कुछ पंक्तियाँ

17 अगस्त 2016   |  प्रियंका शर्मा   (283 बार पढ़ा जा चुका है)

 मुझसे मुहब्बत करे कोई शायद गाफिल ही होगा 

उजड़े दयार से किसी को कुछ हासिल नही होगा


रविंदर विज रविंदर विज 

अगला लेख: गमज़दा रात



अपने लुटने का मुझको रंज नहीं, गम अगर है तो सिर्फ इतना,~मेरे किरदार की शराफत से उसने जो फायदा उठाया है

Manshiram Devasi
11 नवम्बर 2016

मुहब्बत करने वाला कभी गाफिल नही होता...
क्योंकि उसे खबर हैं.. सुखी नदी को पार करना आसान होता हैं... मंशीराम देवासी

Manshiram Devasi
11 नवम्बर 2016

मोहब्बत करने वाल

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x