आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

आंसू

15 नवम्बर 2016   |  डॉ हरेश परमार

आंसू

आंसू

आपने रोहित वेमुला की माँ की आँखों में आंसू देखे थे ?

आपने नजीब की माँ की आँखों में भी आंसू देखे थे ?

पर आपको वह नजर नहीं आये ...

वह नेता नहीं थे
वह नेताओं के पुत्र-पौत्र नहीं थे...
आपने उस उना काण्ड में मार खाने वालों के भी आंसू देखे थे
आपको उस वक्त क्या लगा था ?
आपने जब वह फैसला आया
जब देश में आप जो रूपये गर्व से रखते थे
वह रात भर में रद्दी हो गए
आप आंसू को भूल गए या वह आंसू कभी आपको आंसू ही नहीं लगे !
पर उस अराजकता के माहौल में
कुछ 25 जाने जा चूकी है
देश के लिए ...
और उन लोगों के घरों में भी आंसू है
पर कोई अलगारी आता है विदेश छे
वहां हँसता है आप पर
और आके आपके लिए ही रो देता है
आप वह देखते हो
आप जूनून से भर जाते हो
और वह सब आंसू जैसे सूख जाते है
देश के लिए वह बेजान से आंसू
देश की धरती पर कही दफ़न हो जाते है
कहीं जल जाते है
तो कही भुलाए जाते है
#देश के लिए
- हरेश परमार


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x