इस्तीफा पत्र

04 जनवरी 2017   |  रजनीश 'शब्दभेदी'   (1270 बार पढ़ा जा चुका है)

 इस्तीफा पत्र

इस्तीफा पत्र

मंजूर कर दो इस्तीफा मेरा,

हुस्नपरस्ती की चाकरी से

अच्छी तो खूब लगती है,

पर अब होती नहीं मुझसे !

.

और ले जाओ ये पुलिंदा

कागजात का, जिसमें

लिखा है सारा हिसाब

तेरा-मेरा और हमारा का !

.

खून-ए-दिल से भरी

ये दवात भी ले जाओ

जो एक भी हर्फ़ नहीं

लिखती किसी और को !

.

और हिसाब कर दो

पूरा मेरे मेहनताने का,

बची-खुची मेरी ज़िंदगी

मुझको आज़ाद दे दो !

.

मंजूर कर दो इस्तीफा मेरा..


अगला लेख: जवां - ज़ुबाँ के शब्द [कविता सँग्रह ]------: सुंकी घाटी का टूटा दिल-


शुक्रिया रवि भाई

रवि कुमार
05 जनवरी 2017

दिल जीत लिया, इस्तीफ़ा मंजूर नहीं किया जाएगा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x