बो विश्वगुरु भारत देश कठे

20 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (246 बार पढ़ा जा चुका है)


@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@
*******************************************************
मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे |
भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे ||
पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे|
घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार कठे ||
लुगाई ने सम्भाळ सके ,बो मर्द असरदार कठे|
धणयाणी ने समझ सके ,बो धणी समझदार कठे||
भरोसो नहीं टूटे किरोई ,इसो अबे व्योहार कठे |
खोट -मिलावट नहीं होवे ,इसो अबे व्योपार कठे||
माने माँ -बाप रो कहणो ,इसी अबे औलाद कठे|
जंग नहीं लागे जिण में, इसो अबे फौलाद कठे ||
देश रे खातिर मर मिटे ,इसा नेता आज कठे|
जनता रो दुखड़ो मिटा सके ,इसो अबे राज कठे||
आबादी ने रोक सके ,जनता में इसी जाग कठे|
गरीबी नहीं रेवे देश में ,देश रा इसा भाग कठे ||
झूठ -कपट ने रोक सके, इसा अबे लोग कठे |
सारा लोग सुखी हो जावे ,इसा अबे जोग कठे ||
बोली में मिश्री घोळ सके ,बा कोकिल कंठी नार कठे |
हिरदे में हेत जगा सके ,बा जीणे री आधार कठे ||
तन -मन ने निरोग राखे,इसी अबे खुराक कठे |
जुर्मी डर सू धूजण लागे ,पुलिस री इसी धाक कठे||
कायर ने वीर बणा सके ,कवियां रो बो सन्देश कठे |
दुश्मन धूजे जिण रे सामे ,वीरां रो बो देश कठे ||
देवी रो रूप दिखे जिण में ,छोरयाँ रो बिसो वेश कठे|
दुनिया ने मार्ग दिखाणे वाळो ,बो विश्वगुरु भारत देश कठे||
************************************************************

अगला लेख: कथित आधी घरवाली



इंजी. बैरवा
22 सितम्बर 2017

अच्छा लिखा है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 अगस्त 2016
@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@****************************************************अपने हुनर को तराश इतना ,कि तूदुनिया का सरताज हो जाये |हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताजहो जाये||अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदारको बेताब हो जाये |छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाबहो जाये
26 अगस्त 2016
03 सितम्बर 2016
कुर्सी से चिपके कबाड़ बनते नेताओं पर कटाक्ष करती कविता _@@@@@@@@@-कबाड़ नेता -@@@@@@@@@***********************************************************काली अंधेरी एक रात को ,देखा एक भयानक सपना |बता कर मैं उसे आपको ,साँझा कर रहा हूँ दुःख मैं अपना ||अच्छा ख़ासा मैं आदमी ,बन गया मैं सपने में कबाड़ |पत्नी ने पुक
03 सितम्बर 2016
04 सितम्बर 2016
तेरी तरहा मैं हो नहीं सकता नहीं ये करिश्मा हो नहीं सकतामैंने पहचान मिटा दी अपनी भीड़ मे अब खो नहीं सकताबहुत से काम याद रहते है दिन मे मैं सो नहीं सकताकि पढ़ लूँ पलकों पे लिखी इतना सच्चा हो नहीं सकतासमीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
25 अगस्त 2016
टिमटिमाते तारे की रोशनी में मैंने भी एक सपना देखा है । टुटे हुए तारे को गिरते देखकर मैंने भी एक सपना देखा है । सोचता हूं मन ही मन कभी काश ! कोई ऐसा रंग होता जिसे तन-बदन में लगाकर सपनों के रंग में रंग जाता । बाहरी रंग के संसर्ग पाकर मन भी वैसा रंगीन हो जाता । सपनों से जुड़ी है उम्मीदे
25 अगस्त 2016
14 अगस्त 2016
अपने गिरेबां में झांकऐ मेरे रहगुजरसाथ चलना है तो चलऐ मेरे हमसफरचाल चलता ही जा तूरात-ओ-दिन दोपहरजीत इंसां की होगीयाद रख ले मगरइल्म तुझको भी हैहै तुझे यह खबरएक झटके में होगाजहां से बदरशांति दूत हैं तोहैं हम जहरबचके रहना जरान रह बेखबर
14 अगस्त 2016
24 अगस्त 2016
व्यंग लेख --अपने देश की "महानता"के क्या कहने******************************************************मैं अपने देश भारत की उदारता को नमन करता हूँ |यही तो वो देश है ,जहाँ एक अनाचारी ,दुराचारी ,भ्रष्टाचारी ,अत्याचारी और बलात्कारी व्यक्ति स
24 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
@@@@@@@ कमाई @@@@@@@*************************************************एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||धर्मपत्नी सी वेतन वाली,रखेल जैसी घूस वाली |एक दिलाए इज्जत ,दूजी दिलाए गाली ||एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||शरबत जैसी
22 अगस्त 2016
26 अगस्त 2016
@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@****************************************************अपने हुनर को तराश इतना ,कि तूदुनिया का सरताज हो जाये |हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताजहो जाये||अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदारको बेताब हो जाये |छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाबहो जाये
26 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
@@@@@@ इन्सान @@@@@@*********************************************सृष्टि का सबसे विचित्र , प्राणी है इन्सान |जीता है वो जिन्दगी,दिखा कर झूठी शान ||नहीं जी पाता वो कभी,सीधी सहज जिन्दगी |झूठ और कपट की ,करता उम्र भर बन्दगी ||बड़ा होना चाहता बचपन में, पचपन में चाहता फिर बचपन |अजीब है इन्सान की फितरत,जिन्द
23 अगस्त 2016
03 सितम्बर 2016
का
@@@@@@@@@@@@@@@@@@काव्य की विधाएँ विविध,है अलग सबकी पसन्द |गीत,गजल,दोहा,भजन,कविता शेर और छन्द ||कविता शेर और छन्द, नवरस के रंग बरसाए ,कुण्डी खोल दिल -द्वार की , मार्ग सही दिखाएँ ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@
03 सितम्बर 2016
23 अगस्त 2016
पाखण्ड पर कटाक्ष करती कहानी - लुटेरे -लुटेरे भाई -भाई ************************************************************ एक शहर की सीमा पर स्थित एक मंदिर के विशाल प्रांगणमें एक पंडा पंडाल में बैठे जन -समूह को प्रवचन देते हुए यह बता रहा था कि ईश्वर सर्वशक्तिमानहै |ईश्वर की इच्छा
23 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो म
20 अगस्त 2016
02 सितम्बर 2016
@@@@@ अनूठा हवाई अड्डा @@@@@--------------------------------------------------एक सुनहरे सफ़र की , मैं बता रहा हूँ यह बात |ट्रेन के उस सफ़र में ,एक सुन्दरी थी मेरे साथ ||सुन्दरी ने पहन रखा था,हवाई जहाजी लॉकेट |और सामने की सीट पर , बैठा था युवक एक ||मेरी नजर तो उस प्लेन पे , सिर्फ एक बार थी पड़ी |पर दृष
02 सितम्बर 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x