गुजराती गैंगस्टर जो रिवर्स गियर पर 50 की स्पीड में कार दौड़ाता था

31 अगस्त 2016   |  प्रतीक सिंह   (531 बार पढ़ा जा चुका है)

गुजराती गैंगस्टर जो रिवर्स गियर पर 50 की स्पीड में कार दौड़ाता था

1992 की बात है. अहमदाबाद के एक क्लब के सामने 4 लड़के कार से उतरते हैं. उनके हाथ में स्टेनगन है और एके-47 भी. अंदर घुसकर वो गोलियां चलाना शुरू करते हैं. 5 मिनट गोलियां चलतीं हैं, कुल 9 लोग मारे जाते हैं. वो वापस मारुति में चढ़ते हैं, गायब हो जाते हैं.

हमला करने वाला ये अब्दुल लतीफ शेख का गिरोह था. वही आदमी जिस पर कहा जाता है कि शाहरुख खान की अगली फिल्म बन रही है. रईस. मरने वाला आदमी था हंसराज त्रिवेदी. ये लतीफ के खिलाफ मजबूत होने लगा था. इसलिए उसको मार डाला गया. लेकिन उस रोज हंसराज और उसके लोगों के अलावा 6 बेगुनाह भी मारे गए थे.

अब्दुल लतीफ अहमदाबाद के दरियापुर इलाके में रहा करता था. उसके घर की हालत ठीक नहीं थी. परिवार बड़ा था इसलिए घर के सब लोग काम करते. इसी चक्कर में उसकी पढ़ाई भी नहीं हो पाई. कालूपुर ओवरब्रिज के पास देशी दारु बेचने से लतीफ ने क्राइम की दुनिया में प्रवेश किया. 70 के दशक तक वो छुटभैय्या ही था. फिर वो शराब के धंधे में उतर गया. वो विदेशी शराब की स्मगलिंग और सप्लाई करता. धीरे-धीरे अहमदाबाद के साथ उसका दबदबा पूरे गुजरात में फैल गया. लतीफ का ऐसा भौकाल था कि कोई भी बुटलेगर बिना उसकी मर्जी के शराब नहीं बेच सकता था. उसे शराब लतीफ से ही खरीदनी पड़ती थी.

बाद के दिनों में लतीफ ने हथियार स्मगल करने वाले शरीफ खान से जा मिला. अब वो शराब के साथ-साथ हथियारों की भी तस्करी करने लगा. फिरौती के लिए अपहरण, बंदूक की स्मगलिंग, सुपारी लेकर मर्डर करना यही उसके काम थे. इसकी कमाई से शहर कोट इलाके में रहने वाले बदमाशों को इकठ्ठा किया. अपनी गैंग बना ली. 1992 आते-आते उसके गैंग में 50 बदमाश थे. 500 छोटे-मोटे गुंडे उसकी मदद करते. उसके गिरोह के पास 4 एके-47 थी. 8 स्टेनगन थी. अर 100 के लगभग ऑटोमेटिक- नॉन ऑटोमेटिक हथियार थे. तब गुजरात के पुलिस उपायुक्त कहा करते थे. अगर इसको जल्द ही नहीं रोका गया तो ये अगला दाऊद इब्राहिम बन जाएगा.

1985 में उसने निकाय चुनाव में चुनाव लड़ा. पांच सीटों पर. वो भी जेल में रहते हुए. ताज्जुब ये कि सारी सीटों पर चुनाव जीत गया. ये अपने में ही बड़ी अजीब सी बात थी. 1992 में लतीफ को तड़ीपार कर दिया गया. उसके सिर पर तब तक 8 मर्डर और 24 दूसरे अपराध लग चुके थे. लेकिन अहमदाबाद में उसका आना-जाना बेखटके चलता. वो किसी से नहीं डरता था क्योंकि उसके पीछे मुसलमानों का हाथ था. वो भी बेवजह नहीं.

उसने अपनी मसीहाई इमेज बना ली थी. बड़े सलीके से मुसलमानों को बरगलाए रखा. उनकी कमजोरी का फायदा उठाया. दंगों में उनकी मदद की. इसीलिए वो उसको संरक्षण देते. ‘रईस’ अगर लतीफ खान की जिंदगी पर ही बने और आप उसका महिमामंडन होते देखें तो यकीन जानिए कि ऐसा कुछ नहीं था. वो सिर्फ एक हत्यारा था जिस पर 40 से ज्यादा हत्याओं के केस थे.


http://www.thelallantop.com/tehkhana/abdul-latif-sheikh-the-gangster-who-is-the-inspiration-behind-the-movie-raees-starring-shahrukh-khan/

अगला लेख: लाल किले से पीएम ने देश को दिया गलत संदेश



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अगस्त 2016
समाजवादी पार्टी में कुछ अनोखा हो रहा है. रविवार को मुलायम सिंह यादव के भाई शिवपाल सिंह यादव ने इस्तीफ़ा देने के धमकी दी. कहा कि अखिलेश के अधिकारी बात नहीं मान रहे और मंत्री मनमानी कर रहे हैं. सोमवार को मुलायम भी भाई के सपोर्ट में आ गए. बोले कि अगर शिवपाल ने इस्तीफ़ा दे दिया
17 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
जैसे उर्दू शायरी के मंच पर बैठा हिंदी का कवि!वैसे BJP में शाहनवाज़ हुसैन और मुख़्तार अब्बास नकवी! एक छुटभैये नेता के इस जुमले को यहां पेश करने के लिए माफ करें. लेकिन उसके सवाल की अनदेखी मुश्किल है. पान मसाले की झौंक में उसने कहा था कि BJP में मुसलमान होना अकेलापन नहीं पैदा करता होगा?शाहनवाज, नकवी, न
23 अगस्त 2016
24 अगस्त 2016
हरियाणा के करनाल में एक लड़के ने कल्पना चावला मेडिकल से कूदकर जान दे दी. इसके तीन दीन बाद ही उसकी बहन ने भी सुसाइड कर लिया. हैरान करने वाली बात यह हैहरियाणा के करनाल में एक लड़के ने कल्पना चावला मेडिकल से कूदकर जान दे दी. इसके तीन दीन बाद ही उसकी बहन ने भी सुसाइड कर लिया. हैरान करने वाली बात यह है क
24 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x