संस्कृत किसी भाषा की मां नहीं है - दिलीप मंडल

31 अगस्त 2016   |  डॉ हरेश परमार   (182 बार पढ़ा जा चुका है)

संस्कृत किसी भाषा की मां नहीं है - दिलीप मंडल

संस्कृत किसी भाषा की मां नहीं है.


किसानों ने कभी भी संस्कृत में अपनी फसल नहीं बेची. मछुआरों ने संस्कृत में मछली का रेट नही बताया. ग्वालों ने संस्कृत में दूध नहीं बेचा, सैनिक ने कमांडर से इतिहास में कभी भी संस्कृत में बात नहीं की, किसी मां ने बच्चे को संस्कृत में लोरी नहीं सुनाई, खेल के मैदान में कभी संस्कृत नहीं बोली गई, बाजार में संस्कृत में बोलकर कभी कोई सौदा नहीं हुआ.


ये लोग संस्कृत नहीं बोलते थे. ये लोग जो बोलते थे और बोलते हैं, वही भारतीय भाषाएँ हैं.

संस्कृत एक फ्रॉड है. इससे किसी भाषा का जन्म कैसे हो सकता है?

यह तस्वीर उस गांव मट्टूर की है जहां के लोगों का दावा है कि वे संस्कृत में बात करते हैं. वहां कन्नड़ में लिखा बोर्ड आप देख सकते हैं.

फोटो - BBC से.

- दिलीप मंडल

अगला लेख: मुँह मत मोड़ना



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
14 सितम्बर 2016
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x