गलतियां (Mistakes)

24 फरवरी 2017   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (131 बार पढ़ा जा चुका है)

गलतियां (Mistakes)

सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'गलतियां' है! Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले !

JYOTISH NIKETAN SANDESH: गलतियां (Mistakes)

अगला लेख: JYOTISH NIKETAN SANDESH: ध्‍यान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 फरवरी 2017
आज का सुवचन
13 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
हाइकु 5-7-5 के क्रम वाली क्षणिक कविता है और इसमें एक क्षण को उसकी सम्‍पूर्णता सहित अभिव्‍यक्‍त किया जाता है। इस वीडियो में बुढ़ापा के विषय में कुछ हिन्‍दी हाइकु दे रहे हैं। विश्‍वास हैं अवश्‍य पसन्‍द आएंगे। पसन्‍द आने पर लाईक, कमन्‍ट, शेयर व सब्‍सक्राईब करें। धन्‍यवाद ! बुढ़ापा (Senility) BuDhaapaa
15 फरवरी 2017
12 फरवरी 2017
आज का सुवचन
12 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
हाइकु 5-7-5 के क्रम वाली क्षणिक कविता है और इसमें एक क्षण को उसकी सम्‍पूर्णता सहित अभिव्‍यक्‍त किया जाता है। इस वीडियो में बुढ़ापा के विषय में कुछ हिन्‍दी हाइकु दे रहे हैं। विश्‍वास हैं अवश्‍य पसन्‍द आएंगे। पसन्‍द आने पर लाईक, कमन्‍ट, शेयर व सब्‍सक्राईब करें। धन्‍यवाद ! बुढ़ापा (Senility) BuDhaapaa
15 फरवरी 2017
26 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'ध्‍यान' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN SANDESH: ध्‍यान
26 फरवरी 2017
09 फरवरी 2017
आज का सुवचन
09 फरवरी 2017
22 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'सफल' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN: सफल(Successful)Saphal
22 फरवरी 2017
04 मार्च 2017
जैसा हमारा विचार एकाग्र होता है वैसा ही हमारा ध्‍यान होता है। ध्‍यान के अनुरूप ही हम बनते हैं आैर फिर जीवन भी उसी के अनुरूप आगे बढ़ता है। यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSC
04 मार्च 2017
16 फरवरी 2017
स्‍वस्‍थ्‍य सभी रहना चाहते हैं। रोगभय से सभी घबराते हैं। राेग से मुक्ति सभी को चाहिए। रोग शान्‍त हो जाए इसके लिए एक मन्‍त्र प्रयोग दे रहे हैं। मन्‍त्र की शक्ति सर्वविदित है। इस प्रयोग को आस्‍था व विश्‍वास के साथ करेंगे तो अवश्‍य लाभ होगा। चिकित्‍सक से अपना इलाज कराएं औ
16 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
हाइकु 5-7-5 के क्रम वाली क्षणिक कविता है और इसमें एक क्षण को उसकी सम्‍पूर्णता सहित अभिव्‍यक्‍त किया जाता है। इस वीडियो में बुढ़ापा के विषय में कुछ हिन्‍दी हाइकु दे रहे हैं। विश्‍वास हैं अवश्‍य पसन्‍द आएंगे। पसन्‍द आने पर लाईक, कमन्‍ट, शेयर व सब्‍सक्राईब करें। धन्‍यवाद ! बुढ़ापा (Senility) BuDhaapaa
15 फरवरी 2017
21 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'आशा' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN: आशा (Hope)
21 फरवरी 2017
13 फरवरी 2017
आज का सुवचन
13 फरवरी 2017
21 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'आशा' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN: आशा (Hope)
21 फरवरी 2017
12 फरवरी 2017
आज का सुवचन
12 फरवरी 2017
01 मार्च 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं और लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज के सुवचन का शीर्षक 'टकराव' है! Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले!यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।JYOTI
01 मार्च 2017
02 मार्च 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं और लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज के सुवचन का शीर्षक 'उन्‍नति' है!यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को
02 मार्च 2017
21 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'आशा' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN: आशा (Hope)
21 फरवरी 2017
10 मार्च 2017
किसी भी सत्‍य की वैचारिक स्‍वीकृति कर लेना सरल है पर उसे जीवन में अपनाकर उसके अनुसार जीवन जीना अत्‍यन्‍त कठिन है। आगे JYOTISH NIKETAN: क्‍या आप महावीर हैं
10 मार्च 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x