@ ******************************************************* मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे | भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे || पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे| घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार क
20 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
उत्तर प्रदेश भारत की ‘दूध बेल्ट’ कहलाती है| उत्तर प्रदेश वही भूमि है जहां वृन्दावन में श्री कृष्ण ने गैया चराई थी और गोपियों के संग खेल | उस दिव्य स्पर्श का रस हम भारतवासियों ने शताब्दियों तक पाया और दूध का उत्पादन उत्तर प्रदेश में बढ़ता ही चला गया। आइए अब मैं आपको बताती हूं उत्तर प्रदेश के दुग्ध
04 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
मोदी सरकार में लोगों ने भ्रष्टाचार की सबसे ज्यादा शिकायतें किस विभाग को लेकर की - नई दिल्ली : इंडिया संवाद ब्यूरोनई दिल्ली : भले केंद्र में नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार सिस्टम के तंदुरस्त होने की बात कर रही है लेकिन लोगों की परेशानियां अब भी ज्यों की त्यों बनी हुई हैं। लोकसभा में एक सवाल के ज
04 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
मुसकुरा कर फूल को ,यार पागल कर दिया प्यार ने अपना जिगर ,नाम तेरे कर दिया आस से ना प्यास से ,दूर से ना पास से आँख तुमसे जब मिली ,बात पूरी कर दिया 
08 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
 (यह लेख सुप्रसिद्ध साइकेट्रिस्ट (मनोरोग-विशेषज्ञ) डॉक्टर सुशील सोमपुर के द्वारा लिखे लेख का हिंदी रूपांतरण है।) जो व्यक्ति अवसाद की स्थिति से गुजर रहा होता है, उसके लिए ये कोई पाप की सजा या किसी पिछले जन्म के अपराध की सजा के जैसी लगती है, और जिन लोगों का उपचार किया गया और वे बेहतर हो गए उन्हें ये क
07 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x