मित्र रुपी शत्रु

05 अक्तूबर 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (87 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@@@@@@@@@@@

दुनियादारी आज तक,नहीं समझ में आयी |

बहिन की इज्जत से खेल े,बन धर्म के भाई ||

बन धर्म के भाई , खिलाते खूब मिठाई |
ऐसे भाइयों की होती,आखिर खूब पिटाई ||
आखिर खूब पिटाई , कहता कवि दुर्गेश |
धोखा दे रहे दुश्मन तेरे,धार मित्र का वेश ||
@@@@@@@@@@@@@@@@

अगला लेख: निज नाम अमर कर दो



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अक्तूबर 2016
भ्
@@@@@@@ भ्रष्टाचारी चौपट राज @@@@@@@*************************************************************कुपात्र के सिर पे रखा है ताज ,अन्धेरनगरी चौपट राज |बिना घूस के होता नहीं काज ,हरामखोरी -हरामी राज ||बढ़ती बेकारी कोढ़ में खाज ,बढ़ते जुर्म -जुर्मी राज |घूस खाने पर करते नाज ,लूटखसोट - डाकूराज ||लूट रही नारी
01 अक्तूबर 2016
07 अक्तूबर 2016
भे
खानदान की इज्जत के नाम पर बहन की हत्या करने वाले कलयुगी भाइयों की काली करतूतों का भण्डाफोड़ करती कविता -@@@@@@@@@ भेड़िया भाई @@@@@@@@@***********************************जो करते हैं मटरगश्ती ,वो पढ़ते होंगें कोलेज में ख़ाक |पढाई को ताक पर रख कर ,लड़कियों को रहते ताक ||दस -दस सहेलियों के संग ,गुलछर्रे वे
07 अक्तूबर 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x