यहां भक्तों का इलाज करते हैं भगवान 'हनुमान', शेयर करें और स्वयं देखें इनकी कृपा !!!

13 सितम्बर 2016   |  प्रियंका शर्मा   (891 बार पढ़ा जा चुका है)



एक ऐसा मंदिर है जहां भगवान हनुमान डॉक्‍टर के रूप में पूजे जाते हैं. मान्यता है कि इस मंदिर के हनुमान स्वयं अपने एक भक्त का इलाज करने डॉक्टर बनकर पहुंचे थे. इस मंदिर से लाखों लोगों की आस्था जुड़ी हुई है. श्रद्धालुओं का मानना है कि, डॉ. हनुमान के पास सभी प्रकार के रोगों का कारगर इलाज है. मंगलवार को यहां विशाल मेला लगा है, जिसमें सात लाख श्रद्धालु पहुंचे हैं.





इस मंदिर से जुड़ी मान्यता है कि एक साधु शिवकुमार दास को कैंसर था. उसे हनुमान जी ने मंदिर में डॉक्टर के वेश में दर्शन दिए थे. वे गर्दन में आला डाले थे, जिसके बाद साधु पूरी तरह स्वस्थ हो गया.




माना जाता है कि रोगों के लिए हनुमान जी की भभूत कारगर है. विशेष रूप में फोड़ा, अल्सर और कैंसर जैसी बीमारियां भी मंदिर की पांच परिक्रमा करने पर ठीक हो जाती हैं




यह मंदिर ग्वालियर से करीब 70 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे भिंड जिले के दंदरौआ सरकार धाम में है. यहां डॉक्टर हनुमान के पास अच्छी सेहत की उम्मीद लेकर लाखों श्रद्धालु जुटते है.




300 साल पहले हनुमानजी की यह मूर्ति नीम के पेड़ से छिपी थी. पेड़ को काटने पर गोपी वेषधारी हनुमान जी की ये प्राचीन मूर्ति प्राप्त हुई थीं. तब से मूर्ति की पूजा-अर्चना शुरू की गई.




यहां हनुमान जी की जो मूर्ति है वो नृत्य की मुद्रा में है. यह देश की अकेली ऐसी मूर्ति है, जिसमें हनुमान जी को नृत्य करते हुए दिखाया गया है.





यह मंदिर ग्वालियर से करीब 70 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे भिंड जिले के दंदरौआ सरकार धाम में है. यहां डॉक्टर हनुमान के पास अच्छी सेहत की उम्मीद लेकर लाखों श्रद्धालु जुटते है.


अगर आपको भी ये लगता इनमे आस्था है तो इन्हें अवश्य शेयर करें !

जय श्री राम !


अगला लेख: क्या



गुड

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 सितम्बर 2016
शायद आप इनके बारे में ये सब नहीं जानते होंगे जो अब आप इसमें पढ़ेंगे ! भारत तो है ही चमत्कारों और संतो का देश और संसार में भारत जैसा कोई दूसरा देश है भला . लेकिन पहले तो नाम जान लीजिये: सन्त ज्ञानेश्वर ।सन्त नामदेव ।सन्त एकनाथ ।सन्त तुकाराम ।सन्त रैदास । 1. सन्त ज्ञानेश्व
20 सितम्बर 2016
04 सितम्बर 2016
अगस्त महीने की आखिरी किताब थी जीनेट वॉल्स की लिखी 'द ग्लास कैसल'। जीनेट वॉल्स एक अमरीकी जर्नलिस्ट हैं और ये उनका लिखा संस्मरण है। एक किताब जो उनके और उनके पिता के रिश्ते के बीच कुछ तलाश करती हुई सीधे दिल में उतरती है और कुछ हद तक उसे तोड़ भी देती है।इंसान एक परिस्थितिजन्य पुतला है। उसका व्यक्तित्व पर
04 सितम्बर 2016
26 सितम्बर 2016
सरकार भले ही गांव को सड़कों से जोड़ने के बड़े-बड़े दावे कर रही हो लेकिन भरतपुर जिले का एक गांव ऐसा भी है जिसके आने-जाने का कोई रास्ता नहीं है और शहर के करीब स्थित इस गांव के लोग नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं.गांव के लोग अनगिनत बार सरकार के नुमाइंदों से रास्ते की फरियाद
26 सितम्बर 2016
04 सितम्बर 2016
धूप मे धूप साये मे साया हूँ बस यही नुस्का आजमाया हूँएक बोझ दिल से उतर गया कई दिनों बाद मुस्कुराया हूँदीवारें भी लिपट पड़ी मुझसेमुद्दतों के बाद घर आया हूँउसे पता नहीं मेरे आने का छुप कर के उसे बुलाया हूँ समीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
22 सितम्बर 2016
भारत एक इसी जगह है जहा पर फिल्म स्टार्स को लोग पूजते है लेकिन वही ऐसी भी एक एक्ट्रेस है जिन्होंने पहले किसी को राखी बाँधी लेकिन बाद में उसी से शादी भी कर ली. ये कोई मामूली एक्ट्रेस नहीं है इन्होने कई बड़ी बड़ी फिल्मो में काम कर चुकी है.वो मशहूर एक्ट्रेस और कोई नहीं बल्कि बॉलीवुड अदाकारा श्रीदेवी है. ब
22 सितम्बर 2016
04 सितम्बर 2016
तेरी तरहा मैं हो नहीं सकता नहीं ये करिश्मा हो नहीं सकतामैंने पहचान मिटा दी अपनी भीड़ मे अब खो नहीं सकताबहुत से काम याद रहते है दिन मे मैं सो नहीं सकताकि पढ़ लूँ पलकों पे लिखी इतना सच्चा हो नहीं सकतासमीर कुमार शुक्ल
04 सितम्बर 2016
05 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
05 सितम्बर 2016
17 सितम्बर 2016
वैसे तो यह मंदिर सदैव ही आस्था का केंद्र रहा है पर 1965 कि भारत – पाकिस्तान लड़ाई के बाद यह मंदिर देश – विदेश में अपने चमत्कारों के लिए प्रशिद्ध हो गया। तनोट माता का मंदिर जैसलमेर से करीब 130 किलो मीटर दूर भारत – पाकिस्तान बॉर्डर के निकट स्थित है। यह मंदिर लगभग 1200 साल पुराना है। 1965 कि लड़ाई में
17 सितम्बर 2016
01 सितम्बर 2016
क्
क्या
01 सितम्बर 2016
04 सितम्बर 2016
 आवा बन्धु,आवा भाई सुना जो अब हम कहने जाए।सुना ज़रा हमरी ये बतिय, दै पूरा अब ध्यान लगाय।कहत हु मैं इतिहास हमारा जान लै हो जो जान न पाए।जाना का था सच वह आपन जो अब तक सब रहे छुपाय।जाना का था बोस के सपना,जो अब सच न है हो पाए।जान लो का था भगत के अपना, जो कीमत मा दिए चुकाय।जाना काहे आज़ाद हैं पाये वीर गत
04 सितम्बर 2016
23 सितम्बर 2016
आपने सोशल मीडिया पर मोदी भक्त शब्द तो कई बार सुना होगा लेकिन उनका असली भक्त कौन है ये शायद ही समझ में आया हो। लेकिन शाहजहांपुर के रहने वाले 12 साल के कार्तिक से मिलकर आप कह ही देंगे की यही है मोदी जी का असली भक्त। आठवीं में पढ़ने वाले इस मोदी भक्त कार्तिक ने अपने घर में पीएम मोदी की तस्वीर बनवा रखी ह
23 सितम्बर 2016
08 सितम्बर 2016
सावधान हो जाइये बगैर आपकी जानकारी के और आपके डिटेल्स कहीं से भी प्राप्त करके कोई भी आपके नाम से बैंक में अकाउंट खोल सकता है। मनचाहा पता और मनचाही जगह पर और फिर उसके आधार पर क्रेडिट कार्ड भी ले सकता है और लाखों की खरीदारी भी क
08 सितम्बर 2016
15 सितम्बर 2016
तनोट माता का मंदिर जैसलमेर से करीब 130 किलो मीटर दूर भारत – पाकिस्तान बॉर्डर के निकट स्थित है। यह मंदिर लगभग 1200 साल पुराना है। वैसे तो यह मंदिर सदैव ही आस्था का केंद्र रहा ह
15 सितम्बर 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
06 सितम्बर 2016
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x