खुदाई में मिला भगवान राम का धनुष, देखने के लिए टूट पड़े लोग

20 जनवरी 2017   |  रोमिश ओमर   (937 बार पढ़ा जा चुका है)

खुदाई में मिला भगवान राम का धनुष, देखने के लिए टूट पड़े लोग

New Delhi: आजकल सोशल मीडिया पर इस विशालकाय धनुष की तस्वीर काफी वायरल हो रही है। इस तस्वीर को आपने भी कई बार सोशल साइट पर देखा होगा।

दुनिया भर में वायरल हो रही इस तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि ये खुदाई में मिला भगवान राम का धनुष है। इस तस्वीर से पूरी दुनिया में खलबली मचा गयी है।

भगवान राम का धनुष 'कोदंड'

भगवान राम के धनुष का नाम कोदंड था इसीलिए प्रभु श्रीराम को कोदंड कहा जाता था। 'कोदंड' का अर्थ होता है बांस से निर्मित। कोदंड एक चमत्कारिक धनुष था जिसे हर कोई धारण नहीं कर सकता था। कोदंड नाम से भिलाई में एक राम मंदिर भी है जिसे 'कोदंड रामालयम मंदिर' कहा जाता है। भगवान श्रीराम दंडकारण्य में 10 वर्ष तक भील और आदिवासियों के बीच रहे थे।

एक बार समुद्र पार करने का जब कोई मार्ग नहीं समझ में आया तो भगवान श्रीराम ने समुद्र को अपने तीर से सुखाने की सोची और उन्होंने तरकश से अपना तीर निकाला ही था और प्रत्यंचा पर चढ़ाया ही था कि समुद्र के देवता प्रकट हो गए और उनसे प्रार्थना करने लगे थे। भगवान श्रीराम को सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर माना जाता है। हालांकि उन्होंने अपने धनुष और बाण का उपयोग बहुत ‍मुश्किल वक्त में ही किया।

देखि राम रिपु दल चलि आवा। बिहसी कठिन कोदण्ड चढ़ावा।।

अर्थात शत्रुओं की सेना को निकट आते देखकर श्रीरामचंद्रजी ने हंसकर कठिन धनुष कोदंड को चढ़ाया।

कोदंड कठिन चढ़ाइ सिर जट जूट बाँधत सोह क्यों।

मरकत सयल पर लरत दामिनि कोटि सों जुग भुजग ज्यों॥

कटि कसि निषंग बिसाल भुज गहि चाप बिसिख सुधारि कै।

चितवत मनहुँ मृगराज प्रभु गजराज घटा निहारि कै॥

भावार्थ:-कठिन धनुष चढ़ाकर सिर पर जटा का जू़ड़ा बाँधते हुए प्रभु कैसे शोभित हो रहे हैं, जैसे मरकतमणि (पन्ने) के पर्वत पर करोड़ों बिजलियों से दो साँप लड़ रहे हों। कमर में तरकस कसकर, विशाल भुजाओं में धनुष लेकर और बाण सुधारकर प्रभु श्री रामचंद्रजी राक्षसों की ओर देख रहे हैं। मानों मतवाले हाथियों के समूह को (आता) देखकर सिंह (उनकी ओर) ताक रहा हो।

प्रभु कीन्हि धनुष टकोर प्रथम कठोर घोर भयावहा।

भए बधिर ब्याकुल जातुधान न ग्यान तेहि अवसर रहा॥

प्रभु श्री रामजी ने पहले धनुष का बड़ा कठोर, घोर और भयानक टंकार किया, जिसे सुनकर राक्षस बहरे और व्याकुल हो गए। उस समय उन्हें कुछ भी होश न रहा।

प्राचीन समय में सैन्य वि ज्ञान का नाम ही धनुर्वेद था, जिससे सिद्ध होता है कि उन दिनों युद्ध में धनुष बाण का कितना महत्व था। नीतिप्रकाशिका में मुक्तवर्ग के अंतर्गत 12 प्रकार के शस्त्रों का वर्णन है, जिनमें धनुष का स्थान प्रमुख है।

अब अचानक सोशल मीडिया पर भगवान राम के तथाकथित धनुष ने सीधे हिंदुओं के दिल पर हाथ रख दिया है। इस धनुष के बारे में अब तक जो भी जानकारियां मिल रही हैं उसकी पुष्टी नहीं हुई है। कुछ लोग तो ये दावा बी कर रहे हैं कि इस धनुष को दुनिया के तमाम आर्कोलॉजिस्ट ने भी परिक्षण के बाद सही पाया है।

अब इन खबरों में कितनी सच्चाई है ये तो वक्त बताएगा। फिलहाल जिस तरह से पूरी रामायण हमारी श्रद्धा से जुड़ी है उसी तरह धनुष की ये खबर भी हमें उतना ही सच मानने को मजबूर कर रही है। फिलहाल आप अपने विवेक से काम लें।

.

खुदाई में मिला भगवान राम का धनुष, देखने के लिए टूट पड़े लोग

http://liveindia.live/postdetail/index/id/124984/lord-rama-dhanush

अगला लेख: vishwajeet singh anant: इस्लामिक बैंक : क्या मोदी जी का यह कदम हिंदुअो का धर्म परिवर्तन करायेगा?



रोमिश ओमर
22 फरवरी 2017

रोमिश ओमर
22 फरवरी 2017

रेणु
21 फरवरी 2017

ये खबर तो टीवी पर नही देखि या शायद दिखाई नही गई | ये बहुत ही उल्लास पूर्ण समाचार है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 फरवरी 2017
loading...बन्दा सिंह बहादुर का जन्म 27 , 1670 को ग्राम तच्छल किला, पु॰छ में श्री रामदेव के घर में हुआ। उनका बचपन का नाम लक्ष्मणदास था। युवावस्था में शिकार खेलते समय उन्होंने एक गर्भवती हिरणी पर तीर चला दिया। इससे उसके पेट से एक शिशु निकला और तड़पकर वहीं मर गया। यह देखकर उ
01 फरवरी 2017
25 जनवरी 2017
शाहरुख़ खान गुजरात के कुख्यात माफिया डॉन अब्दुल लतीफ के जीवन पर फिल्म "रईस" बनाकर उसका महिमामंडित करने जा रहे है ...नब्बे के दशक में पुरे गुजरात में लतीफ की तूती बोलती थी ..वो कोंग्रेसी मुख्यमंत्री चिमनभाई पटेल का दायाँ हाथ था .. कोंग्रेसी चमचा चिमनभाई पटेल के संरक्षण में
25 जनवरी 2017
20 जनवरी 2017
द्वादश ज्योतिर्लिंगों में प्रमुख काशी-विश्वनाथ मंदिर अनादिकाल से काशी में है। शास्त्रों में वर्णन मिलता है कि भगवान शिव की दिव्य ज्योति बाबा विश्वनाथ के रूप में पिंड में साक्षात दिखाई पड़ती थी। इसीलिए आदिलिंग के रूप में अविमुक्तेश्वर को ही प्रथम लिंग माना गया है। इसका उल्ल
20 जनवरी 2017
20 जनवरी 2017
20 जनवरी को कश्‍मीरी पंडितों को काफिर करार दिया गया था..!!जानिए इतिहास!!https://youtu.be/LPcfGSS04hQ20 जनवरी जब-जब यह तारीख आती है, #कश्‍मीरी #पंडितों के जख्‍म हरे हो जाते हैं। यही वह तारीख है जिसने #जम्‍मू कश्‍मीर में बसे कश्‍मीरी पंडितों को अपने ही #देश में शरणार्थी बनकर रहने को मजबूर कर दिया। इस
20 जनवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x