भेड़िया भाई

07 अक्तूबर 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (99 बार पढ़ा जा चुका है)

खानदान की इज्जत के नाम पर बहन की हत्या करने वाले कलयुगी भाइयों की काली करतूतों का भण्डाफोड़ करती कविता -

@@@@@@@@@ भेड़िया भाई @@@@@@@@@

***********************************

जो करते हैं मटरगश्ती ,वो पढ़ते होंगें कोलेज में ख़ाक |

पढाई को ताक पर रख कर ,लड़कियों को रहते ताक ||
दस -दस सहेलियों के संग ,गुलछर्रे वे उड़ाते हैं |
रोज नयी फंसाने खातिर ,तिकड़में खूब भिड़ाते हैं ||
ऐसे भाई अपनी बहन को ,रखना चाहते कन्ट्रोल में |
बहन अगर बनाले साथी ,तो वे आ जाते भेड़िया रोल में ||
बहन -सखा को गाली देकर ,पहले उसे भड़काते हैं |
फिर पिटाई करके उसकी ,बहना को धमकाते हैं ||
रोज खेल ते जो इज्जत से ,वो इज्जत की बातें करते हैं |
चरित्र की धज्जियाँ उड़ा कर ,वो खाप का दम भरते हैं ||
वे इज्जत के नाम पर ,खून तक कर देते हैं |
और दो परिवारों में दुश्मनी का , जहर वो भर देते हैं ||
धिक्कार है ऐसे भाइयों को ,जो बहन की हत्या करते हैं |
ऐसे भेड़िये भाई एक दिन ,कुते की मौत मरते हैं ||

अगला लेख: निज नाम अमर कर दो



रेणु
09 मार्च 2017

बहुत सही कहा आपने |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x