भारत के पास एक ऐसा हथियार है

23 सितम्बर 2016   |  शिव शंकर कुमार   (525 बार पढ़ा जा चुका है)

 भारत के पास एक ऐसा हथियार है

जिससे वह पाकिस्तान को घुटने के बल पर ला सकता है। यह है इंडस वॉटर ट्रीटी अर्थात् सिंधु जल संधि। तब के इंटरनेशनल बैंक फॉर रिकंस्ट्रक्शन ऐंड डेवलपमेंट (अब विश्वबैंक) की मौजूदगी में 19 सितंबर 1960 को कराची में इस संधि पर तब के भारतीय पीएम जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के जनरल अयूब खान ने हस्ताक्षर किये थे। कहा जाता है कि पूरी दुनिया में यह अजूबा संधि है, जिसमें भारत अपनी छह मुख्य नदियों का 80 फीसदी जल अपने सबसे बड़े दुश्मन के लिए सुरक्षित करता है।


इस संधि के मुताबिक भारत छह नदियों का लगभग 167.2 अरब घन मीटर हर साल पाकिस्तान के लिए देता है। सिंधु, झेलम और चिनाब का तो पूरा पानी ही पाकिस्तान को दे दिया जाता है़ यदि भारत ने इस संधि को रद्द कर दिया तो पाकिस्तान की इकॉनामी ही ध्वस्त हो जाएगी। पंजाब का पूरा इलाका, जो उम्दा खेती के लिए जाना जाता है, वीरान हो जाएगा। सिंधु, झेलम, चिनाब, सतलुज, व्यास और रावी का पानी बंद हो जाने से पाक में खेती खत्म हो जाएगी। वहां की खेती बारिश पर कम, इन नदियों के पानी पर ज्यादा निर्भर करती है। इस संधि को खत्म करने के बाद पाकिस्तान खूब रोएगा, रावी, ब्यास, सतलुज, झेलम, सिंधु और चिनाब का आरंभिक बहाव भारत में है। ऐसे में इस पर नियंत्रण भी भारत का होना चाहिए। सरकार को ये कदम ऊठाना चाहिये । वो भी तत्काल । जय भारत ।।।

अगला लेख: पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी


Kavi Malviya
20 नवम्बर 2016

पकिस्तान को और खंड खंड करके समाप्त करना है तो धीरे धीरे उसे केवल उतना ही पानी देना होगा जो अंतरिष्ट्रीय कानून के हिसाब से आवयश्यक हो .
भविष्य में पानी का अकाल पुरे संसार में होने वाला है उस समय यह अतिरिक्त पानी हमारे लिए बहुत बड़ी सम्पदा बनेगा .
परंतु इसके लिए आवयश्यक व्यवस्था बनाने में वर्षों लगेंगे तो वास्तविकता में यह वर्षो में ही क्यों न हो परंतु करना ही होगा.
कवि

बिंदु जैन
23 सितम्बर 2016

सही निर्णय होगा ये .जब कोई देश अपने किसी भी बाड़े / बयान संधि पर कायम नहीं रहता है तो संधि की सरते निभाने की जिम्मेदारी सिर्फ भारत की ही क्यों हो ? हमें अपने लिए जो भी उचित हो बो कदम उठाना चाहिए चाहे उससे पाकिस्तान को कोई भी नुकसान हो .

रवि कुमार
23 सितम्बर 2016

तो इंतज़ार काहे का , क्यों न फिर बिना युद्ध के ही इन्हें धूल चटा दे भारत

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 सितम्बर 2016
आज का सुवचन
08 सितम्बर 2016
23 सितम्बर 2016
साहब, राहुल गांधी जी ने कभी कोई मुख्यमंत्री या किसी सरकारी पदवी का चुनाव नहीं लड़ा है। उन्हें इंदिरा गांधी व अत्यधिक अनुभवी कांग्रेसी नेताओं से तुलना करना वैसे ही है जैसे किसी प्राथमिक विद्यालय के छात्र की किसी प्रकाण्ड पंडित से की जाए। जहां तक भाजपा का सवाल है, उसका नेतृत्व का सवाल है, तो यह
23 सितम्बर 2016
15 सितम्बर 2016
1. हिंदी की लिपि ‘देवनागरी’ है । यह दो भिन्न शब्दों से बना समस्त पद है । ‘देव’ अर्थात ईश्वर तथा ‘नागरी’ अर्थात नगर अथवा शहर से संबंधित । इस शब्द की व्युत्पति यह बताती है कि एक काल विशेष में यह लिपि एक मुख्य व्यवहार के लिए प्रयुक्त हुई होगी । 2. वेद, पुराण आदि कई हिंदू धर
15 सितम्बर 2016
23 सितम्बर 2016
क्
साहब, राहुल गांधी जी ने कभी कोई मुख्यमंत्री या किसी सरकारी पदवी का चुनाव नहीं लड़ा है। उन्हें इंदिरा गांधी व अत्यधिक अनुभवी कांग्रेसी नेताओं से तुलना करना वैसे ही है जैसे किसी प्राथमिक विद्यालय के छात्र की किसी प्रकाण्ड पंडित से की जाए। जहां तक भाजपा का सवाल है, उसका
23 सितम्बर 2016
29 सितम्बर 2016
उरी हमले के बाद जिस तरह से भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सीमा के भीतर सर्जिकल ऑपरेशन किया है उसको लेकर क्या आप मानते हैं कि भारतीय सेना की कार्रवाई से पाकिस्तान को सही सबक मिला है?चित्र- http://hindi.oneindia.com/ से
29 सितम्बर 2016
23 सितम्बर 2016
#आयुर्वेद_के_अनुसार_दूध_पीने_के_नियम कुछ लोगों को दूध पीने के बाद हजम नहीं हो पाता। उन्‍हें पेट फूलने या फिर बार खराब होने की समस्‍या से जूझना पड़ता है। आयुर्वेद के अनुसार दूध पीने के कुछ नियम हैं, जिनका पालन करने से आपको दूध हजम हो जाएगा। 1 आयुर्वेद में हैं दूध पीने के क
23 सितम्बर 2016

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x