क्या वास्तव में पैसे से सुख खरीद सकते है ? क्या अमीर होने से आप खुश हो जाएंगे ?

07 नवम्बर 2016   |  जोगिंदर पोसवाल   (648 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या वास्तव में पैसे से सुख खरीद सकते है ? क्या अमीर होने से आप खुश हो जाएंगे ?

जब हम सुख (happiness) की बात करते है तो उसकी परिभाषा हर इंसान के लिए अलग अलग है। सुखी होना मतलब खुश (happy) होना। अब किसी के लिए उसके अच्छे सपनो का सच हो जाना सुख का अनुभव है, किसी भूखे को अच्छा खाना मिल जाने से खुशी मिलती है उसको सुख का अनुभव होता है, छोटा बच्चा अपनी माँ को देखकर सुख का अनुभव करता है, व्यवसायी को व्यापार में मुनाफा मिलना खुशी देता है, साधु को ईश्वर की भक्ति में सुख का अनुभव मिलता है खुशी मिलती है, माता-पिता अपने बच्चो को खुश देख कर सुख(happiness) का अनुभव करते है, कुछ लोगो के लिए किसी को हँसाना उसे खुश करना, सुख का अनुभव है।


कुछ लोगो के अनुसार मन की शांति ही सच्चा सुख है। इसलिए वो मन की शान्ति के लिए आध्यात्मिकता की ओर चल पड़ते है। कुछ बुद्धिजीवो का मानना है कि खुश रहना आपकी इच्छा पर निर्भर हैं आप हमेशा खुश रहना चाहते हो तो रह सकते हो।


क्या वास्तव में पैसे से सुख खरीद सकते है ? ये एक बड़ा ही जटिल विषय है इसमें भी अलग अलग लोगो की अलग अलग राय है। कुछ सोचते है की अगर उनके पास बहुत सा पैसा होगा तो वो सुखी होंगे। बल्कि कुछ तो ये भी मानते है कि जितना पैसा बढ़ेगा उतनी ही खुशी बढ़ेगी। कुछ मानते है कि पैसा सब बुराई की जड़ है। जितना पैसा बढता है इंसान उतना गलत कामों में शामिल होता है।
कुछ मनोवै ज्ञान िकों का मानना है कि “अगर पैसे से आपको खुशी नहीं मिल रही है तो इसका मतलब आप शायद पैसे सही से खर्च नहीं कर रहे।(If Money Doesn’t Make You Happy, Then You Probably Aren’t Spending It Right)“.


कुछ लोगो का मानना है कि पैसा सुख खरीदने का माध्यम नहीं है बल्कि यह दुख से बचने के लिए एक तंत्र है। पैसा एक साहक हो सकता है खुशी पाने में किन्तु सुख तो आप कि अपनी चाहत से है कि आपको किस परिस्थिति में, क्या मिलने से, किसके साथ, क्या करने से सुख का अनुभव होता है।


पैसा भौतिकवादी खुशी पाने का एक जरिया है जो अस्थायी है कुछ समय बाद उसका वजुद ख़त्म हो जाता है। आप अपने पैसे से दुसरो के लिए ख़ुशी जरुर खरीद सकते है। किसी बेघर के लिए घर खरीद कर आप उसको ख़ुशी दे सकते है, किसी भूखे के लिए भोजन खरीदकर आप उसको खुशी कर सकते है। आप किसी अनाथ को गोद लेकर अपना पैसा उसकी परवरिस में लगा कर उसकी जिन्दगी खुशियों से भर सकते है। आपको ये समझना पड़ेगा कि सच्चा सुख ओरो को सुख देने में है। आशावादी(optimist) बनो और दूसरों के लिय अच्छे काम करो आपको हर सुख(happiness) और हर खुशी मिलेगी।


अगर आपको हमारा ये लेख – “क्या वास्तव में पैसे से सुख खरीद सकते है ? क्या अमीर होने से आप खुश हो जाएंगे?” पसंद आया हो तो अपनी प्रतिक्रिया(comments) जरूर लिखें।


This post was originally published at gyaanlok.

अगला लेख: 51 वेबसाइट्स जहाँ से आप कुछ नया सीख सकतें हैं



आज कल पैसा दूसरा भगवान बन चुका है भाई। इससे इंकार नहीं किया जा सकता

मैंने जो अनुभव किया वही लिखा, माना पैसा दूसरा भगवान बन गया है किंतु पैसा आने से खुशी आएगी इसकी कोई गारण्टी नहीं हैं

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x