बहनजी को बेस पसंद है !

25 फरवरी 2017   |  इंडियासंवाद   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

बहनजी को बेस पसंद है !

नई दिल्ली: संगीत में भारी भरकम साउंड को बेस कहते हैं. इसलिए गाना है बेबी को बेस पसंद है. वैसे अंग्रेजी में बेस की सही स्पेलिंग BASS है पर इसका उच्चारण BASE (बेस) है. कांग्रेस के चाणक्य प्रशांत किशोर ने इसी हिट गाने पर गठबंधन का नारा 'यूपी को ये साथ पसंद है' बनाया है. गाना तो अभी भी सुपर हिट है पर शायद गठबंधन उतना हिट नही जा रहा है.

बेस का मतलब आधार भी है. इसलिए दलितों की प्रमुख जाति, 'जाटव' को बहनजी का बेस वोट कहा जाता है. यानी मायावती के वोटबैंक का असली आधार जाटव है और उनके चुनाव का सारा गणित इसी बेस वोट पर खड़ा है. आएये इस बेस वोटबैंक के कुछ आंकड़े देखते हैं. यूपी में जाटव कुल दलित वोट के 56 फीसदी हैं और मायावती को ये वोट आँख बन्द करके मिलते हैं. लेकिन यूपी की 21 प्रतिशत दलित जनसँख्या में 16 प्रतिशत पासी, 6 -6 प्रतिशत धोबी और कोरी , 3 .3 प्रतिशत बाल्मीकि और 2 प्रतिशत खटीक जातियां भी हैं जो अक्सर बहनजी के साथ नही चलती हैं.

यानी लगभग 54 प्रतिशत दलित वोटर ,मायावती का अंध भक्त नही है. शायद इसलिए बहनजी ने कुछ साल पहले ब्राह्मण भाई चारा समितियां बनाई थीं और धीरे धीरे उसमे गैर जाटव दलित और गैर यादव ओबीसी को जोड़ना शुरू किया. उनका मकसद यूपी में अपने वोट बैंक को बढ़ाना था. इस रणनीति के तहत 2007 में वो कामयाब तो हुईं लेकिन सत्ता में आते ही उन्होंने सिर्फ अपने बेस वोट यानी जाटव को ही मलाई खाने दी. जाटव अफसर और जाटव ठेकेदार ही बहनजी की सत्ता के साझेदार बने. बाकी वोटरों की बहनजी ने सुध नही ली.

2014 में जब लोकसभा चुनाव आये तो बहनजी को सबसे बड़ा झटका तब लगा जब जाटव और कुछ सीटों पर मुसलमान छोड़कर, उनका सारा वोटबैंक मोदी की झोली में जा गिरा. पहली बार मायावती यूपी में सारी सीटें लड़ने के बावजूद एक भी सीट जीत नही पायी. दरअसल बेस वोट के अलावा बहनजी को सबने ख़ारिज किया, ठीक वैसे ही जैसे उन्होंने सत्ता पाते ही जाटव छोड़ सबको हाशिये पर रखा था.

बहनजी की सियासत की सबसे कमज़ोर कड़ी ये है कि वो खुद जिस जाटव जाति की हैं उस जाटव के अलावा उनका यूपी में कोई दूसरा बेस नही है. यही हाल मुलायम सिंह यादव का है. यादव वोट के अलावा मुलायम /अखिलेश का कोई दूसरा बेस वोट नही है. जीत के लिए मुलायम और मायावती दोनों अपने बेस वोट के साथ मुसलमानो को रिझाने की कोशिश करते हैं. और बाकी जातियों तक पहुँचने के लिए सीट वार टिकट देते हैं. यानी कुर्मी बाहुल इलाके में बेनी प्रसाद वर्मा और ठाकुर बाहुल्य इलाके में कोई अरविन्द सिंह या अरिदमन को साइकिल पर चढ़ाया जाता है.

मित्रों, यूपी का ज़मीनी सच ये है कि प्रदेश की दोनों बड़ी रीजनल पार्टियां, सपा-बसपा, आज अपने बेस वोट के जाल में ही उलझ गयी हैं. जिस जाति के सहारे ये सत्ता तक पहुंची थी उसी जाति के तन्त्र से अब मात खा रही हैं. सच यही है कि पिछले दो दशकों की सत्ता के बावजूद, बसपा 12 -13 प्रतिशत जाटव और सपा 8 -9 प्रतिशत यादव के अलावा दूसरी हिन्दू जातियों में अपना बेस वोट नही बड़ा सकी हैं. बहुजन या समाजवाद के नाम पर दोनों ने सिर्फ अपनी ही जाति को पाला पोसा और आगे बढ़ाया.


निसंदेह, मायावती 2017 में अखिलेश के लिए बड़ी चुनौती होती. वे, अखिलेश के लचर कानून-व्यवस्था वाले राज को भुना कर, चुनाव जीत भी सकती थीं. लेकिन यूपी में अलीगढ से गोरखपुर और सहारनपुर से वाराणसी तक के चुनावी सफर के बाद, मैं ये कह सकता हूँ, कि मायावती आज उतनी ताकतवर नही दिख रही जितनी 2007 में वो थीं.उनके संगठन में पहले जैसा दम नही दिख रहा और उनकी भाई चारा और ब्राह्मण समितियां भी पहले जैसी सक्रिय नही रहीं. वो रैलियां तो करती जा रही ही हैं लेकिन पहले जैसा उत्साह नही दिखता. और ओबीसी और सवर्ण जातियों को भूल, जिस 19 प्रतिशत मुस्लिम वोट पर उनकी निगाह गढ़ी थी वो खैरात सपा में भी बंट रही है.

एक लाइन में कहूँ, तो

बहनजी की विडम्बना ये है कि....

बहनजी को सिर्फ बेस पसंद है.

बहनजी को बेस पसंद है !

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/viewpoint/mayawati-likes-bass-in-uttarpradesh-politics-21664

बहनजी को बेस पसंद है !

अगला लेख: संसद में कानून पास हो गया लेकिन इसे लागू होने में लग जाता है इतना वक़्त, पढ़िए !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 फरवरी 2017
भोपाल : मध्यप्रदेश एंटी टेररिज़म स्क्वॉड (ATS) ने कुछ दिन पहले पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने वाले जिन 11 लोगों को गिरफ्तार किया था उनमे ध्रुव सक्सेना नाम का व्यक्ति भाजपा का कार्यकर्ता है। पत्रिका की खबर के अनुसार ध्रुव सक्सेना भोपाल जिला भाजमुयो की आई
11 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
नई दिल्ली : एक विचार मंच विधि सेंटर फॉर लीगल पॉलिसी की एक रिपोर्ट के अनुसार संसदीय कानून को अस्तित्व में आने में औसतन 261 दिनों का समय लगता है। इस रिपोर्ट में वर्ष 2006 से वर्ष 2015 के बीच संसद द्वारा पारित 44 कानूनों का विश्लेषण किया गया है। कानून पर राष्ट्रपति की सहमति
11 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
जेवर : जेवर में चुनावी रैली के दौरान एक मुसलमान से मैंने पूछा कि राजनाथ सिंह के भाषण में कुछ अच्छा लगा? उसने बड़ी साफगोई से कहा, हमने सुना था ये लोग मुसलमानों को देश से भगाने की बात कर रहे हैं, ऐसा तो कुछ नहीं लगा। फिर ये पूछने पर कि बीजेपी को वोट दोगे क्या, उसने कहा, वोट
11 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x