अपने हुनर को तराश इतना

26 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (133 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@

****************************************************

अपने हुनर को तराश इतना ,कि तू

दुनिया का सरताज हो जाये |

हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताज
हो जाये||
अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदार
को बेताब हो जाये |
छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाब
हो जाये ||
दिखा तू करतब अपना ऐसा , कि तुझे तुझ पर नाज
हो जाये |
और हर ईनाम तेरी झोली में , आने को बेताब
हो जाये ||
फैला तू ज्ञान का प्रकाश इतना ,कि तू विश्व गुरू
नायब हो जाये |
पछाड़ कर हर पाखण्ड को , तू एक खुली किताब
हो जाये ||
संवार तू अपनी हस्ती इतनी ,कि तू
दुनिया की आवाज हो जाये |
और तेरे नाम से भी किसी , पुरस्कार का आगाज
हो जाये ||
कर तू चमत्कार ऐसा, कि तेरी हर कोशिश कामयाब
हो जाये |
और तेरी हस्ती के सामने , छोटा हर खिताब
हो जाये ||
कर तू सृजन अनुपम ऐसा ,कि तेरी रचना अमर
सौगात हो जाये |
और तेरे सुकर्मो से जग में,खुशियों की बरसात
हो जाये ||
कर तू जीत का इन्तजाम ऐसा ,कि हर दुश्मन
की मात हो जाये |
यह चुनौती है दुर्गेश तुझे, आज से ही जंग
की शुरुआत हो जाय ||

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2016
अपने गिरेबां में झांकऐ मेरे रहगुजरसाथ चलना है तो चलऐ मेरे हमसफरचाल चलता ही जा तूरात-ओ-दिन दोपहरजीत इंसां की होगीयाद रख ले मगरइल्म तुझको भी हैहै तुझे यह खबरएक झटके में होगाजहां से बदरशांति दूत हैं तोहैं हम जहरबचके रहना जरान रह बेखबर
14 अगस्त 2016
02 सितम्बर 2016
जब नौकरी दिलवाने,शादी करवाने ,मकान/फ्लैट,भूखंड बेचने का झांसा देकर रकम हड़पने वाले ठगों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही हो सकती है तो सर्वजनिक रूप से विदेशों से काला धन 100 दिनों में भारत लाकर प्रत्येक भारतीय के खाते में पंद्रह पंद्रह लाख रुपये जमा करवाने का आश्वासन देकर मतदाताओं को फुसला कर उनसे वोट हासिल
02 सितम्बर 2016
22 अगस्त 2016
@@@@@@@ कमाई @@@@@@@*************************************************एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||धर्मपत्नी सी वेतन वाली,रखेल जैसी घूस वाली |एक दिलाए इज्जत ,दूजी दिलाए गाली ||एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||शरबत जैसी
22 अगस्त 2016
04 सितम्बर 2016
तेरी तरहा मैं हो नहीं सकता नहीं ये करिश्मा हो नहीं सकतामैंने पहचान मिटा दी अपनी भीड़ मे अब खो नहीं सकताबहुत से काम याद रहते है दिन मे मैं सो नहीं सकताकि पढ़ लूँ पलकों पे लिखी इतना सच्चा हो नहीं सकतासमीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
20 अगस्त 2016
बो
@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@ ******************************************************* मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे | भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे || पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे| घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार क
20 अगस्त 2016
24 अगस्त 2016
गा
@@@@@@गाथा भारत महान की @@@@@@*******************************बातें करते बड़ी-बड़ी हम ,नीति आदर्श और शान की |गाथा सुनो तुम साथियों, इस भारत देश महान की ||पीने लगी है दूध मूर्ति,यह बात फैली थी गली-गली |विज्ञान के इस युग में भी,यहाँ रूढ़ियाँ फैली हैं सड़ी-गली ||कन्या को देवी समझ कर , पूजा भारत में जाता है
24 अगस्त 2016
03 सितम्बर 2016
कुर्सी से चिपके कबाड़ बनते नेताओं पर कटाक्ष करती कविता _@@@@@@@@@-कबाड़ नेता -@@@@@@@@@***********************************************************काली अंधेरी एक रात को ,देखा एक भयानक सपना |बता कर मैं उसे आपको ,साँझा कर रहा हूँ दुःख मैं अपना ||अच्छा ख़ासा मैं आदमी ,बन गया मैं सपने में कबाड़ |पत्नी ने पुक
03 सितम्बर 2016
26 अगस्त 2016
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@घोर मंहगाई के इस दौर में , जान इन्सान की सस्ती है |जिसने जितना ठगा किसी को, उसकी उतनी हस्ती है ||पर न हिम्मत हार ओ नेक इन्सान नसीब इसे मान कर ,भ्रष्टाचार के भँवर में भी, नहीं डूबती ईमान की कश्ती है ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
26 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
@@@@@@ इन्सान @@@@@@*********************************************सृष्टि का सबसे विचित्र , प्राणी है इन्सान |जीता है वो जिन्दगी,दिखा कर झूठी शान ||नहीं जी पाता वो कभी,सीधी सहज जिन्दगी |झूठ और कपट की ,करता उम्र भर बन्दगी ||बड़ा होना चाहता बचपन में, पचपन में चाहता फिर बचपन |अजीब है इन्सान की फितरत,जिन्द
23 अगस्त 2016
31 अगस्त 2016
कौ
@@@@@ कौन श्रेष्ठ है नर या नारी @@@@@*****************************************************कौन श्रेष्ठ है इन दोनों में , एक पुरुष या एक नारी |भरी महफ़िल में इस मुद्दे पर,चल रही थी बहस भारी ||हम न होती तो कैसे घर में,नन्हा मेहमान कोई आता ?बोली एक नारी जोश में ,जो पुत्र हमारा कहलाता ?|एक पुरुष तपाक से ब
31 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
  तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,बीरान सी भी .वो बावली बौराई सरफिरीलड़की कहाँ छुपी है रे ? जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों मेंधकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद कोजब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद . क्यों बिगड़ती हो यूँ ?जानती हो न ,तु
16 अगस्त 2016
30 अगस्त 2016
प्रदत शीर्षक- दर्पण ,शीशा ,आईना,आरसी आदि “मुक्तक” शीशा टूट जाता है, जरा सी चोट खाने पर दरपन झट बता देता, उभरकर दाग आने पर आईने की नजर भी, देखती बिंदास सूरतें तहजीब से चलती है, खुदी मुकाम पाने पर॥ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
30 अगस्त 2016
30 अगस्त 2016
यह चार पदों(पंक्तियों मे) लिखा जाने वाला वार्णिक छंद है। इसमे वर्ण अर्थात अक्षरों की गिनती होती है, 8/8/8/7 पर यति अर्थात प्रति पंक्ति 31 वर्ण, भाव प्रभाव रचना मे तुकांत लघु गुरु पर अनिवार्य।"मनहर घनाक्षरी" दाना मांझी को बताई, प्रशासन ने अधिक, लाचारी जो लिए चली, चलन बीमा
30 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x