अपने हुनर को तराश इतना

26 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (146 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@ अपने हुनर को तराश इतना @@@@

****************************************************

अपने हुनर को तराश इतना ,कि तू

दुनिया का सरताज हो जाये |

हर ताज रहे तेरी ठोकर में ,और तू बादशाह बेताज
हो जाये||
अपने इल्म को निखार इतना, कि हर नजर दीदार
को बेताब हो जाये |
छू ले तू हर बुलन्दी को , और सच्चे तेरे ख्वाब
हो जाये ||
दिखा तू करतब अपना ऐसा , कि तुझे तुझ पर नाज
हो जाये |
और हर ईनाम तेरी झोली में , आने को बेताब
हो जाये ||
फैला तू ज्ञान का प्रकाश इतना ,कि तू विश्व गुरू
नायब हो जाये |
पछाड़ कर हर पाखण्ड को , तू एक खुली किताब
हो जाये ||
संवार तू अपनी हस्ती इतनी ,कि तू
दुनिया की आवाज हो जाये |
और तेरे नाम से भी किसी , पुरस्कार का आगाज
हो जाये ||
कर तू चमत्कार ऐसा, कि तेरी हर कोशिश कामयाब
हो जाये |
और तेरी हस्ती के सामने , छोटा हर खिताब
हो जाये ||
कर तू सृजन अनुपम ऐसा ,कि तेरी रचना अमर
सौगात हो जाये |
और तेरे सुकर्मो से जग में,खुशियों की बरसात
हो जाये ||
कर तू जीत का इन्तजाम ऐसा ,कि हर दुश्मन
की मात हो जाये |
यह चुनौती है दुर्गेश तुझे, आज से ही जंग
की शुरुआत हो जाय ||

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 सितम्बर 2016
@@@@@@ पप्पू पास ,पापा फेल @@@@@@*********************************************************मम्मी से अलग सोने को ,जब पप्पू हुआ नहीं राजी |पापा को उसे समझाने की , सूझ आयी तरकीब ताजी |बोले ,मम्मी के संग सोने वाले ,छोटे बच्चे होते हैं |नहीं समझ होती जिनको ,जो बिन बात के रोते है ||पप्पू बोला, पापा आप ,नार
01 सितम्बर 2016
23 अगस्त 2016
@@@@@@ इन्सान @@@@@@*********************************************सृष्टि का सबसे विचित्र , प्राणी है इन्सान |जीता है वो जिन्दगी,दिखा कर झूठी शान ||नहीं जी पाता वो कभी,सीधी सहज जिन्दगी |झूठ और कपट की ,करता उम्र भर बन्दगी ||बड़ा होना चाहता बचपन में, पचपन में चाहता फिर बचपन |अजीब है इन्सान की फितरत,जिन्द
23 अगस्त 2016
03 सितम्बर 2016
कुर्सी से चिपके कबाड़ बनते नेताओं पर कटाक्ष करती कविता _@@@@@@@@@-कबाड़ नेता -@@@@@@@@@***********************************************************काली अंधेरी एक रात को ,देखा एक भयानक सपना |बता कर मैं उसे आपको ,साँझा कर रहा हूँ दुःख मैं अपना ||अच्छा ख़ासा मैं आदमी ,बन गया मैं सपने में कबाड़ |पत्नी ने पुक
03 सितम्बर 2016
04 सितम्बर 2016
 आवा बन्धु,आवा भाई सुना जो अब हम कहने जाए।सुना ज़रा हमरी ये बतिय, दै पूरा अब ध्यान लगाय।कहत हु मैं इतिहास हमारा जान लै हो जो जान न पाए।जाना का था सच वह आपन जो अब तक सब रहे छुपाय।जाना का था बोस के सपना,जो अब सच न है हो पाए।जान लो का था भगत के अपना, जो कीमत मा दिए चुकाय।जाना काहे आज़ाद हैं पाये वीर गत
04 सितम्बर 2016
31 अगस्त 2016
कौ
@@@@@ कौन श्रेष्ठ है नर या नारी @@@@@*****************************************************कौन श्रेष्ठ है इन दोनों में , एक पुरुष या एक नारी |भरी महफ़िल में इस मुद्दे पर,चल रही थी बहस भारी ||हम न होती तो कैसे घर में,नन्हा मेहमान कोई आता ?बोली एक नारी जोश में ,जो पुत्र हमारा कहलाता ?|एक पुरुष तपाक से ब
31 अगस्त 2016
30 अगस्त 2016
यह चार पदों(पंक्तियों मे) लिखा जाने वाला वार्णिक छंद है। इसमे वर्ण अर्थात अक्षरों की गिनती होती है, 8/8/8/7 पर यति अर्थात प्रति पंक्ति 31 वर्ण, भाव प्रभाव रचना मे तुकांत लघु गुरु पर अनिवार्य।"मनहर घनाक्षरी" दाना मांझी को बताई, प्रशासन ने अधिक, लाचारी जो लिए चली, चलन बीमा
30 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो म
20 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो म
20 अगस्त 2016
02 सितम्बर 2016
@@@@@ अनूठा हवाई अड्डा @@@@@--------------------------------------------------एक सुनहरे सफ़र की , मैं बता रहा हूँ यह बात |ट्रेन के उस सफ़र में ,एक सुन्दरी थी मेरे साथ ||सुन्दरी ने पहन रखा था,हवाई जहाजी लॉकेट |और सामने की सीट पर , बैठा था युवक एक ||मेरी नजर तो उस प्लेन पे , सिर्फ एक बार थी पड़ी |पर दृष
02 सितम्बर 2016
20 अगस्त 2016
बो
@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@ ******************************************************* मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे | भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे || पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे| घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार क
20 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
बो
@@@@@ बो विश्वगुरु भारत देश कठे @@@@@ ******************************************************* मानवता है धर्म जकारो ,बे मिनख भलेरा आज कठे | भ्रष्टाचार ने रोक सके , इसो भलेरो राज कठे || पति रो दुखड़ो बाँट सके ,बा सती सुहागण नार कठे| घर ने सरग बणा सके ,बा लुगाई पाणीदार क
20 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
  तुम कितनी शांत हो गयी हो अब ,बीरान सी भी .वो बावली बौराई सरफिरीलड़की कहाँ छुपी है रे ? जानती हो , कितनी गहरी अँधेरी खाइयों मेंधकेल दी जाती सी महसूसती हूँ खुद कोजब तुम्हारे उस रूप को करती हूँ याद . क्यों बिगड़ती हो यूँ ?जानती हो न ,तु
16 अगस्त 2016
04 सितम्बर 2016
धूप मे धूप साये मे साया हूँ बस यही नुस्का आजमाया हूँएक बोझ दिल से उतर गया कई दिनों बाद मुस्कुराया हूँदीवारें भी लिपट पड़ी मुझसेमुद्दतों के बाद घर आया हूँउसे पता नहीं मेरे आने का छुप कर के उसे बुलाया हूँ समीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x