खरी कमाई बनाम खोटी कमाई

22 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (135 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@@ कमाई @@@@@@@

*************************************************

एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |

एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||

धर्मपत्नी सी वेतन वाली,र खेल जैसी घूस वाली |
एक दिलाए इज्जत ,दूजी दिलाए गाली ||
एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |
एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||
शरबत जैसी वेतन वाली,शराब जैसी घूस वाली |
ये कमाई हलाल की ,तो वो कमाई काली ||
एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |
एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||
भोजन सी है वेतन वाली, विष्टा सी है घूस वाली |
एक है धारा है गंगा की,तो दूजी गटर की नाली ||
एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |
एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||
मासूम सी है वेतन वाली,पापिन सी है ऊपर वाली |
एक जाड़े की धूप है , तो दूजी रात है काली ||
एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |
एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||
कूल-कूल है वेतन वाली है,होट-होट है घूस वाली |
एक बजाए बन्शी ,तो दूजी बजाए ताली ||
एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |
एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||
मेहनत की बेटी वेतन वाली ,हराम की है घूस वाली |
है पहली कमाई असली , है दूजी कमाई जाली ||
एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |
एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अगस्त 2016
पाखण्ड पर कटाक्ष करती कहानी - लुटेरे -लुटेरे भाई -भाई ************************************************************ एक शहर की सीमा पर स्थित एक मंदिर के विशाल प्रांगणमें एक पंडा पंडाल में बैठे जन -समूह को प्रवचन देते हुए यह बता रहा था कि ईश्वर सर्वशक्तिमानहै |ईश्वर की इच्छा
23 अगस्त 2016
26 अगस्त 2016
@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@****************************************************अपने हुनर को तराश इतना ,कि तूदुनिया का सरताज हो जाये |हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताजहो जाये||अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदारको बेताब हो जाये |छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाबहो जाये
26 अगस्त 2016
26 अगस्त 2016
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@घोर मंहगाई के इस दौर में , जान इन्सान की सस्ती है |जिसने जितना ठगा किसी को, उसकी उतनी हस्ती है ||पर न हिम्मत हार ओ नेक इन्सान नसीब इसे मान कर ,भ्रष्टाचार के भँवर में भी, नहीं डूबती ईमान की कश्ती है ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
26 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x