पिता का हाथ न छोड़े होते तो आज बुआ का हाथ थामने की नौबत न आती अखिलेश को

10 मार्च 2017   |  इंडियासंवाद   (56 बार पढ़ा जा चुका है)

पिता का हाथ न छोड़े होते तो आज बुआ का हाथ थामने की नौबत न आती अखिलेश को

लखनऊ: हार के भय और भाजपा को सत्ता में न आने देने की वजह से उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री और सपा के मुखिया अखिलेश यादव ने बुआ जी अर्थात मायावती का हाथ पकड़ने की घोषणा कर दी।

मायावती वही नेता है जिन्हें 25 वर्ष पहले उनके ऊपर समाजवादियों द्वारा राज्य अतिथि गृह मीरा बाई मार्ग लखनऊ में अटैक किया गया था और उनकी जान बचाना भी मुश्किल हो गया था। क्या मायावती उस घटना को भूलकर अखिलेश का साथ लेने में सहमत होगी ....एक बहुत बड़ा प्रश्न है ।

मायावती के अपने सिद्धान्त है और उनकी पार्टी ने उन लोगो को आश्रय दिया है जिन्हें समाजवादी पार्टी ने अपमानित कर पार्टी से निकाला है या अपने अपमान को देखते हुऐ वे स्वंम पार्टी छोड़कर बीएसपी की शरण में गए है। निःसंदेह ऐसे कुछ लोग बुद्धिमान और कुछ बलवान भी है।


जो व्यक्ति सत्ता की लोलुपता में अपने परिवार से बगावत कर सकता है वह दूसरी पार्टी के साथ बगावत करने में कैसे पीछे रह जायेगा......विचारणीय प्रश्न है।

निःसंदेह अखिलेश यादव ने पारिवारिक कलह न की होती और अपने पिता मुलायम सिंह का हाथ न छोड़कर हर निर्णय में उन्हें आगे रखा होता तो निश्चित रूप से मुलायम सिंह यादव द्वारा बनाये गए किले में कभी सेंध न लगती और न कभी धराशायी होता । समाजवादी पार्टी यदि अकेले अपने बल बूते पर चुनाव लड़ती तो अखिलेश को सत्ता का सुख भोगने हेतुे पांच वर्ष का कार्य काल और मिलता।

कांग्रेस मुक्त भारत के नारे से आम हिंदुस्तानी सहमत होता जा रहा है जिसका दुष्परिणाम समाजवादी पार्टी को भी भुगतना पड़ा। पिता मुलायम के सिद्धांतों के विरुद्ध अखिलेश ने राहुल गांधी का साथ लेकर कांग्रेस को अनावश्यक सीटे देकर पार्टी को रसातल में पहुँचा दिया ।

पिता का हाथ न छोड़े होते तो आज बुआ का हाथ थामने की नौबत न आती अखिलेश को

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/specialstories/up-election-2017-akhilesh-why-afraid-22066#.WMGcQfL9n8A.facebook

पिता का हाथ न छोड़े होते तो आज बुआ का हाथ थामने की नौबत न आती अखिलेश को

अगला लेख: इस चुनाव में मायावती के सियासी हालात अच्छे नहीं...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 फरवरी 2017
नई दिल्ली : पुलिस ने मणिपुर के पश्चिम इंफाल जिले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चुनावी रैली से पहले आज यहां दो स्थानों से एक हथगोला और एक बम बरामद किया। मोदी कल यहां चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। बम और हथगोला ऐसे वक्त बरामद किया गया हैं जब राज्य के छह उग्रवादी संगठनों
25 फरवरी 2017
25 फरवरी 2017
जमेशपुर : इंसानिय को शर्मसार करने वाली यह तस्वीर यहां स्थित धालभूमगढ़ थाना क्षेत्र का हैं जहां शुक्रवार को एंबुलेंस नहीं मिलने के कारण आग से झुलसी एक महिला की मौत हो गई. उक्त महिला के परिजन स्वास्थ्य केंद्र को एंबुलेंस के लिए फोन करते रहे, लेकिन उन्हें एंबुलेंस नहीं मिली.
25 फरवरी 2017
25 फरवरी 2017
लखनऊः आज तक न्यूज चैनल के स्टिंग में फंसे यूपी के तीन प्रत्याशियों पर चुनाव आयोग ने मुकदमा दर्ज करने का निर्देश दिया है। बसपा प्रत्याशी अतीक अहमद सैफी, समाजवादी पार्टी के अतुल गर्ग और राकेश वाल्मीकि के खिलाफ तत्काल एक्शन लेने के आदेश दिए गए हैं। इसके लिए चुनाव आयोग ने
25 फरवरी 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x