आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

अपनत्व

04 जनवरी 2017   |  रवीन्द्र सिंह यादव

सभ्यता की सीढियां सहेजता समाज


नैतिकता के अदृश्य बोझ से


लड़खड़ा रहा है


निजता की परिधि


हम से मैं तक सिकुड़ चुकी है.


उन्नत उजालों में


दिखता नहीं आदमियत का भाव


स्वार्थ की अँधेरी रात में


अपनत्व का दीपक जले


दिखेंगे कुछ चेहरे


लगा है जिन्हें गहरा घाव.


















रवीन्द्र सिंह यादव

कविता,कहानी और लेख लिखते -लिखते समझ विकसित हुई तो पाया 'जीवनचर्या के लिए केवल लेखन कार्य पर निर्भर रहना नादानी है '. वर्तमान में मेडिकल लैब टेक्नोलॉजिस्ट के तौर पर नई  दिल्ली में निजी संस्थान में कार्यरत . इटावा उत्तर प्रदेश के ग्रामीण अंचल (महाराजपुरा , तहसील चकरनगर )  में जन्म , म. प्र. के कई ज़िलों में रहकर शिक्षा प्राप्ति.आकाशवाणी  ग्वालियर  म. प्र.   से  1992   - 2003    के बीच  कविता, कहानी, विशेष कार्यक्रम  आदि  का नियमित प्रसारण. ग्वालियर  से प्रकाशित    विभिन्न  दैनिक  समाचार-पत्रों   में  लेख व  कविताओं का प्रकाशन .ब्लॉग- हिन्दी-आभा*भारत (https://hindilekhanmeridrishti.blogspot.com), हमारा आकाश(https://hamaraakash.blogspot.com)पर  सक्रिय.

मित्रगण 21       वेबपेज  1       लेख 16
शब्द-सृजन:आसपास
अनुयायी 22
लेख 13
लेखक 1
शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x