कौन श्रेष्ठ है नर या नारी

31 अगस्त 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (196 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@ कौन श्रेष्ठ है नर या नारी @@@@@

*****************************************************

कौन श्रेष्ठ है इन दोनों में , एक पुरुष या एक नारी |

भरी महफ़िल में इस मुद्दे पर,चल रही थी बहस भारी ||

हम न होती तो कैसे घर में,नन्हा मेहमान कोई आता ?
बोली एक नारी जोश में ,जो पुत्र हमारा कहलाता ?|
एक पुरुष तपाक से बोला ,यही तो दावा हमारा है |
नारी ने पुरुष के बलबूते पर , माँ का रूप धारा है ||
क्या कोई नारी बिन पुरुष के ,पूत पैदा कर पायी है ?
फिर पुरुष पर निर्भर नारी ,क्यों इतने जोश में आयी है ??
अर्थ समझ इस कथन का ,नारियां सब शरमा गयी |
मर्दाना हँसी के ठहाकों से,वे मन ही मन गरमा गयी ||
नर - नारी के संयोग से ही ,चलता है सृष्टि का चक्कर |
सहयोगी है वे एक दूजे के,सो है फिजूल दोनों की टक्कर ||

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अगस्त 2016
@@@@ कथित आधी घरवाली @@@@ ****************************************** उससे है रिश्ता ऐसा जो बोलचाल में गाली है | नाम है गुड्डन उसका,वो मेरी प्यारी साली है || शालीनता की प्रतिमूर्ति,वो नजर मुझको आती है | शर्म के मारे वो साली मेरी,छुईमुई बन जाती है || जब कभी किसी बात पर,वो म
20 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
@@@@@@ इन्सान @@@@@@*********************************************सृष्टि का सबसे विचित्र , प्राणी है इन्सान |जीता है वो जिन्दगी,दिखा कर झूठी शान ||नहीं जी पाता वो कभी,सीधी सहज जिन्दगी |झूठ और कपट की ,करता उम्र भर बन्दगी ||बड़ा होना चाहता बचपन में, पचपन में चाहता फिर बचपन |अजीब है इन्सान की फितरत,जिन्द
23 अगस्त 2016
03 सितम्बर 2016
का
@@@@@@@@@@@@@@@@@@काव्य की विधाएँ विविध,है अलग सबकी पसन्द |गीत,गजल,दोहा,भजन,कविता शेर और छन्द ||कविता शेर और छन्द, नवरस के रंग बरसाए ,कुण्डी खोल दिल -द्वार की , मार्ग सही दिखाएँ ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@
03 सितम्बर 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x