अपने देश की "महानता"के क्या कहने

24 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (154 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यंग लेख --अपने देश की "महानता"के क्या कहने

******************************************************

मैं अपने देश भारत की उदारता को नमन करता हूँ |यही तो वो देश है ,जहाँ एक अनाचारी ,दुराचारी ,भ्रष्टाचारी ,अत्याचारी और बलात्कारी व्यक्ति साधू का वेश धारण कर महा ज्ञान ी के रूप में विख्यात हो जाता है | करोड़ों रुपयों में खेल ने वाला घोर लालची आदमी त्यागी के रूप में ख्याति प्राप्त कर लेता है | कृष्ण का रूप धर कर युवतियों रुपी गोपियों से रास रचाने वाला पाखण्डी अखण्ड ब्रह्मचारी का रुतबा हासिल कर लेता है |

जनता को दोनों हाथों से लूटने वाला न जाने कैसे सन्त के रूप में प्रतिष्ठित हो जाता है |

पुरुष उन पर अपना धन लुटाते हैं और नारियां अपना तन |आखिर क्यों ?

कोई खरा आदमी खरी बात करता है तो कोई नहीं सुनता और सुन लेता है तो गुनता नहीं |जबकि खरा आदमी न तो किसी से चन्दा मांगता है न किसी नारी की अस्मत |

पर ढोंगी बाबा या बापू ये दोनों मांगते हैं और उन्हें ये दोनों मिल जाते हैं वो भी ख़ुशी और सम्मान के साथ |नारियां अपने अच्छे- भले पति को छोड़ कर इन ढोंगी बाबाओं को अपना पति -परमेश्वर मान लेती हैं और बिना फेरे लिए इनके फेर में पड़कर अपनी बसी बसायी गृहस्थी उजाड़ लेती हैं |आखिर इन ढोंगी बाबाओं के पास ऐसा क्या है कि लोग अपना तन,मन और धन लुटा कर भी उनके सानिध्य को तरसते हैं |क्या एक -दो भविष्यवाणियाँ संयोग वश सच निकालने भर से जनता उन्हें सिर आँखों पर बिठा लेती हैं ?या क्या वे लोगों का ब्रेनवाश करने या उन्हें सम्मोहित करने में सक्षम हैं ?कुछ लोगों को तो मुर्ख बनाया जा सकता है पर लाखों लोगों को मुर्ख बनाना बहुत ही कठिन है |आश्चर्य तो यह है कि बाबाओं द्वारा मूर्ख बनाये लोगों मे उच्च शिक्षित लोग भी कम नहीं होते |कोई भला आदमी यदि मुफ्त में भली बात कहता है तो लोग उसकी कोई क़द्र नहीं करते |ढोंगी बाबा अपने दर्शनों तक के पैसे वसूलते हैं |शायद इसलिए लोग उनकी कदर करते हैं |यह तो दिमाग का दिवालियापन ही है कि लाल की बजाय हरी चटनी,समोसे की बजाय कचोरी खाने से कृपा बरसाने वाले बाबा को सुनने के लिए लोग हजारों रुपये पेशगी जमा कराते हैं |इधर इस लेख का लेखक है जो अपनी उच्च स्नातक शिक्षिका पत्नी को भी अंध विश्वास से मुक्त नहीं कर पाया| क्या विद्वान पाठक गण मुझे यह बतायेंगें कि उन झांसेबाज बाबाओं के पास ऐसा क्या है कि उनकी बेतुकी बातों को भी लोग मान लेते हैं जबकि वे मेरी तर्क पूर्ण बातों को भी सिरे से नकार देते हैं|

क्या मैं सही ढंग से अपना पक्ष प्रस्तुत करने में सक्षम नहीं हूँ ?

कितने बेवकूफ होते हैं वे लोग जो नोट दुगना करने के झांसे में आकर अपनी मेहनत की कमाई इन झान्सेबाजों के हाथ में सौंप देते हैं और यह नहीं सोचते कि यदि नोट चमत्कार से दुगने होते तो नोट दुगने करने का दावा करने वाले उनके पास आते ही क्यों | तब तो वे खुद ही अपने नोटों को बार-बार दुगना करके अमीर बन जाते |

मुझे शर्म आती है इस देश के उन अंध विश्वासी लोगों पर,जिन्होंने इस बात पर भरोसा कर कि गणेश -मूर्ति दूध पीने लगी है ,मूर्ति को दूध पिलाने के लिए पंक्ति में खड़े होकर घंटों इन्तजार किया था |उन्हें पास में खड़े उन गरीब बच्चों की भूख की कोई परवाह नहीं थी, जो उनके हाथों में पकड़ें गिलासों में रखे दूध को तरसती निगाहों से देख रहे थे |

इस देश के लोगों को न जाने क्या हो गया है कि जब तक कोई रिश्वत नहीं मांगे, तब तक उन्हें यह विश्वास ही नहीं होता कि उनका काम हो जायेगा |

लानत है इस देश की उन निर्दयी नारियों पर,जो तांत्रिकों के झांसे में आकर मातृत्व प्राप्त करने के लालच में दूसरों के बच्चों की हत्या कर देती हैं |कैसे मूर्ख हैं वे लोग,जो यात्रा के दौरान अनजान लोगों की चिकनी -चुपड़ी बातों में आकर,उनसे घुलमिल जाते हैं और फिर उनसे लुट जाने पर अपना सिर धुनते हैं |

ऐसा इस अजब -अनोखे भारत देश में ही हो सकता है |फिर भी हम अपने देश को महान कहते नहीं थकते |

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 सितम्बर 2016
@@@@@ अनूठा हवाई अड्डा @@@@@--------------------------------------------------एक सुनहरे सफ़र की , मैं बता रहा हूँ यह बात |ट्रेन के उस सफ़र में ,एक सुन्दरी थी मेरे साथ ||सुन्दरी ने पहन रखा था,हवाई जहाजी लॉकेट |और सामने की सीट पर , बैठा था युवक एक ||मेरी नजर तो उस प्लेन पे , सिर्फ एक बार थी पड़ी |पर दृष
02 सितम्बर 2016
07 सितम्बर 2016
आशावादी बनना चाहिए। आशावादिता से जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन आते हैं। इसलिए आशाएं कभी भी नहीं मरनी चाहिएं। आशाएं सजीव रखेंगे तो जीवन में आगे बढ़ने का मार्ग सदैव बना रहेगा। आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें... JYOTISH NIKETAN: आशावादी बनें!
07 सितम्बर 2016
05 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
05 सितम्बर 2016
11 अगस्त 2016
म्हारा जीवन तराजू समान हैं जिसमें सुख और दुःख रूपी दो पल्लें हैं और डंडी जीवन को बोझ उठाने वाली सीमा पट्टी हें .काँटा जीवन चक्र के घटने वाले समयों का हिजाफा देता हैं .सुख दुःख के किसी भी पल्ले का बोझ कम या अधिक होनें पर कांटा डगमगाने लगता हैं सुख दुःख रूपी पल्लों की जुडी लारियां उसके किय कर्मो की सू
11 अगस्त 2016
08 सितम्बर 2016
सुखद् गृहस्थ जीवन के लिए आवश्यक है कि दोनों अपना-अपना उत्‍तरदायित्व समझें। इसके लिए चार स्तम्भ अत्यन्त सुदृढ़ रखने चाहिएं, ये हैं-स्नेह, सहयोग, सम्मान एवं विश्वास। आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें... JYOTISH NIKETAN: सुखद् गृहस्थ जीवन हेतु आवश्यक है !
08 सितम्बर 2016
03 सितम्बर 2016
का
@@@@@@@@@@@@@@@@@@काव्य की विधाएँ विविध,है अलग सबकी पसन्द |गीत,गजल,दोहा,भजन,कविता शेर और छन्द ||कविता शेर और छन्द, नवरस के रंग बरसाए ,कुण्डी खोल दिल -द्वार की , मार्ग सही दिखाएँ ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@
03 सितम्बर 2016
08 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
08 सितम्बर 2016
24 अगस्त 2016
गा
@@@@@@गाथा भारत महान की @@@@@@*******************************बातें करते बड़ी-बड़ी हम ,नीति आदर्श और शान की |गाथा सुनो तुम साथियों, इस भारत देश महान की ||पीने लगी है दूध मूर्ति,यह बात फैली थी गली-गली |विज्ञान के इस युग में भी,यहाँ रूढ़ियाँ फैली हैं सड़ी-गली ||कन्या को देवी समझ कर , पूजा भारत में जाता है
24 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
@@@@@@@ कमाई @@@@@@@*************************************************एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||धर्मपत्नी सी वेतन वाली,रखेल जैसी घूस वाली |एक दिलाए इज्जत ,दूजी दिलाए गाली ||एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||शरबत जैसी
22 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
बो
@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@ ******************************************************* मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे | भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे || पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे| घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार क
20 अगस्त 2016
10 अगस्त 2016
जि
जिंदगी गडित के एक सवाल की तरह हैं जिसमें सम विषम संख्यायों की तरह सुलझें - अनसुलझें साल हैं .हमारी दुनियां वृत की तरह गोल हैं जिस पर हम परिधि की तरह गोल गोल घूमतें रहते हैं .आपसी अंतर भेद को व् जीवन में आपसी सामंजस्य बिठाने के लिए  कभी हम जोड़ - वाकी करते हैं तो कभी हम गुणा भाग करते हैं .लेकिन फिर भी
10 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
हा
@@@@@@ हाँ रे मिनख जाग जा @@@@@@*********************************************************हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |क मिनख जाग जा |नेता लुटे अफसर लुटे,मिलकर सारा लूटे रे |(2)क अंग्रेजां री लूटपाट ,अब फीकी पड़गी रे ||क मिनख जाग जा |हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो
22 अगस्त 2016
04 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
04 सितम्बर 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x