कबाड़ नेता

03 सितम्बर 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (111 बार पढ़ा जा चुका है)

कुर्सी से चिपके कबाड़ बनते नेताओं पर कटाक्ष करती कविता _

@@@@@@@@@-कबाड़ नेता -@@@@@@@@@

***********************************************************

काली अंधेरी एक रात को ,देखा एक भयानक सपना |

बता कर मैं उसे आपको ,साँझा कर रहा हूँ दुःख मैं अपना ||
अच्छा ख़ासा मैं आदमी ,बन गया मैं सपने में कबाड़ |
पत्नी ने पुकारा जब कबाड़ी को ,तो चीख पड़ा मैं बुका फाड़ ||
पत्नी तब जगा कर बोली ,क्या हुआ मेरे भरतार |
मैं बोल नहीं पाया सदमे में ,तो पूछने लगी वो बारम्बार ||
सर्दी के मौसम में भी ,मैं पसीने से तरबतर था |
अपने कबाड़ बन जाने का ,दिल में समाया डर था ||
उस दिन से मैंने ये ठाना,उपयोगी रहना सदा-सदा |
उस दिन से मैं कामों के ,बोझ से रहता हूँ लदा-लदा ||
घर की सफाई करता हूँ मैं ,और पत्नी को चाय पिलाता हूँ |
हालांकि मैं भरतार हूँ उसका ,पर भर्त्य की याद दिलाता हूँ ||
यदा कदा मैं अपनी बीवी के ,चरण कमल भी दबाता हूँ |
और मैं हूँ अब भी उपयोगी प्राणी ,मैं हर तरह उसे जतलाता हूँ ||
काश हम कबाड़ नेताओं को, पुनः चक्रित कर पातें |
या फिर उन्हें निर्यात कर ,कबाड़ से हम मुक्ति पातें ||
राज सेवक रिटायर्ड हो जाता ,साठ साल का हो जाने पर |
पर राज नेता नहीं होता ,पचहतर पार हो जाने पर ||
पचहतर पार के नेताओं को ,जनता अब रिजेक्ट करें |
और देश की बूढाती धमनियों में ,युवा खून इन्जेक्ट करें||

अगला लेख: बो विश्वगुरु भारत देश कठे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 अगस्त 2016
@@@@@@@ कमाई @@@@@@@*************************************************एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||धर्मपत्नी सी वेतन वाली,रखेल जैसी घूस वाली |एक दिलाए इज्जत ,दूजी दिलाए गाली ||एक तरफ वेतन वाली,एक तरफ घूस वाली |एक कहे मैं बीवी , दूजी कहे मैं साली ||शरबत जैसी
22 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
पाखण्ड पर कटाक्ष करती कहानी - लुटेरे -लुटेरे भाई -भाई ************************************************************ एक शहर की सीमा पर स्थित एक मंदिर के विशाल प्रांगणमें एक पंडा पंडाल में बैठे जन -समूह को प्रवचन देते हुए यह बता रहा था कि ईश्वर सर्वशक्तिमानहै |ईश्वर की इच्छा
23 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
हा
@@@@@@ हाँ रे मिनख जाग जा @@@@@@*********************************************************हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो रे |क मिनख जाग जा |नेता लुटे अफसर लुटे,मिलकर सारा लूटे रे |(2)क अंग्रेजां री लूटपाट ,अब फीकी पड़गी रे ||क मिनख जाग जा |हाँ रे मिनख जाग जा ,क डूबण रो खतरों नेड़े आग्यो
22 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x