मोदी सरकार का ये कदम एक झटके में निपटा देगा टैक्स के 18 लाख मामले

25 फरवरी 2017   |  इंडियासंवाद   (72 बार पढ़ा जा चुका है)

मोदी सरकार का ये कदम एक झटके में निपटा देगा टैक्स के 18 लाख मामले

नई दिल्ली : इनकम टैक्स विभाग ने एक बड़ा कदम उठाते 100 रुपए तक के बकाया टैक्स वाले 18 लाख लोगों का टैक्स माफ कर दिया है। इस कदम से सरकार को 7 करोड़ रुपए का नुकसान होगा। इन 18 लाख बकाएदारों के लिए यह राहत की बात है। वहीँ इससे सरकार के पास लंबित 18 लाख मामले एक साथ निपट जाएंगे।

सरकार को यह फैसला इसलिए उठाना पड़ा क्योंकि इन 18 लाख लोगों से 100 रुपए तक के बकाया आयकर को वसूलने में जितने पैसे खर्च होते, उतना तो इन 18 लाख मामलों से सरकार को टैक्स भी नहीं आता। इस फैसले से सरकार का पैसा और समय दोनों ही बचेंगे। जिन 18 लाख बकाएदारों का टैक्स माफ किया गया है, उनमें अधिकतर मामले तीन साल से अधिक पुराने हैं।


ऐसा करने का फैसला केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) की ओर से किया गया और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नियमों के तहत इसे हरी झंडी दे दी है। बता दें कि इसी तरह से 100-5000 रुपए तक के बकाया टैक्स के करीब 22 लाख मामले सरकार के पास लंबित हैं।

मोदी सरकार का ये कदम एक झटके में निपटा देगा टैक्स के 18 लाख मामले

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/othertopstories/dealt-a-blow-to-the-government-in-terms-of-tax-18-million-21660#.WLA0KAy06rk.facebook

अगला लेख: संसद में कानून पास हो गया लेकिन इसे लागू होने में लग जाता है इतना वक़्त, पढ़िए !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 फरवरी 2017
चंडीगड़ : सोशल मुद्दों को अपने गानों के जरिए समाज के सामने रखने वाले गुरदास मान एक बार फिर चर्चा में हैं. उनके वीरवार शाम को पंजाब के मुद्दों को लेकर जारी हुए गाने 'केहड़ा केहड़ा दुख दस्सां मैं पंजाब दा, फुल मुरझाया पेया है पंजाब दा, ने सोशल मीडिया पर जबरदस्त बहस छेड़ दी
11 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
जेवर : जेवर में चुनावी रैली के दौरान एक मुसलमान से मैंने पूछा कि राजनाथ सिंह के भाषण में कुछ अच्छा लगा? उसने बड़ी साफगोई से कहा, हमने सुना था ये लोग मुसलमानों को देश से भगाने की बात कर रहे हैं, ऐसा तो कुछ नहीं लगा। फिर ये पूछने पर कि बीजेपी को वोट दोगे क्या, उसने कहा, वोट
11 फरवरी 2017
11 फरवरी 2017
नई दिल्ली : एक विचार मंच विधि सेंटर फॉर लीगल पॉलिसी की एक रिपोर्ट के अनुसार संसदीय कानून को अस्तित्व में आने में औसतन 261 दिनों का समय लगता है। इस रिपोर्ट में वर्ष 2006 से वर्ष 2015 के बीच संसद द्वारा पारित 44 कानूनों का विश्लेषण किया गया है। कानून पर राष्ट्रपति की सहमति
11 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x