11 घटनाएं जो साबित करती हैं कि अखिलेश दुबारा मुख्यमंत्री बनने लायक नहीं हैं

07 फरवरी 2017   |  रवि कुमार   (489 बार पढ़ा जा चुका है)

मुलायम सिंह यादव को अध्यक्ष पद से हटाकर अखिलेश यादव खुद सपा के अध्यक्ष बन गये हैं. जनता में बड़ा पॉजिटिव माहौल बना है. पर ये लग रहा है कि अखिलेश हर तरह के ब्लेम से मुक्त हैं. सारी गलती सपा पार्टी की है. सपा के पुराने नेताओं की है. अखिलेश सरकार तो एकदम काम करने के मोड में थी. पिछले छह महीनों में अखिलेश ने यही इमेज बनाने की कोशिश की है और सफल भी रहे हैं. जून 2016 से मुख्तार अंसारी की पार्टी के सपा में विलय को लेकर शिवपाल के खिलाफ निशाना साधा अखिलेश ने. तो तुरंत इमेज बन गई कि अखिलेश गुंडई के खिलाफ लड़ रहे हैं.

पर पिछले 5 साल में अगर अखिलेश यादव की सरकार के काम-काज पर ध्यान दें तो कई चीजें ऐसी निकलेंगी जिससे पता चलेगा कि अखिलेश शासन काल के अंत में जागे हैं. ये काम तो हर मुख्यमंत्री करता है. आइए देखते हैं अखिलेश सरकार की नाकामियों को-

1. दंगे जिन्हें अखिलेश रोक नहीं पाये

मुजफ्फरनगर दंगे

इसकी शुरूआत हुई मुजफ्फरनगर से. इन दंगों में 62 लोग मारे गये. जिस वक्त हजारों लोग विस्थापित होकर टेंट में रह रहे थे, अखिलेश सैफई में सलमान खान का डांस देख रहे थे. जब आवाज उठी तो बुलडोजर से सारे टेंट गिरा दिये गये. कि इमेज खराब हो रही है. दंगे बस इतने ही नहीं थे. ये तो बहुत बड़े पैमाने पर था. 2012 में यूपी में कुल 227 दंगे हुए. 2013 में 247. 2014 में 242. 2015 में 219. 2016 में भी 100 के ऊपर हो चुके हैं. दंगों के मामले में यूपी देश में एक नंबर पर है. ये केसों की बात थी. अगर सारे दंगे जोड़ दिये जायें तो डाटा कुछ और ही होगा. ये दंगे सिर्फ धार्मिक नहीं हैं. जमीन को लेकर, जाति को लेकर, छात्रों के दंगे सब शामिल हैं इनमें. दंगे का नाम आते ही हिंदू-मुस्लिम जेहन में आते हैं. पर यूपी में पब्लिक की हिंसा हर स्तर पर है.

2. मथुरा का रामवृक्ष कांड, जो अखिलेश को बबुआ बना गया

घायल सिपाही

280 एकड़ सरकारी जमीन पर अतिक्रमण हटाने गई पुलिस टीम पर हमला हो गया. एसपी और एसएचओ मारे गये. 23 पुलिसवाले अस्पताल में भर्ती हुए. जवाहर पार्क में रामवृक्ष यादव ने कब्जा जमा रखा था. पूरी सेना बना रखी थी. पुलिस के साथ लड़ाई चली. कुल 24 लोग मारे गये. चारों ओर से खुसुर-फुसुर होने लगी कि रामवृक्ष को सपा नेताओं का आशीर्वाद प्राप्त था. क्योंकि बिना उसके इतनी बड़ी घटना नहीं हो सकती. सवाल ये है कि सरकार क्या कर रही थी इतने दिन तक. किसने उसे प्रश्रय दिया था. क्या सरकार अनजान थी. तब तो ये और ज्यादा खतरनाक हो जाएगा. क्या अखिलेश को इसके बारे में पता नहीं था?

3. दादरी कांड जिसकी जिम्मेदारी अखिलेश ने नहीं ली

जब धर्मांध लोगों ने अखलाक को घर से खींचकर मार डाला तो अखिलेश सरकार ने ऐसे रिएक्ट किया जैसे सरकार कहीं से भी इस मामले से जुड़ी नहीं है. ऐसा नहीं होता है. ऐसी घटनाएं शॉर्ट नोटिस पर नहीं होती. प्लानिंग होती है. सरकार के रवैये को भांपकर अंजाम दिया जाता है. क्या अखिलेश सरकार वोट के चक्कर में धर्मांध लोगों को शह दे रही थी. हर बार सपा के लोग सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने की बात करते हैं. पर सवाल ये है कि कौन सांप्रदायिक है. क्या अखिलेश सरकार सांप्रदायिक नहीं है. क्या सांप्रदायिक ना होने का मतलब ये होता है कि किसी भी संप्रदाय को नहीं बचाना है?

अगर अखिलेश ये कहें कि ये ‘सांप्रदायिक ताकतों’ के चलते हुआ. हमाया कोई दोष नहीं है. तो कुछ और चीजें भी हैं-

4. बदायूं रेप कांड के बाद हुआ बुलंदशहर रेप, मुख्यमंत्री क्या सोच रहे थे?

इसी पेड़ पर लटकाई गई थीं लाशें

दो नाबालिक लड़कियों का रेप और मर्डर हुआ. वो क्या सांप्रदायिक ताकतों ने किया था? आरोप तो सपा सांसद के नजदीकी लोगों पर लगा था. उन लोगों की हिम्मत कैसे हुई? क्या सांसद ने उन लोगों से पल्ला झाड़ा? अरविंद केजरीवाल के मंत्रियों पर जब आरोप लगे तो उनको पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया. अखिलेश ने क्या किया? क्या ऐसा नहीं लगता कि उन लोगों को पूरा यकीन था कि सपा सांसद के नजदीकी हैं तो कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता. क्या बदायूं में अब भी लड़कियां अकेले घूमने जाती हैं? पत्ते बीनने? पर इससे सबक नहीं लिया गया. इसके बाद बुलंदशहर के NH-91 पर 12 लोगों ने मां-बेटी से रेप किया. मंत्रियों के इन्सेंसिटिव बयान भी आए, जो इसके दर्द को बढ़ाने के लिए ही दिए गए थे. अपराध के लिए सरकार कह सकती है कि हमें पता नहीं था. पर क्या उसके बाद कोई सबक नहीं लेगी सरकार? एप्लिकेशन बना देने से हो जाएगा? पुलिस भर्ती में औरतों की भागीदारी, पुलिस में औरतों के प्रति संवेदनशीलता ये चीजें कैसे आएंगी? हमेशा रिपोर्ट में आता है कि यूपी औरतों के लिए सबसे खतरनाक जगह है.

5. पत्रकार को जिंदा जलाया गया, मरते हुए मंत्री का नाम लिया था, पर कौन पकड़ा गया?

जगेंद्र सिंह

शाहजहांपुर के पत्रकार जगेंद्र सिंह को जिंदा जलाया गया. इसमें भी सपा के एक मंत्री का नाम आया. क्या वो मंत्री अभी जेल में है? नहीं. ये मामला ही पता नहीं कहां चला गया. जबकि मरते हुए जगेंद्र ने बयान दिया था कि मंत्री राममूर्ति वर्मा की शह पर पुलिस ने जलाया था. इस बयान को आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने ही रिकॉर्ड किया था. राममूर्ति स्टेट बैकवर्ड क्लासेज मिनिस्टर थे. इस मामले की गवाह थी एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता. और विडंबना ये है कि उसी औरत ने मूर्ति और उनके लोगों पर रेप का इल्जाम लगाया था. जगेंद्र ने इसी औरत के लिए लड़ाई लड़ी थी. उस औरत ने ये भी कहा था कि मूर्ति के लोगों ने जगेंद्र के साथ उसे भी जलाने का प्रयास किया था. पर वह भाग निकली. बाद में वो औरत अपने बयान से मुकर गई. ये कैसे हुआ? किसने उस औरत को मजबूर किया बयान बदलने के लिए? किन परिस्थितियों में कोई ऐसा करता है?

6. माइनिंग माफिया को लेकर अखिलेश चुप रहे, शायद इनको समझ ही नहीं आया

दुर्गाशक्ति नागपाल

अखिलेश के राज में माइनिंग को लेकर चर्चा हुई गौतमबुद्धनगर की कलेक्टर दुर्गाशक्ति नागपाल को लेकर. दुर्गा ने माफिया पर शिकंजा कसना शुरू किया तो उन्हें सस्पेंड कर दिया गया. हालांकि 2016 में अखिलेश ने माइनिंग मिनिस्टर गायत्री प्रजापति को बर्खास्त कर दिया था. पर ये याद रखना होगा कि ये 2016 था. चुनाव आ रहा था.

7. आईजी अमिताभ ठाकुर का मुद्दा

अमिताभ ठाकुर

अमिताभ ठाकुर की पत्नी ने गायत्री प्रजापति के खिलाफ कंप्लेंट दर्ज कराई थी. इसके बदले अमिताभ को धमकियां मिलने लगीं. एक ऑडियो भी आया जिसमें पता चला कि खुद मुलायम सिंह यादव अमिताभ को धमका रहे थे. कि जैसे एक बार पहले पीटे गये थे, वैसे ही पीटे जाओगे. ठाकुर अक्टूबर 2015 से सस्पेंड हैं. अखिलेश ने क्या किया इस मामले में? आज अपनी गद्दी के लिए पिता के सामने खड़े हुए हैं. पर जनता के लिए कब खड़े हुए थे. 3 जनवरी को रिटायर हुए चीफ जस्टिस टी एस ठाकुर ने जम्मू-कश्मीर में अपने डिप्टी सीएम पिता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. अखिलेश सिर्फ अपने स्वार्थ को लेकर अपने पिता के खिलाफ लड़े हैं.

8. यूपी पब्लिक सर्विस कमीशन के चेयरमैन अनिल कुमार यादव का मुद्दा

अनिल कुमार यादव

अनिल कुमार यादव चेयरमैन थे. और तब कमीशन पर करप्ट प्रैक्टिस का आरोप लगा. कमीशन अनिल कुमार की निजी कंपनी की तरह काम कर रहा था. अखिलेश आंख मूंदे रहे. जब इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इसमें हाथ डाला, तब अनिल को हटाया गया.

9. इससे बड़ा यादव सिंह का भ्रष्टाचार

यादव सिंह

नोएडा के चीफ इंजीनियर यादव सिंह पर सैकड़ों करोड़ की संपत्ति बनाने का आरोप लगा. पहले तो सरकार आना-कानी करती रही. फिर बाद में 2014 में सस्पेंड कर दिया गया. पर फरवरी 2015 में वन-मैन जुडिशियल इंक्वायरी बैठाई गई. क्योंकि इसे मैनेज करना आसान था. इलाहाबाद हाई कोर्ट में पेटीशन फाइल की गई कि सीबीआई इंक्वायरी हो. अखिलेश सरकार ने इसका विरोध किया. पर कोर्ट ने ऑर्डर दे दिया. इसके बाद अखिलेश सरकार सुप्रीम कोर्ट चली गई. पर वहां पर भी हाई कोर्ट का ही फैसला माना गया. अखिलेश सरकार बेशर्मों की तरह काम कर रही थी. किसको बचा रही थी, कैसे छुपा है.

10. बुंदेलखंड की क्राइसिस

बुंदेलखंड क्राइसिस

2015 में बुंदेलखंड में फरवरी और अप्रैल में बारिश हो गई. फसलें खराब हो गईं. किसान मरने लगे. बहुतों ने आत्महत्या कर ली और कई हार्ट अटैक से मर गये. क्योंकि सरकार ने फसल खराब होने को लेकर कोई फैसला नहीं दिया था. किसी भी तरह के मुआवजे की बात नहीं की थी. और मुलायम सिंह यादव किसान नेता चौधरी चरण सिंह के साये में बड़े हुए थे. साल खत्म होने पर अखिलेश सरकार ने चैक बांटने शुरू किये. लोगों को 23-23 रुपये के चैक बांटे गये. बुंदेलखंड में ये क्राइसिस अचानक नहीं हो गई थी. वहां तीन साल से सूखा भी पड़ा था. अप्रैल 2016 में अखिलेश ऑस्ट्रेलिया जाने वाले थे. इससे पहले वो बुंदेलखंड गये. वहां जाकर कुछ राहत का ऐलान किया.

11. साढ़े चार मुख्यमंत्रियों की सरकार बना जनतंत्र का फ्यूनरल निकाला

समाजवाद पर चर्चा हो रही है शायद

अखिलेश सपा सरकार के अकेले मुख्यमंत्री नहीं रहे. बेशक वो इसका ठीकरा बाकी लोगों के सिर पर फोड़ सकते हैं. कह सकते हैं कि इसी बात की तो लड़ाई लड़ रहा हूं. पर ये लड़ाई 5 साल पूरा होने के बाद ही याद आई है. तो क्या अखिलेश को इसके लिए माफ कर दिया जाए कि आपका कोई दोष नहीं था? 2012 से 2015 तक मुलायम सिंह यादव हर छह महीने में एक बार अखिलेश को डांटते रहे. ये पहली बार हो रहा था कि किसी मुख्यमंत्री को उसका पार्टी सुप्रीमो पब्लिकली डांट रहा था. इनके अलावा PWD मिनिस्टर चाचा शिवपाल अलग मुख्यमंत्री बने हुए थे. रामगोपाल यादव अभी तो अखिलेश के साथ हैं, पर उस वक्त ये भी आधे मुख्यमंत्री हुआ करते थे. फिर अर्बन डेवेलपमेंट मिनिस्टर आजम खान ने अलग सत्ता जमा रखी थी. अखिलेश कहां थे? घर के छोटे बच्चे थे? सीख रहे थे? तो क्या जनता एक्सपेरिमेंट करने के लिए है? संजय गांधी ने भी एक बार एक्सपेरिमेंट किया था.


अखिलेश कैसे मुख्यमंत्री बनेंगे, इसका अंदाजा उसी समय हो गया था जब ये जीतकर आए थे. उसी दिन सपा के लोगों ने गुंडई मचा दी थी. कई जगह तो थाने फूंक दिये गये थे. क्या अखिलेश इससे भी अनजान थे? हर जगह तो सीना ठोंककर बोले हैं कि 2012 का चुनाव मैंने ही जितवाया है सपा को. अपने दोस्तों के साथ मिलकर पूरी प्लानिंग की थी. तो ब्लेम लेने में सेलेक्टिव क्यों? क्या क्रेडिट लेने का ही काम करेंगे? 5 साल तो मिल गये. अब फिर मांगेंगे 5 साल. कहेंगे कि मेट्रो ला दिये लखनऊ में. 1090 हेल्पलाइन लाये. डायल 100 लाये, पुलिस तुरंत आ जाती है. पर बड़ी घटनाओं ने क्या नजीर पेश की है? कभी-कभी तो ऐसा लग रहा है कि सारे प्रोजेक्ट सिर्फ सरकार की नाकामी छुपाने के लिए एनाउंस किये गये हैं. जब दिल्ली के ‘आधे’ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को हर बात पर धर लिया जाता है तो अखिलेश से सिंपैथी क्यों? क्या सिर्फ इसलिए कि वो युवा हैं. या फिर इसलिए कि अपने पापा और चाचा से लड़ रहे हैं, अपनी गद्दी के लिए. जनता के लिए क्या किया है? क्या जनता अखिलेश का सिनेमा देखे?


एक ऑर्टिकल में हम इस बात की भी विवेचना करेंगे कि अखिलेश ने अपने 5 सालों में यूपी के लिए क्या किया है. किन बातों की वजह से हर सर्वे में वो ‘जनता की पहली पसंद’ बताये जा रहे हैं. हम मुख्यमंत्री की नाकामियों के साथ उनकी कामयाबी के बारे में भी बात करेंगे.



अगला लेख: "भारतीयों का जीवन इतना सस्ता नहीं है"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 फरवरी 2017
16 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
मामला अम्बेडकर नगर जिले के अलीगंज थाने से जुड़ा है. इस थाने पर तैनात दरोगा रविन्द्र प्रताप सिंह खुलेआम घूस लेने की बात स्वीकार करते हुए कैमरे में कैद हुआ है. उत्तर प्रदेश पुलिस का बेशर्म चेहरा एक बार फिर सामने आया है. मामला अम्बेडकर नगर जिले के अलीगंज थाने से जुड़ा है. इस थाने पर तैनात दरोगा रविन्द्र
15 फरवरी 2017
03 फरवरी 2017
धर्म कम्बख्त हर जगह घुस आया है. पूरा माहौल ही धर्म-मय है. नुक्कड़ पर चाय पियो, चीनी से ज़्यादा धर्म घुला मिलता है. ठंड में बाहर निकलो तो कोहरा कम, धर्म ज़्यादा टकराता है.अखबार उठाओ धर्म. टीवी चला लो धर्म. व्हाट्सएप्प पर धर्म, फेसबुक पर धर्म, ट्विटर पर धर्म. धर्म को गालियां देते लोग. धर्म को डिफेंड करते
03 फरवरी 2017
08 फरवरी 2017
ये वक्त शिक्षण संस्थानों को दुहने का है. तमाम नेताओं के भांति-भांति के स्कूल-कॉलेज खुले हैं. जो जाहिर सी बात है कि धर्मार्थ नहीं हैं. दो दिन में मैंने शिक्षा से जुड़े दो विपरीत छोर देख लिए हैं. एक तरफ मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी है, जिसके लाइफटाइम चांसलर सपा नेता आजम खान हैं. दूसरी तरफ एक सरकारी प्
08 फरवरी 2017
25 जनवरी 2017
एक ऐसी घटना हुई, कि मानवता पर घिन आने लगे. तीन लड़कों ने मिलकर एक लड़की का गैंगरेप किया. और करते हुए उसका फेसबुक पर लाइव टेलीकास्ट किया.ये लड़के 24, 22 और 20 साल के हैं. जबकि जिस लड़की का रेप हुआ, वो 31 साल की थी.जब वीडियो शुरू हुआ, लोगों को लगा कि लड़के मजाक कर रहे हैं. वीडियो में 3 लड़के दिख रहे थे. एक
25 जनवरी 2017
28 जनवरी 2017
हां एक तरफ पीएम मोदी पूरे देश में स्वच्छ भारत अभियान चला रहे हैं। वहीं उनके ही संसदीय क्षेत्र वाराणसी में खुले में एक शख्स को लघु शंका करते देखा गया। लेकिन वाराणसी में इस अभियान के तहत इस शख्स को तगड़ी सजा दी गई। गौरतलब है कि नगर निगम दस्ते में शामिल अधिकारी सड़कों पर लघु शंका करने वालों को पेनल्टी क
28 जनवरी 2017
06 फरवरी 2017
बीजेपी नेता विनय कटियार ने रविवार को राम मंदिर निर्माण के तीन फॉर्मूले बताए। उन्होंने कहा, "जिस तरह ढांचा गिराया गया, उसी तरह अयोध्या में मंदिर बनाया जाएगा। जो राम मंदिर निर्माण नहीं चाहते हैं, एक वर्ग विशेष के बारे में कहते हुए कटियार बोले कि वो अराजक हैं और देश को बर्बाद कर रहे हैं।' कटियार ने कहा
06 फरवरी 2017
06 फरवरी 2017
बीजेपी नेता विनय कटियार ने रविवार को राम मंदिर निर्माण के तीन फॉर्मूले बताए। उन्होंने कहा, "जिस तरह ढांचा गिराया गया, उसी तरह अयोध्या में मंदिर बनाया जाएगा। जो राम मंदिर निर्माण नहीं चाहते हैं, एक वर्ग विशेष के बारे में कहते हुए कटियार बोले कि वो अराजक हैं और देश को बर्बाद कर रहे हैं।' कटियार ने कहा
06 फरवरी 2017
12 फरवरी 2017
आज का सुवचन
12 फरवरी 2017
19 फरवरी 2017
क्या आप जानते है कुछ दिनों से हमारे देश में एक अभियान चल रहा है शंकराचार्य के मठ पर सरकार कब्ज़ा करने जा रही है, कांचीपुरम शंकराचार्य जी के मठ पर सरकार कब्ज़ा करने की पूरी तैयारी कर चुकी है, इसके लिये उनके ऊपर चार्जेस लगाये गए है उनके खिलाफ 2000 पेज की चार्जशीत फाइल की गई ह
19 फरवरी 2017
14 फरवरी 2017
वर्ल्ड प्रेस फोटो जर्नलिस्ट अवॉर्ड्स की घोषणा हुई है. इसमें साल 2016 की सबसे चर्चित जर्नलिस्टिक फोटोज चुनी गई हैं. इस कॉन्टेस्ट में दुनिया भर से 80,408 फोटोज आई थीं. इनमें कई तस्वीरें ऐसी हैं जो आपने देख रखी होंगी, तो कुछ ऐसी भी हैं जो नज़रों से बच गई होंगी. इनमें से ज़्यादातर तस्वीरें ऐसी हैं जो अप
14 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
महेंद्र सिंह धोनी जो भी काम करते हैं, उसका एक अलग स्टाइल रहता है. चाहे वो इंडिया की क्रिकेट टीम में एंट्री का हो, चाहे वो टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने का हो या फिर कप्तानी छोड़ने का हो.एकदम बेलाग, बिना किसी मलिनता के, बेसुध अंदाज में. ठीक यही रहा उनकी शादी को लेकर. तमाम अटकलों के बीच उन्होंने शादी
15 फरवरी 2017
25 जनवरी 2017
पाकिस्तान को सदैव उसी की भाषा में जवाब देकर सबक सिखाने की बात करने वाले भारतीय सेना के पूर्व वरिष्ठ अधिकारी मेजर जनरल जीडी बख्शी ने पाक पर फिर से सर्जिकल स्ट्राइक करने की बात कही है. उन्होंने कहा कि अगर हाल के दिनों में देश में हुए रेल दुर्घटनाओं में पाकिस्तान की हाथ पाया जाता है तो भारतीय सेना पड़ो
25 जनवरी 2017
15 फरवरी 2017
वैलेंटाइन्स डे के दिन एक तस्वीर बड़ी वायरल हुई. एक कार की जो नई वाली 2 हजार की नोटों से सजी हुई है. और साथ में चली एक कहानी.कहानी थी ये:एक लड़के ने अपनी गर्लफ्रेंड को खुश करने के लिए अपनी गाड़ी को 2 हजार की नोटों से सजा दिया. मगर जैसे ही वो गाड़ी लेकर रोड पर निकला, पुलिस ने उसे धर लिया. अब बेचारा अरेस्ट
15 फरवरी 2017
03 फरवरी 2017
धर्म कम्बख्त हर जगह घुस आया है. पूरा माहौल ही धर्म-मय है. नुक्कड़ पर चाय पियो, चीनी से ज़्यादा धर्म घुला मिलता है. ठंड में बाहर निकलो तो कोहरा कम, धर्म ज़्यादा टकराता है.अखबार उठाओ धर्म. टीवी चला लो धर्म. व्हाट्सएप्प पर धर्म, फेसबुक पर धर्म, ट्विटर पर धर्म. धर्म को गालियां देते लोग. धर्म को डिफेंड करते
03 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
15 फरवरी 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x