आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस

आनेवाली मुस्कराहटों ..

06 जनवरी 2017   |  पम्मी सिंह

लो गई..

उतार चढ़ाव से भरी

ये साल भी गई...

गुजरता पल,कुछ बची हुई उम्मीदे

आनेवाली मुस्कराहटों का सबब होगा,

इस पिंदार के साथ हम बढ़ चले।


जरा ठहरो..देखो

इन दरीचों से आती शुआएं...

जिनमें असिर ..

इन गुजरते लम्हों की कसक, कुछ ठहराव और अलविदा कहने का...,

पयाम...नव उम्मीद के झलक

कुसुम के महक का,


जी शाकिर हूँ ..

कुछ चापों की आहटों से

न न न न इन रूनझून खनक से...,


हाँ..

कुछ गलतियों को कील पर टांग आई..,


बस जरा सा..

हँसते हुए ख्वाबों ने कान के पास आकर हौले से बोला..

क्या जाने कल क्या हो?

कोमल मन के ख्याल अच्छी ही होनी चाहिए..।

© पम्मी सिंह

(पिंदार-self thought,शाकिर- oblige )




शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस