कोई किसी का नहीं

21 सितम्बर 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (116 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@कोई किसी का नहीं@@@@@@

******************************************************

मुख्य फसल के बीच पनपा ,वह एक खरपतवार था |

मातपिता की सन्तानों में ,उसका नम्बर चार था ||

माँ की ममता से वंचित ,वो एक ऐसा बच्चा था |
युवा हो जाने पर भी ,जो दुनियादारी में कच्चा था ||
माँ की ममता का प्यासा,भाभी को माँ समझ बैठा |
उसका यह भ्रम एक दिन ,उसके दिल को ले बैठा ||
सबसे प्रिय मुझे आप है,क्या मैं भी आपका हूँ प्रियतम |
उत्तर सुनकर इस प्रश्न का,उसको हुआ था भारी गम ||
हाथ पकड़ कर जो लाता है ,वो ही होता है प्रियतम |
माँ बनी भाभी जब बोली,तो आँखें उसकी हुई थी नम ||
किसी का प्रीतम बनने खातिर ,शादी उसने कर डाली |
पर ईच्छा पूरी हुई न उसकी,आ गयी ऐसी घरवाली ||
भृतहरि की कहानी पढ़ कर ,हुआ उसको सत्य ज्ञान |
दुनिया की दुनियादारी को, लिया उसने भी जान ||
प्यार के बदले प्यार मिलेगा ,यह भ्रम उसका टूट गया |
तथाकथित अपनों से उसका,फिर मोह सहज ही छूट गया ||
कोई किसी का नहीं है जग में,यह लिखा भाभी ने एक बार |
पर इस कटु सच्चाई से ,सामना होता बारम्बार ||
*************************************************************

अगला लेख: निज नाम अमर कर दो



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 सितम्बर 2016
नि
@@@@@ निज नाम अमर कर दो @@@@@******************************************************आकाश को छूलो तुम ,मेरी ऊँची नजर कर दो |मसीहा बन के जग में ,निज नाम अमर कर दो ||न जुर्म की सीमा है , न जमीर का बन्धन |जब घूस खाये कोई , तो देखे केवल धन ||तुम ईमान जगा कर के ,पाक मंजर कर दो |आकाश को छूलो तुम ,मेरी ऊँची
30 सितम्बर 2016
28 सितम्बर 2016
चु
@@@@@@@@@@@@@@@@@राजनैतिक दलों के नेता,कर रहे हैं तकरार |हालाँकि इस तकरार में, नहीं हैं कोई सार ||नहीं हैं कोई सार, जो डाले फूट -दरार |सेवक नहीं हैं जो भी नेता,समझो वो है भार ||चुनाव-प्रचार में हो रही,शालीनता की हार |कोई जीते कोई हारे , पर बने जन-सरकार ||@@@@@@@@@@@@@@@@@
28 सितम्बर 2016
14 सितम्बर 2016
@@@@@@ हमारी हिन्दी, हमारा गर्व @@@@@@*************************************************************कितनी सुन्दर ,कितनी प्यारी ,हमारी हिन्दी भाषा है |सभ्यता और संस्कृति की , मानो यह परिभाषा है ||देवनागरी जो लिपि है इसकी , इसका सुन्दर वेश है |हिन्दी हमारी अपनी भाषा ,देती एकता का सन्देश है ||कानों को ल
14 सितम्बर 2016
15 सितम्बर 2016
@@@@@@ इन्सान @@@@@@********************************************उल-जलूल बातों को, हम बकवास कहते हैं |विन्रम निवेदन को, हम अरदास कहते है ||मत ताक ओ नादान , दुसरे के गिरेबान में |संयत-शालीन शख्स को,संत खास कहते हैं ||@@@@@@@@@@@@@@@@@
15 सितम्बर 2016
14 सितम्बर 2016
@@@@@@ हमारी हिन्दी, हमारा गर्व @@@@@@*************************************************************कितनी सुन्दर ,कितनी प्यारी ,हमारी हिन्दी भाषा है |सभ्यता और संस्कृति की , मानो यह परिभाषा है ||देवनागरी जो लिपि है इसकी , इसका सुन्दर वेश है |हिन्दी हमारी अपनी भाषा ,देती एकता का सन्देश है ||कानों को ल
14 सितम्बर 2016
03 अक्तूबर 2016
@@@@@@@ काव्य चौका @@@@@@@भाव का आभाव हो जिसमें, ऐसी भी तुकबंदी क्या ?उल्लंघन होता रहे जिसका, ऐसी भी हदबंदी क्या ??मन में हो भाव भंयकर,तो तन पर पहनी खादी क्या ?मिंया-बीवी नहीं हो राजी,ऎसी भी कोई शादी क्या ??@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
03 अक्तूबर 2016
29 सितम्बर 2016
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@फूहड़ हास्य की हाइड्रोजन ने,पलीता खूब लगाया है |अश्लीलता की ऑक्सीजन ने,इसे और भड़काया है ||इन दोनों के मिलन की , बस इतनी सी कहानी है ,संस्कारी सज्जन शर्म से , हो गया पानी -पानी है ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
29 सितम्बर 2016
28 सितम्बर 2016
एक दर्द जो एक न एक दिन सबको मिल ही जाती है वह है मौत काजो सबको डराती है कोई दर्दनाक मरता है तो कोई बड़े आसानी से पर मंजिल सबकी एक होती है चाहे वह राजा हो या रंकजाना तो सबको वही हैंपर कहाँ ?किसे पता मौत कहाँ ले जाती है ?सपनो के दुनिया म
28 सितम्बर 2016
19 सितम्बर 2016
जु
@@@@@@@@ जुबाँ @@@@@@@@****************************************************जुबाँ है एक ऐसा अस्त्र,जो घायल दिल को करता है |इससे लगा घाव दिल का ,नहीं कभी भी भरता है ||कम न समझो इस जुबाँ को,यह दुघारी तलवार है |मनमुटाव व दुश्मनी की,जुबाँ ही जिम्मेदार है ||तन-हत्यारे से भी ज्यादा , मन-हत्यारा पापी है |जु
19 सितम्बर 2016
14 सितम्बर 2016
खोखले रिश्ते काया जरा सी क्या मेरी थकी, अपने बच्चों को ही हम अखरने लगे,जिनकी खुशियों पे जीवन निछावर मेरा, मेरे मरने की घडियाँ वो गिनने लगे // मेरे मरने से पहले वो भूले मुझे,किन्तु, मेरी कमाई पे लडने लगे, जनाजा मेरा उठा ही नही, जिन्दा घ
14 सितम्बर 2016
04 अक्तूबर 2016
@@@@@@@@ ओ नैना ,ओ नैना @@@@@@@@*****************************************************************रसों के सागर में डुबकी लगाकर ,साहित्य के मोती चुनता रहूँ |मेरी तमन्ना छन्दों में यूँ ही ,गीतों की रचना करता रहूँ ||पहन संगीत का गहना |ओ नैना ,ओ नैना ||कठिन कंटीली राहों पे चलकर ,मन की मंजिल पाता रहूँ |दि
04 अक्तूबर 2016
26 सितम्बर 2016
गीतात्मक मुक्त काव्य, अब हम लौट चलें, चल घर लौट चलें चाखी कितनी बानगी, चल अब लौट चलें..... खट्टा मीठा, कड़वा तीखा स्वाद सुबास, निस्वाद सरिखा ललके जिह्वा, जठर की अग्नि चातक चाहे, प्रीत अनोखा॥...... अब हम लौट चलें, चल घर लौट चलें........... कलरव करता, उड़ें विहंगा
26 सितम्बर 2016
28 सितम्बर 2016
शीर्षक मुक्तक प्रदत शीर्षक- किरण- ज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति, मरीचि। “मुक्तक” भारती धरा अलौकिक है न्यारी है लालिमा भोर भाए किरण दुलारी है ब्रम्ह्पूत्र सिंधु नर्मदा गंगा कावेरी हिमालयी रश्मि प्रभा तिमिर ध्रुजारी है महातम मिश्र, गौतमगोरखपुरी
28 सितम्बर 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x