'नैना जायसवाल' 16 साल की लड़की ने बनाया एक ऐसा रिकॉर्ड जिसे जमाना याद रखेगा

08 मार्च 2017   |  महेश सिंह   (534 बार पढ़ा जा चुका है)

'नैना जायसवाल' 16 साल की लड़की ने बनाया एक ऐसा रिकॉर्ड जिसे जमाना याद रखेगा

कुछ टैलेंट्स तो इंसान जन्म के दौरान ही लेकर आता है और कुछ यहां धरती पर आने के बाद आ जाती हैं। वैसे कुछ लोगों में इतनी प्रतिभाएं होती हैं कि उनके बारे में कुछ कहना भी कम ही लगता है। शायद उन्हें ही 'गॉड गिफ्टेड' का नाम दिया जाता है। एक ऐसा ही नाम है 'नैना जायसवाल', जिन्हें गॉड गिफ्टेड की संज्ञा दी जा सकती है। उनकी प्रतिभाएं इतनी हैं कि बखान करना भी मुश्किल सा लगता है।


मात्र 16 साल की उम्र में नैना ने इतनी उपलब्धियां हासिल की हैं कि गिनते-गिनते उम्र कम पड़ जाए। चलिए बताते हैं नैना के बारे में..

नैना 8 साल की थीं जब उन्होंने अपनी 10वीं की परिक्षा पास कर ली। 13 साल की उम्र में जर्नलिज्म में ग्रेजुएशन पूरा कर लिया। अब सोचने वाली बात है कि नैना में इतनी प्रतिभाएं कहां से आयी होंगी। उस मां-बाप के लिए कितनी गर्व की बात होगी जिसने ऐसी प्रतिभावान लड़की को जन्म दिया। अभी बात यहीं खत्म नहीं हुई, पन्ने कम पड़ जाएंगे नैना के बारे में लिखते-लिखते।

नैना अभी पीएचडी की पढ़ाई कर रही हैं। यही नहीं वो नेशनल लेवल की टेबल टेनिस चैंपियन भी हैं। अब बोलिए लड़किया किस मामले में पीछे हैं? हम तो कहें कि लड़कियां हर मामले में लड़कों से दो कदम आगे ही हैं। नैना के पिता ने नैना को हर काम के लिए सपोर्ट किया, हर काम के लिए सराहना की। 5 साल तक नैना की शिक्षा घर पर ही हुई, नैना के पिता खुद पढ़ाते थे।

कहानी अभी यहीं खत्म नहीं हुई। अभी कलाएं और भी हैं नैना की। नैना बेहद शानदार पियानो भी बजा लेती हैं और गाना भी गा लेती हैं। अपने दोनो हाथों से लिख लेती हैं। उन्हें रामायण के 108 श्लोक रटे हुए हैं। खाना बनाने में भी निपुण हैं, हैदराबादी बिरयानी 25 मिनट में बना लेती हैं।

अब कौन कहता है कि लड़कियां कमजोर होती हैं, लड़कियां घर का काम करने के लिए होती हैं और न जाने क्या-क्या। इन सब वाक्यों पर बस एक लगाम लगाने के लिए नैना जायसवाल का नाम काफी है। 16 साल की उम्र में इतनी उपलब्धियां कमाना आसान नहीं है और हर किसी के बस की बात भी नहीं है।

अब नैना की निगाह 2020 के ओलंपिक्स पर है। नैना के इरादे मजबूत हैं तो बेशक हर जंग में उन्हें सफलता मिलेगी। मेहनती और लगनशील के पर्याय में एक नाम 'नैना' का नाम लेना जरा भी अतिशयोक्ति नहीं होगी। बाकि नैना के लिए ढेर सारी दुआएं और शुभकामनाएं। इनके जज्बे को 100 सलामी।


http://www.firkee.in/feminism/16-year-old-girl-is-the-youngest-post-graduate-in-asia?pageId=1

अगला लेख: इलाहाबाद का यह वही शख्स है, जिसको एक झापड़ ने बना दिया यूपी का कैबिनेट मंत्री



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2017
मही अर्थात धरती , जिसे हिला कर रख दे वह है महिला। 8 मार्च संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा महि
08 मार्च 2017
14 मार्च 2017
हम दुःखी क्यों हैं? इस प्रश्न का उत्तर जानने पर ज्ञात होगा कि...आगे हम दु:खी क्‍यों हैं ! (ham dukhee k‍yon hain) - YouTube
14 मार्च 2017
17 मार्च 2017
दे
2001 का ज़ी सिने अवॉर्ड जैसे बहुत सारे अजीबो गरीब मोमेंट्स से भरा हुआ था। एक तरफ़ करीना कपूर बेस्ट डेब्यू का अवॉर्ड छीन जाने से काफ़ी गुस्से में नज़र आ रही थीं। वहीं दूसरी तरफ़ ईशा को भी इस अवॉर्ड फंक्शन में काफ़ी गुस्सा आ गया था। ऐसा हम नहीं कह रहे एक वीडियो कह रही है।य
17 मार्च 2017
28 फरवरी 2017
मंडप भी सजा ,शहनाई बजी ,आई वहां बारात भी ,मेहँदी भी रची ,ढोलक भी बजी ,फिर भी लुट गए अरमान सभी .समधी बात मेरी सुन लो ,अपने कानों को खोल के ,होगी जयमाल ,होंगे फेरे ,जब दोगे तिजोरी खोल के .आंसू भी बहे ,पैर भी पकड़े ,पर दिल पत्थर था समधी का ,पगड़ी भी रख दी पैरों में ,पर दिल न पिघला समधी का .सुन लो समधी
28 फरवरी 2017
18 मार्च 2017
उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री अगला प्रिंस है. गड्ढ़े से निकल ही नहीं रहा. दिखता ही नहीं है. बेवजह का सस्पेंस बनाया जा रहा है अलग. सस्पेंस कौन बना रहा है? हम सब मिलके. माने सबको पता है. आज नहीं तो कल नाम आ ही जाएगा. पर सबको जल्दी ही जानना है. चुल्ल का इलाज थोड़े होता है. तो अभ
18 मार्च 2017
06 मार्च 2017
''आंधी ने तिनका तिनका नशेमन का कर दिया , पलभर में एक परिंदे की मेहनत बिखर गयी .'' फखरुल आलम का यह शेर उजागर कर गया मेरे मन में उन हालातों को जिनमे गलत कुछ भी हो जिम्मेदार नारी को ठहराया जाता है जिसका सम्पूर्ण जीवन अपने परिवार के लिए त्याग और समर्पण पर आधारित रहता है .
06 मार्च 2017
10 मार्च 2017
अगर आम चुनाव शादी हैं तो 5 राज्यों में चुनावों को कम से कम तिलक का दर्जा मिलना चाहिए. खासकर अगर पांच राज्यों में यूपी भी शामिल हो तो. हमारे यहां हर चुनाव को उसके बाद आने वाले चुनावों का सेमीफाइनल बताने का चलन है. इस वाले को 2019 के आम चुनावों का सेमीफाइनल बताया जा रहा है. कल शाम आपने एग्ज़िट पोल वाल
10 मार्च 2017
21 फरवरी 2017
इलाहाबाद के मुट्ठीगंज कालीबाड़ा और उमा शकर मिल के सामने बसी बस्ती के झोपड़पट्टी में रहने वाले एक उस बच्चे की कहानी जिसकी जिन्दगी एक थप्पड़ ने बदल डाली. बस यहीं से इस बच्चे को उसकी झकझोरती आत्मा ने उसे एक आटा बेचने वाले से यूपी की सत्ता के कैबिनेट मंत्री का सरताज पहना दिया गया.यह कहानी किसी और की नहीं ब
21 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x