कथित आधी घरवाली

20 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (608 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो मन्दमन्द मुस्काती है | खड्डे पड़ जाते गालों में उसके,वो शर्मिला बन जातीहै || हम तो चाहते दिल से उसको,पर वो कितना हमको चाहती है | छुपी रुस्तम वो साली मेरी, नहीं हमें ये बतलाती हैं || तीन बच्चों की अम्मा है,पर लगती कुंवारी बाला है | मिलने के मौके को जिसने, मारे शर्म के टाला है || एक दिन वो शर्मीली साली,मुझसे प्रश्न ये पूछ पड़ी | नहीं लिखी क्या कविता मुझपे,नजरें थी उसकी गड़ीगड़ी || दुखदाता और सुखदाता पर,कविता लिखी जाती है | मैं चाहता था यह कहना उसको,कि वो नहीं दोनों में आती है || तीन तिगाड़ा काम बिगाड़ा,ये कहावत उसने थी दोहरायी | जवाब दिया जब मैंने उसको, तो तीन बच्चों पर थी शर्मायी || साली हो चाहे कितनी ही सीधी,पर जीजे को खूब छक्काती है | केरी देकर जीजे को वो,आम उसे बतलाती है || खट्टे कर दिए दांत मेरे,खट्टे आलू बुखारों से | मोह लिया उसने मनको,अपने मोहक इशारों से|| विदा के वक्त हाथ मिलाने,निज हाथ आगे कर दिया | हाथ नहीं मिला कर उसने,दुःख मन में भर दिया || तिरस्कार के उस उस दुःख से,दिल का सुकून खो गया | पर उसकी साफगोई का,मैं दिल से कायल हो गया || दुःख दाता बनने पर उसके,यह कविता उस पर रच डाली | यह गलत कहते है लोग सारे,कि साली आधी घरवाली || साली तो होती है दोस्त,गौरी हो या हो काली | जीजे की चुटीली बातों में,मस्त हो जाती हर साली || बड़े प्यार से बोली साली,बड़े ख़राब हो जीजाजी | लाड़ भरी यह टिप्पणी सुनकर,मन साली पर रीझाजी || सीखाया जो सबक साली ने,वो याद रखूंगा रखूंगा सदा सदा | नहीं करूंगा अब हाथ आगे,जब मिलूंगा उससे यदाकदा ||

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 अगस्त 2016
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
05 अगस्त 2016
04 सितम्बर 2016
धूप मे धूप साये मे साया हूँ बस यही नुस्का आजमाया हूँएक बोझ दिल से उतर गया कई दिनों बाद मुस्कुराया हूँदीवारें भी लिपट पड़ी मुझसेमुद्दतों के बाद घर आया हूँउसे पता नहीं मेरे आने का छुप कर के उसे बुलाया हूँ समीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
23 अगस्त 2016
@@@@@@ इन्सान @@@@@@*********************************************सृष्टि का सबसे विचित्र , प्राणी है इन्सान |जीता है वो जिन्दगी,दिखा कर झूठी शान ||नहीं जी पाता वो कभी,सीधी सहज जिन्दगी |झूठ और कपट की ,करता उम्र भर बन्दगी ||बड़ा होना चाहता बचपन में, पचपन में चाहता फिर बचपन |अजीब है इन्सान की फितरत,जिन्द
23 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
@@@@@@@ कमाई @@@@@@@*************************************************एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||धर्मपत्नी सी वेतन वाली,रखेल जैसी घूस वाली |एक दिलाए इज्जत ,दूजी दिलाए गाली ||एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||शरबत जैसी
22 अगस्त 2016
24 अगस्त 2016
गा
@@@@@@गाथा भारत महान की @@@@@@*******************************बातें करते बड़ी-बड़ी हम ,नीति आदर्श और शान की |गाथा सुनो तुम साथियों, इस भारत देश महान की ||पीने लगी है दूध मूर्ति,यह बात फैली थी गली-गली |विज्ञान के इस युग में भी,यहाँ रूढ़ियाँ फैली हैं सड़ी-गली ||कन्या को देवी समझ कर , पूजा भारत में जाता है
24 अगस्त 2016
02 सितम्बर 2016
जब नौकरी दिलवाने,शादी करवाने ,मकान/फ्लैट,भूखंड बेचने का झांसा देकर रकम हड़पने वाले ठगों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही हो सकती है तो सर्वजनिक रूप से विदेशों से काला धन 100 दिनों में भारत लाकर प्रत्येक भारतीय के खाते में पंद्रह पंद्रह लाख रुपये जमा करवाने का आश्वासन देकर मतदाताओं को फुसला कर उनसे वोट हासिल
02 सितम्बर 2016
26 अगस्त 2016
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@घोर मंहगाई के इस दौर में , जान इन्सान की सस्ती है |जिसने जितना ठगा किसी को, उसकी उतनी हस्ती है ||पर न हिम्मत हार ओ नेक इन्सान नसीब इसे मान कर ,भ्रष्टाचार के भँवर में भी, नहीं डूबती ईमान की कश्ती है ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
26 अगस्त 2016
04 सितम्बर 2016
तेरी तरहा मैं हो नहीं सकता नहीं ये करिश्मा हो नहीं सकतामैंने पहचान मिटा दी अपनी भीड़ मे अब खो नहीं सकताबहुत से काम याद रहते है दिन मे मैं सो नहीं सकताकि पढ़ लूँ पलकों पे लिखी इतना सच्चा हो नहीं सकतासमीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
25 अगस्त 2016
टिमटिमाते तारे की रोशनी में मैंने भी एक सपना देखा है । टुटे हुए तारे को गिरते देखकर मैंने भी एक सपना देखा है । सोचता हूं मन ही मन कभी काश ! कोई ऐसा रंग होता जिसे तन-बदन में लगाकर सपनों के रंग में रंग जाता । बाहरी रंग के संसर्ग पाकर मन भी वैसा रंगीन हो जाता । सपनों से जुड़ी है उम्मीदे
25 अगस्त 2016
03 सितम्बर 2016
का
@@@@@@@@@@@@@@@@@@काव्य की विधाएँ विविध,है अलग सबकी पसन्द |गीत,गजल,दोहा,भजन,कविता शेर और छन्द ||कविता शेर और छन्द, नवरस के रंग बरसाए ,कुण्डी खोल दिल -द्वार की , मार्ग सही दिखाएँ ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@
03 सितम्बर 2016
26 अगस्त 2016
@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@****************************************************अपने हुनर को तराश इतना ,कि तूदुनिया का सरताज हो जाये |हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताजहो जाये||अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदारको बेताब हो जाये |छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाबहो जाये
26 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
कु
हर मोड़ पर मिलते है यहाँ चाँद से चेहरेपहले की तरह क्यो दिल को नही भाते ||बड़ी मुद्दतो बाद लौटे हो वतन तुम आजपर अपनो के लिए कुछ आस नही लाते ||काटो मे खेल कर जिनका जीवन गुज़राफूलो के बिस्तर उन्हे अब रास नही आते||किसान, चातक, प्यासो आसमा देखना छोड़ोबादल भी आजकल कुछ खास नही आते ||
22 अगस्त 2016
24 अगस्त 2016
व्यंग लेख --अपने देश की "महानता"के क्या कहने******************************************************मैं अपने देश भारत की उदारता को नमन करता हूँ |यही तो वो देश है ,जहाँ एक अनाचारी ,दुराचारी ,भ्रष्टाचारी ,अत्याचारी और बलात्कारी व्यक्ति स
24 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x