बो विश्वगुरु भारत देश कठे

20 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (199 बार पढ़ा जा चुका है)


@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@
*******************************************************
मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे |
भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे ||
पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे|
घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार कठे ||
लुगाई ने सम्भाळ सके ,बो मर्द असरदार कठे|
धणयाणी ने समझ सके ,बो धणी समझदार कठे||
भरोसो नहीं टूटे किरोई ,इसो अबे व्योहार कठे |
खोट -मिलावट नहीं होवे ,इसो अबे व्योपार कठे||
माने माँ -बाप रो कहणो ,इसी अबे औलाद कठे|
जंग नहीं लागे जिण में, इसो अबे फौलाद कठे ||
देश रे खातिर मर मिटे ,इसा नेता आज कठे|
जनता रो दुखड़ो मिटा सके ,इसो अबे राज कठे||
आबादी ने रोक सके ,जनता में इसी जाग कठे|
गरीबी नहीं रेवे देश में ,देश रा इसा भाग कठे ||
झूठ -कपट ने रोक सके, इसा अबे लोग कठे |
सारा लोग सुखी हो जावे ,इसा अबे जोग कठे ||
बोली में मिश्री घोळ सके ,बा कोकिल कंठी नार कठे |
हिरदे में हेत जगा सके ,बा जीणे री आधार कठे ||
तन -मन ने निरोग राखे,इसी अबे खुराक कठे |
जुर्मी डर सू धूजण लागे ,पुलिस री इसी धाक कठे||
कायर ने वीर बणा सके ,कवियां रो बो सन्देश कठे |
दुश्मन धूजे जिण रे सामे ,वीरां रो बो देश कठे ||
देवी रो रूप दिखे जिण में ,छोरयाँ रो बिसो वेश कठे|
दुनिया ने मार्ग दिखाणे वाळो ,बो विश्वगुरु भारत देश कठे||
************************************************************

अगला लेख: कथित आधी घरवाली



इंजी. बैरवा
22 सितम्बर 2017

अच्छा लिखा है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अगस्त 2016
पाखण्ड पर कटाक्ष करती कहानी - लुटेरे -लुटेरे भाई -भाई ************************************************************ एक शहर की सीमा पर स्थित एक मंदिर के विशाल प्रांगणमें एक पंडा पंडाल में बैठे जन -समूह को प्रवचन देते हुए यह बता रहा था कि ईश्वर सर्वशक्तिमानहै |ईश्वर की इच्छा
23 अगस्त 2016
24 अगस्त 2016
गा
@@@@@@गाथा भारत महान की @@@@@@*******************************बातें करते बड़ी-बड़ी हम ,नीति आदर्श और शान की |गाथा सुनो तुम साथियों, इस भारत देश महान की ||पीने लगी है दूध मूर्ति,यह बात फैली थी गली-गली |विज्ञान के इस युग में भी,यहाँ रूढ़ियाँ फैली हैं सड़ी-गली ||कन्या को देवी समझ कर , पूजा भारत में जाता है
24 अगस्त 2016
25 अगस्त 2016
टिमटिमाते तारे की रोशनी में मैंने भी एक सपना देखा है । टुटे हुए तारे को गिरते देखकर मैंने भी एक सपना देखा है । सोचता हूं मन ही मन कभी काश ! कोई ऐसा रंग होता जिसे तन-बदन में लगाकर सपनों के रंग में रंग जाता । बाहरी रंग के संसर्ग पाकर मन भी वैसा रंगीन हो जाता । सपनों से जुड़ी है उम्मीदे
25 अगस्त 2016
02 सितम्बर 2016
@@@@@ अनूठा हवाई अड्डा @@@@@--------------------------------------------------एक सुनहरे सफ़र की , मैं बता रहा हूँ यह बात |ट्रेन के उस सफ़र में ,एक सुन्दरी थी मेरे साथ ||सुन्दरी ने पहन रखा था,हवाई जहाजी लॉकेट |और सामने की सीट पर , बैठा था युवक एक ||मेरी नजर तो उस प्लेन पे , सिर्फ एक बार थी पड़ी |पर दृष
02 सितम्बर 2016
16 अगस्त 2016
  तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,बीरान सी भी .वो बावली बौराई सरफिरीलड़की कहाँ छुपी है रे ? जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों मेंधकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद कोजब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद . क्यों बिगड़ती हो यूँ ?जानती हो न ,तु
16 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो म
20 अगस्त 2016
03 सितम्बर 2016
कुर्सी से चिपके कबाड़ बनते नेताओं पर कटाक्ष करती कविता _@@@@@@@@@-कबाड़ नेता -@@@@@@@@@***********************************************************काली अंधेरी एक रात को ,देखा एक भयानक सपना |बता कर मैं उसे आपको ,साँझा कर रहा हूँ दुःख मैं अपना ||अच्छा ख़ासा मैं आदमी ,बन गया मैं सपने में कबाड़ |पत्नी ने पुक
03 सितम्बर 2016
20 अगस्त 2016
@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो म
20 अगस्त 2016
26 अगस्त 2016
@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@****************************************************अपने हुनर को तराश इतना ,कि तूदुनिया का सरताज हो जाये |हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताजहो जाये||अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदारको बेताब हो जाये |छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाबहो जाये
26 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
कु
हर मोड़ पर मिलते है यहाँ चाँद से चेहरेपहले की तरह क्यो दिल को नही भाते ||बड़ी मुद्दतो बाद लौटे हो वतन तुम आजपर अपनो के लिए कुछ आस नही लाते ||काटो मे खेल कर जिनका जीवन गुज़राफूलो के बिस्तर उन्हे अब रास नही आते||किसान, चातक, प्यासो आसमा देखना छोड़ोबादल भी आजकल कुछ खास नही आते ||
22 अगस्त 2016
04 सितम्बर 2016
धूप मे धूप साये मे साया हूँ बस यही नुस्का आजमाया हूँएक बोझ दिल से उतर गया कई दिनों बाद मुस्कुराया हूँदीवारें भी लिपट पड़ी मुझसेमुद्दतों के बाद घर आया हूँउसे पता नहीं मेरे आने का छुप कर के उसे बुलाया हूँ समीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
22 अगस्त 2016
हा
@@@@@@ हाँ रे मिनख जाग जा @@@@@@*********************************************************हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |क मिनख जाग जा |नेता लुटे अफसर लुटे,मिलकर सारा लूटे रे |(2)क अंग्रेजां री लूटपाट ,अब फीकी पड़गी रे ||क मिनख जाग जा |हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो
22 अगस्त 2016
01 सितम्बर 2016
@@@@@@ पप्पू पास ,पापा फेल @@@@@@*********************************************************मम्मी से अलग सोने को ,जब पप्पू हुआ नहीं राजी |पापा को उसे समझाने की , सूझ आयी तरकीब ताजी |बोले ,मम्मी के संग सोने वाले ,छोटे बच्चे होते हैं |नहीं समझ होती जिनको ,जो बिन बात के रोते है ||पप्पू बोला, पापा आप ,नार
01 सितम्बर 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x