हाँ रे मिनख जाग जा

22 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (132 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@ हाँ रे मिनख जाग जा @@@@@@

*********************************************************

हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |

क मिनख जाग जा |

नेता लुटे अफसर लुटे,मिलकर सारा लूटे रे |(2)
क अंग्रेजां री लूटपाट ,अब फीकी पड़गी रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |
नकली घी दूध ने बेचे ,बेचे धर्म-ईमान रे |(2)
क सच्चाई रो सोनो अब, पीतल सू मिलाग्यो रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबणरो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |
खुद बाड़ खेत ने खावे ,बेटी सू रास रचावे रे |(2)
क पशुता रो घोर अंधेरो ,अब मुल्क में छाग्यो रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |
बहिन बेच बेटी ने बेचे , बेचे शर्म इन्सान रे |(2)
क पाप्याँ रो पुरानो धंधो,अब खुले में चल्ग्यो रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |
चोरी करे जारी करे ,डाले खूब डकेती रे |(2)
क भरोसे रो बेड़ो अब डूबण लाग्यो रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |
घूस खावे माँस खावे,खावे देश री बोटी रे |(2)
क भूख रो भतुलियो,अब आकाशा चढ़ग्यो रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |
खाणे में खोट पाणी में खोट,खोटो सब व्योपार रे |(2)
धर्म- कर्म रो दिवलो ,अब भारत में बुझ्ग्यो रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |
कवि सोये लेखक सोये ,सोयी सारी जनता रे |(2)
सगळा ने जगावण खातिर, दुर्गेश आग्यो रे ||
क मिनख जाग जा |
हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |
क मिनख जाग जा |

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अगस्त 2016
बो
@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@ ******************************************************* मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे | भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे || पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे| घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार क
20 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
@@@@@@ इन्सान @@@@@@*********************************************सृष्टि का सबसे विचित्र , प्राणी है इन्सान |जीता है वो जिन्दगी,दिखा कर झूठी शान ||नहीं जी पाता वो कभी,सीधी सहज जिन्दगी |झूठ और कपट की ,करता उम्र भर बन्दगी ||बड़ा होना चाहता बचपन में, पचपन में चाहता फिर बचपन |अजीब है इन्सान की फितरत,जिन्द
23 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
पाखण्ड पर कटाक्ष करती कहानी - लुटेरे -लुटेरे भाई -भाई ************************************************************ एक शहर की सीमा पर स्थित एक मंदिर के विशाल प्रांगणमें एक पंडा पंडाल में बैठे जन -समूह को प्रवचन देते हुए यह बता रहा था कि ईश्वर सर्वशक्तिमानहै |ईश्वर की इच्छा
23 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x