अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस आदेश से अत्यंत दुखी हैं नावेल विजेता मलाला यूसुफजई

28 जनवरी 2017   |  इंडियासंवाद   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस आदेश से अत्यंत दुखी हैं नावेल विजेता मलाला यूसुफजई

न्यूयॉर्क : पाकिस्तान की छात्र कार्यकर्ता और शांति के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित मलाला यूसुफजई ने कहा कि वह शरणार्थियों को लेकर डोनाल्ड ट्रंप के आदेश से अत्यंत दुखी हैं। मलाला ने ट्रंप से अनुरोध किया कि वह दुनिया के सबसे असुरक्षित लोगों को अकेला ना छोड़ें। पाकिस्तान में लड़कियों के लिए शिक्षा की खुलकर वकालत करने वाली 19 वर्षीय मलाला को वर्ष 2012 में तालिबानी आतंकवादियों ने सिर में गोली मार दी थी।

मलाला ने कहा, ‘‘मैं अत्यंत दुखी हूं कि आज राष्ट्रपति ट्रंप हिंसा और युद्धग्रस्त देशों को छोड़कर भाग रहे बच्चों, माताओं और पिताओं के लिए दरवाजे बंद कर रहे है।’’ इस बाबत आदेश पर ट्रंप के हस्ताक्षर करने के कुछ देर बाद मलाला ने एक बयान में कहा, ‘‘दुनियाभर में अनिश्चितता और अशांति के इस समय में, मैं राष्ट्रपति ट्रंप से अनुरोध करती हूं कि वह विश्व के सबसे असहाय बच्चों और परिवारों की ओर से मुंह ना मोड़ें।’’


मलाला शांति के लिए नोबेल पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की विजेता हैं। उन्हें भारत के शिक्षा कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी के साथ संयुक्त रूप से 2014 में यह पुरस्कार दिया गया। अब इंग्लैंड में रह रही मलाला ने कहा, ‘‘मैं बहुत दुखी हूं कि अमेरिका शरणार्थियों और प्रवासियों का स्वागत करने के अपने गौरवशाली इतिहास को पीछे छोड़ रहा है। इन लोगों ने आपके देश को आगे ले जाने में मदद की और वे एक नयी जिंदगी का उचित मौका मिलने के बदले कड़ी मेहनत करने के लिए तैयार हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस आदेश से अत्यंत दुखी हैं नावेल विजेता मलाला यूसुफजई

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/indiaabroad/trump-extremely-saddened-novel-winner-malala-yousafzai-20731#.WIx4RvnvrZg.facebook

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस आदेश से अत्यंत दुखी हैं नावेल विजेता मलाला यूसुफजई

अगला लेख: ममता बनर्जी को कोर्ट ने लगाई फटकार, संघ की रैली रोकने के आदेश को पलटा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 जनवरी 2017
झाबुआ : एक बेटा एएसआई है तो दूसरा प्रधान आरक्षक. फिर भी ऐसे निर्दयी कि बूढ़ी मां संभाल सकें. अपनी मां को पैरों में बेडिय़ां डालकर पलंग से बांध दिया. कड़ाके की ठंड में बूढ़ी मां भूखी-प्यासी घर के बाहर बरामदे में एक शेड में पड़ी रहती पर उन्हें दया नहीं आती. एसपी को जानकार
14 जनवरी 2017
14 जनवरी 2017
नई दिल्ली : 28 साल बाद इस मकर संक्रांति का सबसे ज्यादा महत्व हैं. संक्रांति में सूर्य देव 14 जनवरी शनिवार को सुबह 7:38 बजे मकर राशि में प्रवेश करेंगे. पुण्यकाल सूर्योदय से दोपहर 2 बजकर 2 मिनट तक रहेगा.जाने किस राशि में क्या प्रभाव ज्योत‌िष शास्त्र में शन‌ि महाराज को मकर
14 जनवरी 2017
14 जनवरी 2017
ऑस्टिन: गुरू-शिष्य परंपरा को शर्मसार कर देने वाली महिला टिचर को एलेक्जेंड्रा वेरा को एलेक्जेंड्रा कोर्ट ने 10 साल जेल की सजा सुनाई है. जून 2016 में यहां एक स्कूल में एक महिला टीचर अपनी हवस की आग में इस कदर अंधी हो गई कि उसने अपने ही 13 साल स्टूडेंट को शिकार बना लिया . दर
14 जनवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x