टकराव (Confliction)Takaraav

01 मार्च 2017   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (127 बार पढ़ा जा चुका है)

टकराव (Confliction)Takaraav

सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं और लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज के
सुवचन का शीर्षक 'टकराव' है! Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले!
यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।
JYOTISH NIKETAN: Takaraav(Confliction)टकराव

http://jyotishniketana.blogspot.in/2017/03/takaraavconfliction.html

अगला लेख: JYOTISH NIKETAN SANDESH: ध्‍यान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 मार्च 2017
जैसा हमारा विचार एकाग्र होता है वैसा ही हमारा ध्‍यान होता है। ध्‍यान के अनुरूप ही हम बनते हैं आैर फिर जीवन भी उसी के अनुरूप आगे बढ़ता है। यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSC
04 मार्च 2017
26 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'ध्‍यान' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN SANDESH: ध्‍यान
26 फरवरी 2017
02 मार्च 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं और लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज के सुवचन का शीर्षक 'उन्‍नति' है!यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को
02 मार्च 2017
02 मार्च 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं और लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज के सुवचन का शीर्षक 'उन्‍नति' है!यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को
02 मार्च 2017
02 मार्च 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं और लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज के सुवचन का शीर्षक 'उन्‍नति' है!यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को
02 मार्च 2017
02 मार्च 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं और लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज के सुवचन का शीर्षक 'उन्‍नति' है!यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को
02 मार्च 2017
04 मार्च 2017
जैसा हमारा विचार एकाग्र होता है वैसा ही हमारा ध्‍यान होता है। ध्‍यान के अनुरूप ही हम बनते हैं आैर फिर जीवन भी उसी के अनुरूप आगे बढ़ता है। यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSC
04 मार्च 2017
09 मार्च 2017
जीवन निभाना भी एक महत्‍वपूर्ण दायित्‍व है, जो जीवन को जीने में कैसे कुशल बनें (Jeevan Ko Jeene Men Kaise Kushal Banen) - YouTube
09 मार्च 2017
04 मार्च 2017
जैसा हमारा विचार एकाग्र होता है वैसा ही हमारा ध्‍यान होता है। ध्‍यान के अनुरूप ही हम बनते हैं आैर फिर जीवन भी उसी के अनुरूप आगे बढ़ता है। यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSC
04 मार्च 2017
26 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'ध्‍यान' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN SANDESH: ध्‍यान
26 फरवरी 2017
16 मार्च 2017
मौन में शक्ति होती है इसलिए वह शक्तिशाली है। आगे... मौन शक्तिशाली है! (maun shaktishaalee hai) - YouTube
16 मार्च 2017
21 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'आशा' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN: आशा (Hope)
21 फरवरी 2017
26 फरवरी 2017
सुवचन सकारात्‍मक होते हैं अौर दिशा निर्धारित करते हैं। सुपथ दिखाते हैं अौर लक्ष्‍य प्राप्ति में सहायक होते हैं। आज का सुवचन का शीर्षक 'ध्‍यान' है!Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSCRIBE करना ना भूले ! JYOTISH NIKETAN SANDESH: ध्‍यान
26 फरवरी 2017
04 मार्च 2017
जैसा हमारा विचार एकाग्र होता है वैसा ही हमारा ध्‍यान होता है। ध्‍यान के अनुरूप ही हम बनते हैं आैर फिर जीवन भी उसी के अनुरूप आगे बढ़ता है। यदि आपने अभी तक नहीं किया है तो SUBSCRIBE तुरन्‍त करें आपको नई वीडियो की जानकारी मिलती रहेगी।Video को LIKE और हमारे CHANNEL को SUBSC
04 मार्च 2017
11 मार्च 2017
सिर्फ पढ़ने से कुछ नहीं होता है। पढ़ने से बुद्धि की क्षमता बढ़ती हैं अौर क्षमता बढ़ने से स्‍वयं के परिष्‍कार करने की योग्‍यता आती है। आगे... JYOTISH NIKETAN SANDESH: कहीं आप सिर्फ पढ़ते तो नहीं
11 मार्च 2017
14 मार्च 2017
हम दुःखी क्यों हैं? इस प्रश्न का उत्तर जानने पर ज्ञात होगा कि...आगे हम दु:खी क्‍यों हैं ! (ham dukhee k‍yon hain) - YouTube
14 मार्च 2017
15 फरवरी 2017
हाइकु 5-7-5 के क्रम वाली क्षणिक कविता है और इसमें एक क्षण को उसकी सम्‍पूर्णता सहित अभिव्‍यक्‍त किया जाता है। इस वीडियो में बुढ़ापा के विषय में कुछ हिन्‍दी हाइकु दे रहे हैं। विश्‍वास हैं अवश्‍य पसन्‍द आएंगे। पसन्‍द आने पर लाईक, कमन्‍ट, शेयर व सब्‍सक्राईब करें। धन्‍यवाद ! बुढ़ापा (Senility) BuDhaapaa
15 फरवरी 2017
15 फरवरी 2017
हाइकु 5-7-5 के क्रम वाली क्षणिक कविता है और इसमें एक क्षण को उसकी सम्‍पूर्णता सहित अभिव्‍यक्‍त किया जाता है। इस वीडियो में बुढ़ापा के विषय में कुछ हिन्‍दी हाइकु दे रहे हैं। विश्‍वास हैं अवश्‍य पसन्‍द आएंगे। पसन्‍द आने पर लाईक, कमन्‍ट, शेयर व सब्‍सक्राईब करें। धन्‍यवाद ! बुढ़ापा (Senility) BuDhaapaa
15 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x