इस चुनाव में मायावती के सियासी हालात अच्छे नहीं...

25 फरवरी 2017   |  इंडियासंवाद   (57 बार पढ़ा जा चुका है)

इस चुनाव में मायावती के सियासी हालात अच्छे नहीं...

लखनऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती अपनी चुनावी सभाओं में यह दावा ठोंकती फिर रही हैं कि उनकी पार्टी हर हाल में तीन सौ से भी अधिक सीटें जीतेगी। सरकार उन्हीं की बनेगी। लेकिन,क्या यह सच होकर रहेगा अथवा यह बसपा सुप्रीमो का सिर्फ ख्याली पुलाव ही है? इस सवाल का चैंका देने वाला जवाब एक अनपढ़ और खुद उनकी ही बिरादरी के एक दलित ने दिया है। इसी 22 फरवरी को बस पर इस संवाददाता के हमसफर दलित सहयात्री श्रीचंद का कहना था-‘मायावती नहीं, मोदी जीतेंगे‘। उसकी दलील थी कि मायावती ने हम गरीबों के लिये क्या किया? हमारी ही छाती पर चढकर कुर्सी पर बैठती रही हैं। खुद तो बहुत पैसे वाली हो गयीं और हम गरीब जस के तस रह गये। मोदी ने सबको बराबर करने की कोशिश की है। उसकी मंशा मोदी के नोटबंदी अभियान की तारीफ करने जैसी थी।

श्रीचंद इलाहाबाद के पास झलवा बाजार में किसी के यहां चैकीदारी करता है। पांच हजार रु महीने की पगार पर। यह बसपा के दिग्गज नेता और मायावती की सरकार में असरदार काबीना मंत्री रहे इंद्रजीत सरोज के विधान सभाई निर्वाचन क्षेत्र मंझनपुर के तहत सरसवाँ के पास का रहने वाला है। जाति से खुद को रैदास बताया। इलाहाबाद और उसके आसपास के इलाकों के चमार अपने को रैदास ही कहते हैं। यह संत रविदास के नाम का अपभ्रंश है। मायावती के भी इसी बिरादरी का होने के कारण ये रैदास कभी उनके अंधसमर्थक रहे हैं। उनके एकमुश्त वोट बसपा को ही पडते रहे हैं। लेकिन, इस बार ऐसा नहीं हुआ है। इनका रुझान भाजपा की ओर भी हुआ है।

लगता है कि बसपा सुप्रीमो मायावती उत्तर प्रदेश की सियासी फिजा में आ रहे इस बडे बदलाव को समझ नहीं पा रही हैं और न वह बदलते जमाने की नब्ज के मुताबिक खुद को बदल ही पा रही हैं। शायद यही वजह है कि इनके सोचने और काम करने का तौरतरीका आज भी पहले जैसा ही है। इनके मिजाज में महारानियों जैसी ठसक और तानाशाहों जैसी बू अभी भी बाकी है। अपने कार्यकर्ताओं को एक खास नजरिये से देखने समझने और उनसे बर्ताव करने का इनका तरीका पहले जैसा ही है। उनका विरोध करने का साहस पहले किसी बसपाई में नहीं रहा है जिसने भी ऐसी कोशिश की, उसे अर्श से फर्श पर पटकने में इन्होंने देर नहीं की थी।

लेकिन , अब ऐसा नहीं रह गया है। बसपाइयों में बडा बदलाव आ गया है। अब वे मायावती की राजशाही मनमानी बर्दाश्त करने को तैयार नहीं है। मसलन, इस चुनाव में कुछ ही समय पहले इलाहाबाद मंडल के सिराथू विधान सभाई क्षेत्र में मायावती के मनमानी फरमान के खिलाफ बसपाइयों ने बगावत का झंडा बुलंद कर दिया था। वह भी बसपा के राष्ट्रीय महासचिव इंद्रजीत सरोज के सामने। वजह यह थी कि इस चुनाव में पहले से ही घोषित किये गये इलाकाई बसपा प्रत्याशी राजेश मौर्य का टिकट काट कर मायावती ने इलाहाबाद धनाढ्य सईदुर्रब को टिकट दे दिया। इसके विरोध में बसपाइयों ने जमकर नारे बाजी की। सभा में कुर्सियां चलीं और लातजूते भी। इसमें कई बसपाई घायल भी हो गये थे।


मायावती के खिलाफ बसपाइयों की यह बगावत इस बात का स्पष्ट संकेत है कि अपने कार्यकर्ताओं पर उनकी पकड अब बहुत ढीली हो गयी है। पासी, कोरी, पाल, कनौजिया, सोनकर जैसी अनेक दलित जातियों में अब उनके प्रति पहले जैसी प्रतिबद्धता और एकजुटता नही रह गयी है। जहां तक मुस्लिम वोट बैंक का सवाल है, इनका अपनी चिरपरिचित हथकंथा रहा है। मुस्लिम समुदाय का रुझान उसी हालत में बसपा के प्रति होता है, जब चुनाव में सपा प्रत्याशी भाजपा के मुकाबले कमजोर पडते से वह उसे हराने की स्थिति में नहीं रहता है। उसकी इसी सियासी सोच के चलते इस चुनाव के पहले तीन चरणों में हुए मतदान के दौरान मुस्लिम वोटों का जमकर बिखराव हुआ है।

रही बात ब्राह्मणों की तो 2012 के विधान सभाई चुनाव के समय ही उसका मायावती के मोहभग हो गया था। इसके पहले 2007 के विधान सभाई चुनाव में मायावती ने ब्राह्मणों को रिझाने के लिये उन्हें बडे सपने दिखाये थे। लेकिन, उनकी सरकार बनने पर आम ब्राह्मण शंख और घंटा घडियाली ही बजाता रह गया। सत्ता की सारी मलाई मायावती के बेहद करीबी एक ब्राह्मण नेता और उसके बंधुबांधव ही चट कर गये। इसी का नतीजा रहा है कि इस चुनाव में ब्राह्मणों ने मायावती से पूरी तरह कन्नी काट लिया है। सियासी कारणों से मोदी ने पिछडे और अतिपिछडों के आगे इन्हें हाशिये पर ही डाल रखा है। लेकिन, इसके बावजूद, उसका रुझान भाजपा की ही ओर जान पड रहा है। यह मायावती और उनकी बसपा के राजनीति क अवसर का स्पष्ट संकेत है। इस स्थिति में मायावती अपने दावे पर किस सीमा तक खरी उतर सकेगीं, इसकी जानकारी तो 11 मार्च को ही मिल सकेगी।

इस चुनाव में मायावती के सियासी हालात अच्छे नहीं...

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/assembleyelection2017/mayawati-political-situation-is-not-good-in-this-election-21663

अगला लेख: संसद में कानून पास हो गया लेकिन इसे लागू होने में लग जाता है इतना वक़्त, पढ़िए !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 फरवरी 2017
कर्नाटक में रिजर्व बैंक द्वारा 10 रुपये के सिक्कों को अमान्य घोषित करने की अफवाह फैल गई जिसके बाद बाजार के कई दुकानदारों ने सिक्कों को लेना बंद कर दिया. आपको याद होगा पीएम मोदी ने नवंबर में जब नोटबंदी की घोषणा की थी तब भी इसी तरह से नमक की कमी की अफवाह फैली थी, जिसके बाद
11 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
जेवर : जेवर में चुनावी रैली के दौरान एक मुसलमान से मैंने पूछा कि राजनाथ सिंह के भाषण में कुछ अच्छा लगा? उसने बड़ी साफगोई से कहा, हमने सुना था ये लोग मुसलमानों को देश से भगाने की बात कर रहे हैं, ऐसा तो कुछ नहीं लगा। फिर ये पूछने पर कि बीजेपी को वोट दोगे क्या, उसने कहा, वोट
11 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
लखनऊ : यूपी में पहले चरण का चुनाव आज से शुरु हो चुका हैं. इसके लिए सिर्फ कुछ घंटे ही बचे है. ऐसे में तमाम राजनीतिक दल चुनावी रण के लिए अपना कमर कस चुके हैं. सियासत के इस अखाड़े में कौन किसे पटखनी दे दे ये शायद कोई नहीं जानता है लेकिन इस चुनावी रण में कई दिग्गज नेताओं क
11 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x