दो रुबाई

12 सितम्बर 2016   |  आलोक सिन्हा   (109 बार पढ़ा जा चुका है)

खुद पसंदी है फितरते इन्सा ,

जो अपनी कमियों को भूल पाता हो

देख कर खुद को आइने में आप

कौन है जो न मुस्कुराता हो

नजर बरनी

सालहा साल की तलाश के बाद

जिन्दगी के चमन से छांटे हैं

आपको चाहिये तो पेश करूं

मेरे दामन में चंद कांटे हैं |

नजर बरनी

अगला लेख: एक कथन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 सितम्बर 2016
तुमसे अच्छी यादतुम्हारी | अहवाह्न पर आ जाती है ,आकुल मन बहला जाती है | मेरा अद्वेत द्वेत बनकर , हर लेता मन की लाचारी | तुमसे अच्छी याद तुम्हारी | चुप चुप हरो व्यथा भार तुम सगुण बनो या निराकार तुम | आराधन निर्गुण का करते , प्रिय
26 सितम्बर 2016
09 सितम्बर 2016
डा
जितनी दूर अधर से खुशियां , जितनी दूर सपन से अँखियाँ , जितने बिछुए दूर कुआंरे पाँव से- उतनी दूर प
09 सितम्बर 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x