SBI की चेयरपर्सन ने 11 करोड़ जनधन खातों को बताया बैंक पर बोझ

09 मार्च 2017   |  इंडियासंवाद   (53 बार पढ़ा जा चुका है)

मुंबईः भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) 11 करोड़ जनधन खातों को अपने ऊपर बोझ मानता है। यही वजह है कि इन खातों के प्रबंधन पर शुल्क लगाने की बात कही जा रही है। बैंक खातों में न्यूनतम राशि नहीं रखने पर जुर्माना लगाने के अपने फैसले को एसबीआई ने सही ठहराया है। देश के सबसे बड़े बैंक ने कहा है कि उसे शून्य शेष वाले बड़ी संख्या में जनधन खातों के प्रबंधन के बोझ को कम करने के लिए कुछ शुल्क लगाना पड़ेगा।

एक अप्रैल से लागू होंगे नियम

पिछले सप्ताह एसबीआई ने खातों में न्यूनतम राशि नहीं रखने पर जुर्माने के प्रावधान को फिर लागू करने की घोषणा की थी। इसके अलावा उसने अन्य बैंकिंग सेवाओं पर शुल्कों में भी संशोधन किया था। नए शुल्क पहली अप्रैल से लागू होंगे। सरकारी बैंक को अपने इस कदम के लिए विपक्षी दलों सहित अन्य लोगों की ओर से चौतरफा आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।


क्या बोलीं चेयरपर्सन

एसबीआई की चेयरपर्सन अरंधति भट्टाचार्य ने यहां महिला उद्यमियों पर राष्ट्रीय सम्मेलन के मौके पर अलग से कहा, ‘‘आज हमारे उपर काफी बोझ है। इनमें 11 करोड़ जनधन खाते भी शामिल हैं। इतनी बड़ी संख्या में जनधन खातों के प्रबंधन के लिए हमें कुछ शुल्क लगाने की जरूरत है। हमने कई चीजों पर विचार किया और सावधानी से विश्लेषण के बाद यह कदम उठाया है।

एसबीआई की संशोधित शुल्कों की सूची के अनुसार खाताों में मासिक औसत राशि (एमएबी) नहीं रखने पर 100 रुपये तक जुर्माना और सेवा कर लगेगा। महानगरों 5,000 रुपये के एमएबी पर यदि खाते में जमा राशि इसके 75 प्रतिशत से नीचे जाती है, तो यह जुर्माना 100 रुपये जमा सेवा कर होगा।

SBI की चेयरपर्सन ने 11 करोड़ जनधन खातों को बताया बैंक पर बोझ

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/specialstories/sbi-chief-says-new-bank-charges-will-help-jan-dhan-costs-22038#.WMBEZqovHrk.facebook

अगला लेख: इस चुनाव में मायावती के सियासी हालात अच्छे नहीं...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 फरवरी 2017
देहरादून: नौवी कक्षा में पढ़ने वाले एक छात्र ने ऐसे कारनामे को अंजाम दिया कि पूरा गांव ही दंग रह गया। उत्तराखण्ड के छोटे से गाँव पथरौली में रहने वाले राहुल चंद्र बड़ ने अपने गांव में एक पुस्तकालय खोला है। जिसके बाद हर कोई उस लड़के का मुरीद हो गया।पिथौरागढ़ ज़िले के देवलथल
25 फरवरी 2017
25 फरवरी 2017
नई दिल्ली: संगीत में भारी भरकम साउंड को बेस कहते हैं. इसलिए गाना है बेबी को बेस पसंद है. वैसे अंग्रेजी में बेस की सही स्पेलिंग BASS है पर इसका उच्चारण BASE (बेस) है. कांग्रेस के चाणक्य प्रशांत किशोर ने इसी हिट गाने पर गठबंधन का नारा 'यूपी को ये साथ पसंद है' बनाया है. गाना
25 फरवरी 2017
25 फरवरी 2017
नई दिल्ली : इनकम टैक्स विभाग ने एक बड़ा कदम उठाते 100 रुपए तक के बकाया टैक्स वाले 18 लाख लोगों का टैक्स माफ कर दिया है। इस कदम से सरकार को 7 करोड़ रुपए का नुकसान होगा। इन 18 लाख बकाएदारों के लिए यह राहत की बात है। वहीँ इससे सरकार के पास लंबित 18 लाख मामले एक साथ निपट जाएंग
25 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x