चाँद फागुन का -- नवगीत

12 मार्च 2017   |  रेणु   (252 बार पढ़ा जा चुका है)

चाँद   फागुन का --  नवगीत

बादल संग आंखमिचौली खेले --

पूरा चाँद सखी फागुन का-- !

संग जगमग तारे -

लगें बहुत ही प्यारे ;

सजा है आँगन आज गगन का !

सखी ! दूध सा चन्दा --

दे मन आनंदा ;

हरमन भाये ये समां पूनम का !

कोई फगुवा गाये --

तो पीहर याद आए ;

झर - झर नीर बहे नयनन का !

सखी अपलक निहारूँ --

मैं तन - मन वारूँ ;

जब चाँद में मुखड़ा दिखे साजन का


अगला लेख: गंगा -- यमुना कब ना थी ज़िंदा इकाई ?


अचंभित हूँ!!!,...मंत्रमुग्ध हूँ!!! ,..गुड़ मुख में रखे गूँगे सा,...जिसका स्वाद तो उसे ज्ञात है,... पर बखान नहीं कर सकता!!!

रेणु
15 मार्च 2018

प्रिय मनोज आपके स्नेह भरे शब्द अनमोल हैं मेरे भाई | सस्नेह आभार |

कोई फगवा गाए तो पीयर याद आद आए

रेणु
14 अप्रैल 2017

धन्यवाद हेम !

रचना की तह तक पहुँचने वाले को समझ आ जाता है - धन्यवाद

रचना की तह तक पहुँचने वाले को समझ आ जाता है - धन्यवाद

तो पीहर याद आए ;
झर - झर बहे नयनन का !

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

चांदा मामा - मेरा एक निबंध है, शायद पढ़ा होगा

रेणु
28 मार्च 2017

पंकज जी -- आपने मेरी रचना को पढ़ा मुझे बहुत ख़ुशी हुई -- पर खेद है कि तकनीकी कारण से इस पंक्ति में एक शब्द आने से रह गया -- ' झर- झर नीर बहे नयनन का ' इसे ऐसे लिखा जाना था-- पर हो नहीं पाया -- इसके लिए खेद है |

बहुत खूबसूरत रेणु जी

रेणु
27 मार्च 2017

आभार !

अलोक सिन्हा
22 मार्च 2017

सुंदर अभिव्यक्ति है | बस ऐसे ही लिखती रहिये |

रेणु
22 मार्च 2017

आभार आलोक जी !

अच्छा प्रयाश,शब्द चयन में और प्रयास करें।

रेणु
18 मई 2017

आभार गोविन्द जी

वाह! बहुत बढ़िया

रेणु
20 मार्च 2017

धन्यवाद मोहित जी --

रंगोत्सव की सपरिवार हार्दिक बधाई आदरणीया रेणु जी, मैं तन - मन वारूँ ; जब चाँद में मुखड़ा दिखे साजन का ......वाह वाह और वाह

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x