अपना धर्म अपने काबू में रखो, पगलाया सांड ना बनाओ उसको

03 फरवरी 2017   |  रवि कुमार   (462 बार पढ़ा जा चुका है)



धर्म कम्बख्त हर जगह घुस आया है. पूरा माहौल ही धर्म-मय है. नुक्कड़ पर चाय पियो, चीनी से ज़्यादा धर्म घुला मिलता है. ठंड में बाहर निकलो तो कोहरा कम, धर्म ज़्यादा टकराता है.

अखबार उठाओ धर्म. टीवी चला लो धर्म. व्हाट्सएप्प पर धर्म, फेसबुक पर धर्म, ट्विटर पर धर्म. धर्म को गालियां देते लोग. धर्म को डिफेंड करते लोग. धर्म को मानने से इंकार करते लोग. उस इंकार पे ऐतराज़ करते लोग. धर्म ओढ़ रहे हैं, बिछा रहे हैं, खा रहे हैं, ठंड में धर्म से हाथ ताप रहे हैं, धर्म को पैमाना बना कर लोगों को जज कर रहे हैं. मर रहे हैं धर्म के लिए, मार भी रहे हैं.

गीता में कहे कृष्ण के कथन को भारतवर्ष के कुछ लोगों ने बेहद सीरियसली ले लिया है-

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत
अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्

‘जब-जब धर्म की हानि होने लगती है और अधर्म बढ़ने लगता है, तब-तब धर्म के उत्थान के लिए मैं जन्म लेता हूं.’ अब भगवान ने तो अवतार लेने का सिस्टम बंद कर दिया है तो लोगों ने खुद ही ज़िम्मा संभाल लिया है धर्म की हानि रोकने का. उस पर करेला नीम यूं चढ़ा है कि हर एक को लगता है धर्म की हानि हो ही रही है. और बहुत जल्द धर्म डायनासोर की तरह विलुप्त हो जाने वाला है. खुद को अवतारी पुरुष घोषित करने लगते हैं. ना जाने कितने अवतार प्रवचन कर रहे हैं. हर भाषा में. फिर क्या है! धर्म बचाने की कवायद शुरू हो जाती है. और इसका इकलौता रास्ता जो नज़र आता है, वो है विधर्मियों को गरियाना.

धर्म के लिए ऑब्सेशन इतना बढ़ गया है कि हर एक घटना को हम धार्मिक चश्मे से देखने लगे हैं. अभी हाल ही में बंगाल के एक स्कूल में नबी-दिवस मनाने से स्कूल ने मना किया था. ये एक प्रशासनिक कदम था जिसकी अपनी वजूहात थी. उसे कुछ अल्लाह के बंदों ने धार्मिक आज़ादी से जोड़ कर ख़ूब बवाल काटा. सरस्वती पूजा पर भी बैन लगाने की मांग की. मामला इतना बढ़ा कि स्कूल अनिश्चितकाल के लिए बंद कर देना पड़ा.

कोई फिल्म-स्टार अपनी राय ज़ाहिर करता है, तुरंत धर्म ख़तरे में आ जाता है. अपने बच्चे का नाम रखने का हर किसी का विशेषाधिकार भी धर्म के रडार पर आने से बच नहीं पाया है. जानवरों के लिए इंसान को मर जाने देने की घटना इसी भारतवर्ष में हुई क्योंकि धर्म का सवाल था. अपनी बीवी के साथ एक तस्वीर शेयर करने की सज़ा क्रिकेटर को ट्रोल हो के, गंदी-गंदी गालियां सुन के भुगतनी पड़ीं क्योंकि धार्मिक भावनाएं आहत हो गई थीं.

भारत के दोनों ही प्रमुख धर्म आजकल एक अजीब तरह की बेधुंदी (नशे) में नज़र आ रहे हैं. एक दूसरे के प्रति नफ़रत का अंडर-करंट तो हमेशा से रहा है दोनों समाजों के बीच, लेकिन वो इतना विज़िबल पहले कभी नहीं था. शायद इसमें सोशल मीडिया का बहुत बड़ा हाथ है. और फोटोशॉप का भी. तरह-तरह की अफवाहें, फैब्रिकेटेड घटनाएं, झूठी तस्वीरें सीधे आपके मोबाइल में पहुंची जा रही है. उन्हें देखकर ख़ून है कि खौला ही रहता है. ख़ासतौर से उस पीढ़ी का जो अभी-अभी जवान हुई है या अभी हो ही रही है. इस जवां ख़ून की समस्त ऊर्जा नफ़रत को जज़्ब करने में खर्च हुई जा रही है. ये बहुत अफ़सोसनाक मंज़र है.

आप धार्मिक हैं, अच्छी बात है. अपने मज़हब में आपका ईमान पुख़्ता है, और भी अच्छी बात है. लेकिन ये न भूलिए कि आप अपने मज़हब की पहचान भी हैं. आपके मज़हब को आपके किये-धरे से आंका जाएगा. तो अगर आप अपने हक़परस्त, दयालु और भेदभाव-विहीन धर्म की साख बचाना चाहते हैं, तो वैसे बन के भी दिखाइए. जिम्मेदारी है आपकी. किसी प्रथा के विरोध करने भर से अगर आप दो सेकंड में सामने वाले पर गालियों का तोपखाना बरसाना शुरू करते हो तो आप बहुत गंदा विज्ञापन हैं अपने धर्म का. बुर्के का विरोध कर रही किसी महिला को वेश्या बताना, कोठे पर जाने की सलाह देना ये दिखाता है कि अपने खुद के मज़हब की बुनियादी शिक्षाओं से आपका कोई वास्ता नहीं. हुज़ूर अगर लौट आये धरती पर तो सबसे पहले आपके ही कान पे रैपट धरेंगे.

  • स्वघोषित भगवान बाबा राम रहीम की मिमिक्री करने पर उनके भक्त भड़क उठते हैं और कॉमेडियन को गिरफ्तार होना पड़ता है.
  • पैगंबर साहब का मजाक उड़ाने पर मुस्लिम समाज बड़ी संख्या में सड़क पर उतर आता है और तोड़फोड़ भी करता है.
  • पीके में कथित तौर पर हिन्दू भगवानों का मजाक उड़ाने के लिए हिंदू समाज का एक बड़ा तबका आमिर की सात पुश्तों को गालियां निकालता है.
  • पंजाब में ग्रंथ-साहिब की प्रति क्षतिग्रस्त पाये जाने पर रास्ता रोक कर बवाल काटा जाता है.

चलिए मैं मान लेता हूं कि धर्म हिंसा की, नफरत की, घृणा की शिक्षा नहीं देता. अब बरायमेहरबानी आप मान जाइए कि आपकी ऐसी हरकतें आपके ही धर्म की छवि खराब करती है. आपका ही धर्म शर्मसार होता है आप लोगों का ये हिंसक रूप देख कर.

धर्म की मूलभूत शिक्षाओं का सबक आप रट के आते हैं, कभी अमल भी तो कीजिये उन पर! मान जाइए कि धर्म के नाम पर मचाया हुआ किसी भी प्रकार का हुड़दंग धर्म की बेइज़्ज़ती का प्रमाणपत्र है. और ये आप ही के हाथों होता है धर्म-रक्षकों! किसी नास्तिक या विधर्मी के हाथों नहीं. आपका धर्म उतना ही अच्छा-बुरा है जितने कि आप!

धर्म जब तक निजी है तब तक ही सुसह्य है. सार्वजनिक होते ही ये हथियार बन जाता है. ऐसा हथियार जो अंधाधुंध चलता है. किसी को नहीं बख्शता. अपने मज़हब से, अपनी प्रथाओं से, अपने इतिहास से लगाव होना अच्छी बात है. लेकिन उसे नफ़रत का जरिया बताना सही नहीं. हमारे बुज़ुर्ग, साधु-संत, पैगंबर आदि कहकर चले गए हैं कि मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं. इसे ही याद रख लिया जाए तो भी बहुत कुछ संवरेगा. उम्मीद करते हैं कभी तो ऐसा होगा.

http://www.thelallantop.com/bherant/religion-is-rapidly-becoming-the-most-powerful-weapon-for-hatemongers/?utm_source=Chrome&utm_medium=referral&utm_campaign=NotificationChrome?utm_source=chromenotification

अगला लेख: "भारतीयों का जीवन इतना सस्ता नहीं है"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जनवरी 2017
भक्तों की संख्या खूब हो तो जीत के सपने आने ही लगते हैं. वैसे लोकतंत्र है. सब आज़ाद हैं. कोई भी इलेक्शन लड़े कौन रोक सकता है. लेकिन जब आरोपी लोग इलेक्शन में उतरते हैं तो उसी बात को बल मिलता है जो बार-बार दोहराई जाती राजनीति शरीफों का खेल नहीं है. अब नई पार्टी जो यूपी में चुनाव लड़ने जा रही है उसके कर्ता
21 जनवरी 2017
07 फरवरी 2017
माँ ऐसी क्यों होती है ?????
07 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
1974 में बम्बई की सिनेब्लिट्ज पत्रिका लॉन्च हुई. उस समय बम्बई में स्टारडस्ट पत्रिका का रौला था. पर सिनेब्लिट्ज में एक फोटो छपी, जिसने इस पत्रिका को एकदम से सबके हाथ में पहुंचा दिया. इसमें उस समय की चर्चित मॉडल प्रोतिमा बेदी की नंगी फोटो थी. फोटो के हिसाब से जुहू बीच पर प्रोतिमा नंगी दौड़ रही थीं. दिन
11 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
मामला अम्बेडकर नगर जिले के अलीगंज थाने से जुड़ा है. इस थाने पर तैनात दरोगा रविन्द्र प्रताप सिंह खुलेआम घूस लेने की बात स्वीकार करते हुए कैमरे में कैद हुआ है. उत्तर प्रदेश पुलिस का बेशर्म चेहरा एक बार फिर सामने आया है. मामला अम्बेडकर नगर जिले के अलीगंज थाने से जुड़ा है. इस थाने पर तैनात दरोगा रविन्द्र
15 फरवरी 2017
09 फरवरी 2017
किसी शख्स को अमेरिकन, जापानी या इंडियन नाम से पुकारते हुए तो जरूर सुना होगा लेकिन क्या कभी किसी का नाम ही अमेरिका, जापान या इंडिया सुना है. नहीं, तो ये अजब-गजब नामकरण वाली खबर आपको चौंकाने वाली है. जी हां, राजस्थान के उदयपुर के आदिवासी इलाके के एक ग्रामीण रामलाल ने अपनी 6 बेटियों के नाम इसी तरह 6 दे
09 फरवरी 2017
13 फरवरी 2017
पाकिस्तान में एक बढ़िया और सावधान करने वाला वीडियो बना है. जो लड़के लड़कियां इश्क में हैं. उन्हें जरूर देखना चाहिए.वीडियो बहुत क्लीयर सा मैसेज देता है. आंख मूंदकर यकीन न कीजिए. इंटरनेट का दौर है. आपका कुछ भी पर्सनल वायरल हो सकता है.
13 फरवरी 2017
21 जनवरी 2017
भक्तों की संख्या खूब हो तो जीत के सपने आने ही लगते हैं. वैसे लोकतंत्र है. सब आज़ाद हैं. कोई भी इलेक्शन लड़े कौन रोक सकता है. लेकिन जब आरोपी लोग इलेक्शन में उतरते हैं तो उसी बात को बल मिलता है जो बार-बार दोहराई जाती राजनीति शरीफों का खेल नहीं है. अब नई पार्टी जो यूपी में चुनाव लड़ने जा रही है उसके कर्ता
21 जनवरी 2017
25 जनवरी 2017
पाकिस्तान को सदैव उसी की भाषा में जवाब देकर सबक सिखाने की बात करने वाले भारतीय सेना के पूर्व वरिष्ठ अधिकारी मेजर जनरल जीडी बख्शी ने पाक पर फिर से सर्जिकल स्ट्राइक करने की बात कही है. उन्होंने कहा कि अगर हाल के दिनों में देश में हुए रेल दुर्घटनाओं में पाकिस्तान की हाथ पाया जाता है तो भारतीय सेना पड़ो
25 जनवरी 2017
06 फरवरी 2017
बीजेपी नेता विनय कटियार ने रविवार को राम मंदिर निर्माण के तीन फॉर्मूले बताए। उन्होंने कहा, "जिस तरह ढांचा गिराया गया, उसी तरह अयोध्या में मंदिर बनाया जाएगा। जो राम मंदिर निर्माण नहीं चाहते हैं, एक वर्ग विशेष के बारे में कहते हुए कटियार बोले कि वो अराजक हैं और देश को बर्बाद कर रहे हैं।' कटियार ने कहा
06 फरवरी 2017
14 फरवरी 2017
वर्ल्ड प्रेस फोटो जर्नलिस्ट अवॉर्ड्स की घोषणा हुई है. इसमें साल 2016 की सबसे चर्चित जर्नलिस्टिक फोटोज चुनी गई हैं. इस कॉन्टेस्ट में दुनिया भर से 80,408 फोटोज आई थीं. इनमें कई तस्वीरें ऐसी हैं जो आपने देख रखी होंगी, तो कुछ ऐसी भी हैं जो नज़रों से बच गई होंगी. इनमें से ज़्यादातर तस्वीरें ऐसी हैं जो अप
14 फरवरी 2017
16 फरवरी 2017
16 फरवरी 2017
13 फरवरी 2017
आज का सुवचन
13 फरवरी 2017
10 फरवरी 2017
देश के पांच राज्यों में चुनाव हो रहे हैं. लगे हाथ अगर ये भी वोटिंग करा ली जाए कि बॉलीवुड में कौन है सबसे देशभक्त एकटर तो शायद एक ही नाम आएगा. अक्षय कुमार. देशभक्ति से लबालब इनकी फिल्में तो आई ही हैं, इन्होंने फेसबुक लाइव भी किए हैं सैनिकों के ऊपर. बेंगलुरु में हुई मोलेस्टेशन की घटना के बाद ही इमोशन
10 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
1974 में बम्बई की सिनेब्लिट्ज पत्रिका लॉन्च हुई. उस समय बम्बई में स्टारडस्ट पत्रिका का रौला था. पर सिनेब्लिट्ज में एक फोटो छपी, जिसने इस पत्रिका को एकदम से सबके हाथ में पहुंचा दिया. इसमें उस समय की चर्चित मॉडल प्रोतिमा बेदी की नंगी फोटो थी. फोटो के हिसाब से जुहू बीच पर प्रोतिमा नंगी दौड़ रही थीं. दिन
11 फरवरी 2017
21 जनवरी 2017
अशोक नांगलिया जहां एक तरफ सिगरेट के कश लगा रहे हैं और शराब के नशे में धुत्त किसी को गाली निकाल रहे हैं. कह रहे हैं टिकट वही देंगे.आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता वरिदंर परिहार ने एक वीडियो रिलीज किया जिसमें नांगलिया शराब के नशे में धुत्त टिकट आबंटन के बारे में पंजाब को नशा मुक्त करने के बारे में कह रहे
21 जनवरी 2017
08 फरवरी 2017
ये वक्त शिक्षण संस्थानों को दुहने का है. तमाम नेताओं के भांति-भांति के स्कूल-कॉलेज खुले हैं. जो जाहिर सी बात है कि धर्मार्थ नहीं हैं. दो दिन में मैंने शिक्षा से जुड़े दो विपरीत छोर देख लिए हैं. एक तरफ मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी है, जिसके लाइफटाइम चांसलर सपा नेता आजम खान हैं. दूसरी तरफ एक सरकारी प्
08 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
वैलेंटाइन्स डे के दिन एक तस्वीर बड़ी वायरल हुई. एक कार की जो नई वाली 2 हजार की नोटों से सजी हुई है. और साथ में चली एक कहानी.कहानी थी ये:एक लड़के ने अपनी गर्लफ्रेंड को खुश करने के लिए अपनी गाड़ी को 2 हजार की नोटों से सजा दिया. मगर जैसे ही वो गाड़ी लेकर रोड पर निकला, पुलिस ने उसे धर लिया. अब बेचारा अरेस्ट
15 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x