जब पंजाब नशे और आंतकवाद से झुलस रहा था तो गीत चुनाव से पहले रिलीज क्यों नहीं किया मान ने ?

11 फरवरी 2017   |  इंडियासंवाद   (62 बार पढ़ा जा चुका है)

जब पंजाब नशे और आंतकवाद से झुलस रहा था तो गीत चुनाव से पहले रिलीज क्यों नहीं किया मान ने ?

चंडीगड़ : सोशल मुद्दों को अपने गानों के जरिए समाज के सामने रखने वाले गुरदास मान एक बार फिर चर्चा में हैं. उनके वीरवार शाम को पंजाब के मुद्दों को लेकर जारी हुए गाने 'केहड़ा केहड़ा दुख दस्सां मैं पंजाब दा, फुल मुरझाया पेया है पंजाब दा, ने सोशल मीडिया पर जबरदस्त बहस छेड़ दी है. ज्यादातर ने मान की प्रशंसा की है कि उन्होंने पंजाब की सच्ची तस्वीर पेश की.

इन मुद्दों को छुआ मान ने ?

गुरदासमान ने शहीद भगत सिंह के बचपन में देश को आजाद करवाने के लिए सपने को आधार बनाकर गाना तैयार किया है. इसमें उन्होंने नशे में गल रही जवानी, कीटनाशक जहरों वाली खेती और प्रदूषित हो रहे पीने वाले पानी को बड़े मार्मिक तरीके से बयान किया है. यह गाना पंजाब में विधानसभा चुनाव के ठीक एक हफ्ते बाद रिलीज हुआ है. लोगों ने कहा- वे इन सभी मुद्दों से निजात पाना चाहते हैं.

क्या अकालियों से डर गए थे मान


कुछ लोगों का कहना है कि मान ने गाने को रिलीज करने का समय चुनाव से ठीक बाद क्यों चुना ? जबकि यह पहले चुना जाना चाहिए था ताकि लोग इसे देखकर कोई फैसला करते ? बलजीत सिंह ने अपनी वॉल पर लिखा है क्या मान अकालियों से डर गए ? बलजिंदर सिंह ने कहा, तीआं तो बाद तूंबा की फूकणै ? उन्होंने कहा, यह गाना यदि एक महीना पहले आता तो लोग इन चुनाव में अपना कोई इरादा तय करते. इसके अलावा गुरदास मान द्वारा डेरों का मुद्दा उठाए जाने की भी आलोचना की गई. कहा गया कि उन्होंने ऐसा इसलिए नहीं किया क्योंकि वह खुद नकोदर में डेरे पर जाते हैं.

जब आतंकवाद में पंजाब झुलस रहा था तो चुप क्यों थे मान

मान के इस गाने पर गुरप्रीत सिंह सहोता ने अपनी फेसबुक वॉल पर कमेंट किया है. कि जब पंजाब में आतंकवाद था और युवाओं को कोस कोस कर मारा जा रहा था. रोज चिताएं जल रही थीं. मरने वाले वही थे जो पंजाब के भविष्य को भांप गए थे और अपने खून बहाकर इस त्रासदी को रोकना चाहते थे तब आपने इन मुद्दों को क्यों नहीं उठाया मान साहिब.

जब पंजाब नशे और आंतकवाद से झुलस रहा था तो गीत चुनाव से पहले रिलीज क्यों नहीं किया मान ने ?

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/morestories/-maan-song-depicts-how-colourful-punjab-is-wasted-to-drugs-21205

जब पंजाब नशे और आंतकवाद से झुलस रहा था तो गीत चुनाव से पहले रिलीज क्यों नहीं किया मान ने ?

अगला लेख: दिल्ली के वसंत कुंज में मोर्टार शेल मिलने से मचा हड़कंप, NSG की टीम को मौके पर बुलाया गया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जनवरी 2017
देहरादून: 7 बार से विधायक हैं पर रहने को एक घर तक नहीं, यक़ीन करना भले ही मुश्किल हो लेकिन सच तो यही कि इन विधायक साहब के पास न तो घर है और न ही कोई अचल संपत्ति, जी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में वर्ष 1989 से लगातार सात बार विधायक रहे भाजपा नेता हरबंस कपूर के नाम अपना मकान
28 जनवरी 2017
28 जनवरी 2017
कोलकाता : टाटा स्टील साहित्य महोत्सव कोलकाता में जाने माने गीतकार जावेद अख्तर ने कहा कि हिंदू जाति व्यवस्था के कारण मुस्लिमों ने गलत वंशावली अपनाई। साथ ही जावेद अख्तर ने कहा कि देश में 90 फीसदी मुसलमान धर्म बदलकर मुसलमान बने हैं। उन्होंने कहा कि 'किसी आम मुसलमान से पूछिए
28 जनवरी 2017
28 जनवरी 2017
देहरादून: कांग्रेस के कद्दावर बागी नेताओं को मात देने के लिए उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कई जगहों पर भाजपा के बाग़ियों को टिकट दे दिया तो कहीं कांग्रेस के दिग्गजों को, राजनीति के माहिर हरीश रावत ने राजनीतिक चातुर्यता के साथ कई जगह पर जातीय समीकरणों का खेल खेला
28 जनवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x