अपने देश की "महानता"के क्या कहने

24 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (189 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यंग लेख --अपने देश की "महानता"के क्या कहने

******************************************************

मैं अपने देश भारत की उदारता को नमन करता हूँ |यही तो वो देश है ,जहाँ एक अनाचारी ,दुराचारी ,भ्रष्टाचारी ,अत्याचारी और बलात्कारी व्यक्ति साधू का वेश धारण कर महा ज्ञान ी के रूप में विख्यात हो जाता है | करोड़ों रुपयों में खेल ने वाला घोर लालची आदमी त्यागी के रूप में ख्याति प्राप्त कर लेता है | कृष्ण का रूप धर कर युवतियों रुपी गोपियों से रास रचाने वाला पाखण्डी अखण्ड ब्रह्मचारी का रुतबा हासिल कर लेता है |

जनता को दोनों हाथों से लूटने वाला न जाने कैसे सन्त के रूप में प्रतिष्ठित हो जाता है |

पुरुष उन पर अपना धन लुटाते हैं और नारियां अपना तन |आखिर क्यों ?

कोई खरा आदमी खरी बात करता है तो कोई नहीं सुनता और सुन लेता है तो गुनता नहीं |जबकि खरा आदमी न तो किसी से चन्दा मांगता है न किसी नारी की अस्मत |

पर ढोंगी बाबा या बापू ये दोनों मांगते हैं और उन्हें ये दोनों मिल जाते हैं वो भी ख़ुशी और सम्मान के साथ |नारियां अपने अच्छे- भले पति को छोड़ कर इन ढोंगी बाबाओं को अपना पति -परमेश्वर मान लेती हैं और बिना फेरे लिए इनके फेर में पड़कर अपनी बसी बसायी गृहस्थी उजाड़ लेती हैं |आखिर इन ढोंगी बाबाओं के पास ऐसा क्या है कि लोग अपना तन,मन और धन लुटा कर भी उनके सानिध्य को तरसते हैं |क्या एक -दो भविष्यवाणियाँ संयोग वश सच निकालने भर से जनता उन्हें सिर आँखों पर बिठा लेती हैं ?या क्या वे लोगों का ब्रेनवाश करने या उन्हें सम्मोहित करने में सक्षम हैं ?कुछ लोगों को तो मुर्ख बनाया जा सकता है पर लाखों लोगों को मुर्ख बनाना बहुत ही कठिन है |आश्चर्य तो यह है कि बाबाओं द्वारा मूर्ख बनाये लोगों मे उच्च शिक्षित लोग भी कम नहीं होते |कोई भला आदमी यदि मुफ्त में भली बात कहता है तो लोग उसकी कोई क़द्र नहीं करते |ढोंगी बाबा अपने दर्शनों तक के पैसे वसूलते हैं |शायद इसलिए लोग उनकी कदर करते हैं |यह तो दिमाग का दिवालियापन ही है कि लाल की बजाय हरी चटनी,समोसे की बजाय कचोरी खाने से कृपा बरसाने वाले बाबा को सुनने के लिए लोग हजारों रुपये पेशगी जमा कराते हैं |इधर इस लेख का लेखक है जो अपनी उच्च स्नातक शिक्षिका पत्नी को भी अंध विश्वास से मुक्त नहीं कर पाया| क्या विद्वान पाठक गण मुझे यह बतायेंगें कि उन झांसेबाज बाबाओं के पास ऐसा क्या है कि उनकी बेतुकी बातों को भी लोग मान लेते हैं जबकि वे मेरी तर्क पूर्ण बातों को भी सिरे से नकार देते हैं|

क्या मैं सही ढंग से अपना पक्ष प्रस्तुत करने में सक्षम नहीं हूँ ?

कितने बेवकूफ होते हैं वे लोग जो नोट दुगना करने के झांसे में आकर अपनी मेहनत की कमाई इन झान्सेबाजों के हाथ में सौंप देते हैं और यह नहीं सोचते कि यदि नोट चमत्कार से दुगने होते तो नोट दुगने करने का दावा करने वाले उनके पास आते ही क्यों | तब तो वे खुद ही अपने नोटों को बार-बार दुगना करके अमीर बन जाते |

मुझे शर्म आती है इस देश के उन अंध विश्वासी लोगों पर,जिन्होंने इस बात पर भरोसा कर कि गणेश -मूर्ति दूध पीने लगी है ,मूर्ति को दूध पिलाने के लिए पंक्ति में खड़े होकर घंटों इन्तजार किया था |उन्हें पास में खड़े उन गरीब बच्चों की भूख की कोई परवाह नहीं थी, जो उनके हाथों में पकड़ें गिलासों में रखे दूध को तरसती निगाहों से देख रहे थे |

इस देश के लोगों को न जाने क्या हो गया है कि जब तक कोई रिश्वत नहीं मांगे, तब तक उन्हें यह विश्वास ही नहीं होता कि उनका काम हो जायेगा |

लानत है इस देश की उन निर्दयी नारियों पर,जो तांत्रिकों के झांसे में आकर मातृत्व प्राप्त करने के लालच में दूसरों के बच्चों की हत्या कर देती हैं |कैसे मूर्ख हैं वे लोग,जो यात्रा के दौरान अनजान लोगों की चिकनी -चुपड़ी बातों में आकर,उनसे घुलमिल जाते हैं और फिर उनसे लुट जाने पर अपना सिर धुनते हैं |

ऐसा इस अजब -अनोखे भारत देश में ही हो सकता है |फिर भी हम अपने देश को महान कहते नहीं थकते |

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अगस्त 2016
कौ
@@@@@ कौन श्रेष्ठ है नर या नारी @@@@@*****************************************************कौन श्रेष्ठ है इन दोनों में , एक पुरुष या एक नारी |भरी महफ़िल में इस मुद्दे पर,चल रही थी बहस भारी ||हम न होती तो कैसे घर में,नन्हा मेहमान कोई आता ?बोली एक नारी जोश में ,जो पुत्र हमारा कहलाता ?|एक पुरुष तपाक से ब
31 अगस्त 2016
12 अगस्त 2016
जी
 जिंदगी तमाम अजब - अनूठे कारनामों से भरी हैं .ईन्सान अपनी तमाम भरपूर कोशिशों के बाबजूद भी उस पर सवार होकर अपनी मनमर्जी से जिन्दगीं नहीं जी पाता .वह अपनी ईच्छानुसार मोडकर उस पर सवारी नहीं कर सकता .क्योकि जिन्दगीं कुदरत का एक घोडा हैं अर्थात जिन्दगीं की लगाम कुदरत के हाथों में हैं जिस पर उसके सिवाय कि
12 अगस्त 2016
26 अगस्त 2016
@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@****************************************************अपने हुनर को तराश इतना ,कि तूदुनिया का सरताज हो जाये |हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताजहो जाये||अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदारको बेताब हो जाये |छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाबहो जाये
26 अगस्त 2016
02 सितम्बर 2016
जब नौकरी दिलवाने,शादी करवाने ,मकान/फ्लैट,भूखंड बेचने का झांसा देकर रकम हड़पने वाले ठगों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही हो सकती है तो सर्वजनिक रूप से विदेशों से काला धन 100 दिनों में भारत लाकर प्रत्येक भारतीय के खाते में पंद्रह पंद्रह लाख रुपये जमा करवाने का आश्वासन देकर मतदाताओं को फुसला कर उनसे वोट हासिल
02 सितम्बर 2016
03 सितम्बर 2016
कुर्सी से चिपके कबाड़ बनते नेताओं पर कटाक्ष करती कविता _@@@@@@@@@-कबाड़ नेता -@@@@@@@@@***********************************************************काली अंधेरी एक रात को ,देखा एक भयानक सपना |बता कर मैं उसे आपको ,साँझा कर रहा हूँ दुःख मैं अपना ||अच्छा ख़ासा मैं आदमी ,बन गया मैं सपने में कबाड़ |पत्नी ने पुक
03 सितम्बर 2016
05 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
05 सितम्बर 2016
04 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
04 सितम्बर 2016
07 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
07 सितम्बर 2016
23 अगस्त 2016
पाखण्ड पर कटाक्ष करती कहानी - लुटेरे -लुटेरे भाई -भाई ************************************************************ एक शहर की सीमा पर स्थित एक मंदिर के विशाल प्रांगणमें एक पंडा पंडाल में बैठे जन -समूह को प्रवचन देते हुए यह बता रहा था कि ईश्वर सर्वशक्तिमानहै |ईश्वर की इच्छा
23 अगस्त 2016
10 अगस्त 2016
जि
जिंदगी गडित के एक सवाल की तरह हैं जिसमें सम विषम संख्यायों की तरह सुलझें - अनसुलझें साल हैं .हमारी दुनियां वृत की तरह गोल हैं जिस पर हम परिधि की तरह गोल गोल घूमतें रहते हैं .आपसी अंतर भेद को व् जीवन में आपसी सामंजस्य बिठाने के लिए  कभी हम जोड़ - वाकी करते हैं तो कभी हम गुणा भाग करते हैं .लेकिन फिर भी
10 अगस्त 2016
08 सितम्बर 2016
सुखद् गृहस्थ जीवन के लिए आवश्यक है कि दोनों अपना-अपना उत्‍तरदायित्व समझें। इसके लिए चार स्तम्भ अत्यन्त सुदृढ़ रखने चाहिएं, ये हैं-स्नेह, सहयोग, सम्मान एवं विश्वास। आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें... JYOTISH NIKETAN: सुखद् गृहस्थ जीवन हेतु आवश्यक है !
08 सितम्बर 2016
22 अगस्त 2016
हा
@@@@@@ हाँ रे मिनख जाग जा @@@@@@*********************************************************हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |क मिनख जाग जा |नेता लुटे अफसर लुटे,मिलकर सारा लूटे रे |(2)क अंग्रेजां री लूटपाट ,अब फीकी पड़गी रे ||क मिनख जाग जा |हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो
22 अगस्त 2016
26 अगस्त 2016
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@घोर मंहगाई के इस दौर में , जान इन्सान की सस्ती है |जिसने जितना ठगा किसी को, उसकी उतनी हस्ती है ||पर न हिम्मत हार ओ नेक इन्सान नसीब इसे मान कर ,भ्रष्टाचार के भँवर में भी, नहीं डूबती ईमान की कश्ती है ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
26 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x