आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

होली गीतों की भूली बिसरी परम्परा

09 मार्च 2017   |  रेणु

होली गीतों की  भूली  बिसरी परम्परा

होली का पर्व अपने साथ ऐसा उल्लास और उमंग ले कर आता है जिसमे हर इन्सान आकंठ डूब जाता है | ये फाल्गुन मास में आता है | फाल्गुन मास में बसंत ऋतुअपने चरम पर होतीहै | कहना अतिशयोक्ति ना होगा कि फागुन मास में प्रकृति का उत्सव मनता है | धरती सरसों के पीले फूलों और गेहूं की धूसर बालियों से सजी होती है | पतझड़ में वृक्षों से पुराने पत्ते झड जाते हैं - और वे नए चिकने पत्तों से सजे होते हैं -- आम बौराने लगते है -- हर रंग के फूल इस मौसम में खिलकर प्रकृति की शोभा में चार चाँद लगते हैं | ये प्रकृति के महारास की बेला है-- जहाँ संगीत है -- तो गीत और नृत्य भी है | लोक जीवन में इस त्यौहार के आसपास गीत - संगीत की सुदीर्घ परम्परा रही है | लगभग दो दशक पूर्व तक उत्तर भारत के लगभग हर गाँव में- होली से कई दिन पहले से ही रातों में होली के गीत- संगीत की शुरुआत हो जाती थी | महिलाये रात में इकठ्ठी हो कर करतल ध्वनि के साथ गोल दायरे में घूम कर होली के गीत गाती | जब महिलाएं होली के गीतों का गायन कर रही होती तो कच्चे लिपे पुते आँगन में धूल उठ जाती , जो उड़कर आसमान छूती प्रतीत होती| मस्ती और उमंग से भरी इन रातों में - पायल की झंकार और ढोलकी की थाप पर गीतों की होली का सिलसिला देर रात तक चलता | प्राय ये गीत - संगीत फाल्गुन मास के प्रारम्भ से ही शुरू हो जाता , पर इसमें तेजी अमावस के बाद आती , जब ठण्ड नाममात्र की रह जाती और चन्द्रमा अपने यौवन की तरफ बढ़ने लगता | फाल्गुन मास की उन दूधिया चांदनी से भरी रातों में होली के गीतों की सुरीली ताने अद्भुत होती |समाज में व्याप्त कई वर्जनाये , पीड़ा प्रेम , विरह आदि इन लोक गीतों विषय होते | इन गीतों के बाद लोकनृत्य और चुहलबाजी का दौर शुरू हो जाता | वैसे पुरुषवर्ग को इन आयोजनों में आने की सख्त मनाही थी , फिर भी अक्सर वे लुकछिप कर इन गीतों भरी रातों का दीदार करते देखे जाते !

समय बदल गया और भौतिक प्रगति के फलस्वरूप टीवी संस्कृति का आगमन हुआ | और होली के मधुर लोकगीतों का ये सुनहरी दौर अतीत बनकर रह गया | पर जिन लोगों ने भी उन जादुई लम्हों को जिया है में -- कच्चे आँगन से आसमान तक जाती धूल की सौधी खुशबू में लिपटे वे गीत उनकी यादों में हमेशा गूंजते रंहेगे| आज गाँव के बड़े - बड़े आँगन भी सिमटकर छोटे - छोटे रह गए हैं -- वो भी कंक्रीट के बने ! उनमे उस नैसर्गिक संगीत की कल्पना करना भी दुष्कर है | गीतों की विलुप्त होती परम्पराओं में रातों की संगीतमयी होली भी शामिल हो गई है | हो सकता है अब भी कोई ऐसा गाँव बचा हो जहाँ आज भी होली की ये अद्भुत परम्परा निभाई जाती हो |


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x